Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
18 May 2023 · 1 min read

“चिढ़ अगर भीगने से है तो

“चिढ़ अगर भीगने से है तो
छतरी, बरसाती, रेन-कोट जैसे
पाखण्ड भी क्यों…?
बैठो अपनी कोठरी में
चैन से दुबक कर।”

■प्रणय प्रभात■

1 Like · 238 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
We just dream to  be rich
We just dream to be rich
Bhupendra Rawat
मेरे लिए
मेरे लिए
Shweta Soni
जब तक हो तन में प्राण
जब तक हो तन में प्राण
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
2640.पूर्णिका
2640.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
अधूरी ख्वाहिशें
अधूरी ख्वाहिशें
Dr. Ramesh Kumar Nirmesh
ऐसा बदला है मुकद्दर ए कर्बला की ज़मी तेरा
ऐसा बदला है मुकद्दर ए कर्बला की ज़मी तेरा
shabina. Naaz
जीवन के पल दो चार
जीवन के पल दो चार
Bodhisatva kastooriya
शब्द शब्द उपकार तेरा ,शब्द बिना सब सून
शब्द शब्द उपकार तेरा ,शब्द बिना सब सून
Namrata Sona
*हमेशा जिंदगी की एक, सी कब चाल होती है (हिंदी गजल)*
*हमेशा जिंदगी की एक, सी कब चाल होती है (हिंदी गजल)*
Ravi Prakash
जीव-जगत आधार...
जीव-जगत आधार...
डॉ.सीमा अग्रवाल
// कामयाबी के चार सूत्र //
// कामयाबी के चार सूत्र //
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
गीत मौसम का
गीत मौसम का
सुशील मिश्रा ' क्षितिज राज '
हम यह सोच रहे हैं, मोहब्बत किससे यहाँ हम करें
हम यह सोच रहे हैं, मोहब्बत किससे यहाँ हम करें
gurudeenverma198
समझौता
समझौता
Dr.Priya Soni Khare
मौन
मौन
लक्ष्मी वर्मा प्रतीक्षा
नरेंद्र
नरेंद्र
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
मेरे पास तुम्हारी कोई निशानी-ए-तस्वीर नहीं है
मेरे पास तुम्हारी कोई निशानी-ए-तस्वीर नहीं है
शिव प्रताप लोधी
मौत की हक़ीक़त है
मौत की हक़ीक़त है
Dr fauzia Naseem shad
फिर से आयेंगे
फिर से आयेंगे
प्रेमदास वसु सुरेखा
सरस्वती वंदना-3
सरस्वती वंदना-3
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
*स्वर्ग तुल्य सुन्दर सा है परिवार हमारा*
*स्वर्ग तुल्य सुन्दर सा है परिवार हमारा*
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
"सूरत और सीरत"
Dr. Kishan tandon kranti
चिराग को जला रोशनी में, हँसते हैं लोग यहाँ पर।
चिराग को जला रोशनी में, हँसते हैं लोग यहाँ पर।
आर.एस. 'प्रीतम'
प्रेम जीवन धन गया।
प्रेम जीवन धन गया।
Pt. Brajesh Kumar Nayak
कोयल (बाल कविता)
कोयल (बाल कविता)
नाथ सोनांचली
हे सर्दी रानी कब आएगी तू,
हे सर्दी रानी कब आएगी तू,
ओनिका सेतिया 'अनु '
जब दिल से दिल ही मिला नहीं,
जब दिल से दिल ही मिला नहीं,
manjula chauhan
नया साल
नया साल
Mahima shukla
सुख- दुःख
सुख- दुःख
Dr. Upasana Pandey
अन्तर्राष्टीय मज़दूर दिवस
अन्तर्राष्टीय मज़दूर दिवस
सत्य कुमार प्रेमी
Loading...