Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
28 Sep 2022 · 1 min read

चिरनिन्द्रा

चिरनिन्द्रा

जीत कर चुनाव
हमारे राजनेता
सो जाते हैं चिरनिंद्रा में
चार वर्ष बाद
चुनावी वर्ष में
खुलती है इनकी जाग
जागते ही
लग जाते हैं फिर से
साम-दाम-दण्ड-भेद
आजमाने में

छल-बल करके
जीत जाते हैं चुनाव
उठाते हैं फायदा
आम जनमानस की
चिरनिन्द्रा का

जाने यह चिरनिन्द्रा
कब खुलेगी ?

-विनोद सिल्ला

Language: Hindi
3 Likes · 206 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
रिश्तों की गहराई लिख - संदीप ठाकुर
रिश्तों की गहराई लिख - संदीप ठाकुर
Sandeep Thakur
मेरे ख्वाब ।
मेरे ख्वाब ।
Sonit Parjapati
*** पुद्दुचेरी की सागर लहरें...! ***
*** पुद्दुचेरी की सागर लहरें...! ***
VEDANTA PATEL
भगवान की तलाश में इंसान
भगवान की तलाश में इंसान
Ram Krishan Rastogi
अहंकार
अहंकार
लक्ष्मी वर्मा प्रतीक्षा
*लहरा रहा तिरंगा प्यारा (बाल गीत)*
*लहरा रहा तिरंगा प्यारा (बाल गीत)*
Ravi Prakash
आँशु उसी के सामने बहाना जो आँशु का दर्द समझ सके
आँशु उसी के सामने बहाना जो आँशु का दर्द समझ सके
Rituraj shivem verma
त्वमेव जयते
त्वमेव जयते
DR ARUN KUMAR SHASTRI
चित्रकार उठी चिंकारा बनी किस के मन की आवाज बनी
चित्रकार उठी चिंकारा बनी किस के मन की आवाज बनी
प्रेमदास वसु सुरेखा
Sometimes goals are not houses, cars, and getting the bag! S
Sometimes goals are not houses, cars, and getting the bag! S
पूर्वार्थ
2593.पूर्णिका
2593.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
स्तंभ बिन संविधान
स्तंभ बिन संविधान
Mahender Singh
वो तेरी पहली नज़र
वो तेरी पहली नज़र
Yash Tanha Shayar Hu
डोमिन ।
डोमिन ।
Acharya Rama Nand Mandal
कुछ ख्वाब
कुछ ख्वाब
Rashmi Ratn
गर्मी
गर्मी
Ranjeet kumar patre
नदी की बूंद
नदी की बूंद
Sanjay ' शून्य'
जीवन को जीतती हैं
जीवन को जीतती हैं
Dr fauzia Naseem shad
Insaan badal jata hai
Insaan badal jata hai
Aisha Mohan
एहसास कभी ख़त्म नही होते ,
एहसास कभी ख़त्म नही होते ,
शेखर सिंह
कुंडलिया छंद
कुंडलिया छंद
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
जब कभी उनका ध्यान, मेरी दी हुई ring पर जाता होगा
जब कभी उनका ध्यान, मेरी दी हुई ring पर जाता होगा
The_dk_poetry
चूड़ियां
चूड़ियां
Madhavi Srivastava
"कवि के हृदय में"
Dr. Kishan tandon kranti
तुम्हे वक्त बदलना है,
तुम्हे वक्त बदलना है,
Neelam
दौर ऐसा हैं
दौर ऐसा हैं
SHAMA PARVEEN
संसार के सब रसों में
संसार के सब रसों में
*प्रणय प्रभात*
पवित्र होली का पर्व अपने अद्भुत रंगों से
पवित्र होली का पर्व अपने अद्भुत रंगों से
डा. सूर्यनारायण पाण्डेय
ग़ज़ल
ग़ज़ल
ईश्वर दयाल गोस्वामी
क्यों बदल जाते हैं लोग
क्यों बदल जाते हैं लोग
VINOD CHAUHAN
Loading...