Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
8 Oct 2023 · 1 min read

** चिट्ठी आज न लिखता कोई **

** गीतिका **
~~
यह विकास का क्रम तकनीकी, सब कुछ निगल रहा है।
भावों की सुन्दर कलियों को, हर पल मसल रहा है।

मोबाइल में सब खोए हैं, बातें करते करते।
चिट्ठी आज न लिखता कोई, हर पल निकल रहा है।

नहीं डाकिया दस्तक देता, दरवाजे पर देखो।
परिवर्तन का बढ़ता कितना, भारी दखल रहा है।

पत्र पेटिका में अब कोई, चिठ्ठी क्यों कर डाले।
जब किसी संदेश का मिलना, पल में सफल रहा है।

सब कुछ पीछे छूटा करता, मानव आगे बढ़ता।
भौतिक सुख सुविधा के कारण, युग भी बदल रहा है।

किन्तु पुरानी यादों का भी, है अंदाज निराला।
जब आती बहलाती मन को, व्याकुल मचल रहा है।
~~~~~~~~~~~~~~~~~~~
-सुरेन्द्रपाल वैद्य, ०८/१०/२०२३

2 Likes · 1 Comment · 89 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from surenderpal vaidya
View all
You may also like:
'आप ' से ज़ब तुम, तड़ाक,  तूँ  है
'आप ' से ज़ब तुम, तड़ाक, तूँ है
सिद्धार्थ गोरखपुरी
कैलाशा
कैलाशा
Dr.Pratibha Prakash
"A Dance of Desires"
Manisha Manjari
अदब
अदब
Dr Parveen Thakur
मजदूर दिवस पर एक रचना
मजदूर दिवस पर एक रचना
sushil sarna
कागज के फूल
कागज के फूल
डा गजैसिह कर्दम
*जीवन में खुश रहने की वजह ढूँढना तो वाजिब बात लगती है पर खोद
*जीवन में खुश रहने की वजह ढूँढना तो वाजिब बात लगती है पर खोद
Seema Verma
ऋतु परिवर्तन
ऋतु परिवर्तन
ओमप्रकाश भारती *ओम्*
जब काँटों में फूल उगा देखा
जब काँटों में फूल उगा देखा
VINOD CHAUHAN
मैं असफल और नाकाम रहा!
मैं असफल और नाकाम रहा!
ज्ञानीचोर ज्ञानीचोर
2962.*पूर्णिका*
2962.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
कई आबादियों में से कोई आबाद होता है।
कई आबादियों में से कोई आबाद होता है।
Sanjay ' शून्य'
ग़ज़ल
ग़ज़ल
Shweta Soni
"जब"
Dr. Kishan tandon kranti
पगली
पगली
Kanchan Khanna
ख़ुदा बताया करती थी
ख़ुदा बताया करती थी
Madhuyanka Raj
वोट कर!
वोट कर!
Neelam Sharma
महिला दिवस
महिला दिवस
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
ये मानसिकता हा गलत आये के मोर ददा बबा मन‌ साग भाजी बेचत रहिन
ये मानसिकता हा गलत आये के मोर ददा बबा मन‌ साग भाजी बेचत रहिन
PK Pappu Patel
बन के आंसू
बन के आंसू
Dr fauzia Naseem shad
#ग़ज़ल
#ग़ज़ल
*Author प्रणय प्रभात*
*भ्राता (कुंडलिया)*
*भ्राता (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
जिंदगी भर ख्वाहिशों का बोझ तमाम रहा,
जिंदगी भर ख्वाहिशों का बोझ तमाम रहा,
manjula chauhan
दगा और बफा़
दगा और बफा़
Dr. Akhilesh Baghel "Akhil"
*दीपक सा मन* ( 22 of 25 )
*दीपक सा मन* ( 22 of 25 )
Kshma Urmila
"सुखी हुई पत्ती"
Pushpraj Anant
कलम की दुनिया
कलम की दुनिया
Dr. Vaishali Verma
कैसे देखनी है...?!
कैसे देखनी है...?!
Srishty Bansal
टूटे बहुत है हम
टूटे बहुत है हम
The_dk_poetry
*वो एक वादा ,जो तूने किया था ,क्या हुआ उसका*
*वो एक वादा ,जो तूने किया था ,क्या हुआ उसका*
sudhir kumar
Loading...