Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
8 Aug 2023 · 1 min read

चिकने घड़े

तीरे पर तीर चलाते है जहरीले ,
मगर घायल तो कोई होता नहीं ।
हादसों पर अफसोस का सिलसिला ,
शर्म तो किसी को फिर भी आती नहीं।
अजी! छोड़िए भी इतने ही गैरत मंद होते,
ऐसी निम्न दर्जे की सियासत वो ,
कभी करते ही नहीं ।
न यह घायल होते है न इन्हें शर्म आती है ,
भगवान जाने किस मिट्टी के बने हैं ,
सच मानो चिकने घड़े हैं यह ,
इंसान तो यह सियासत दान है ही नहीं।

Language: Hindi
2 Comments · 465 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from ओनिका सेतिया 'अनु '
View all
You may also like:
■ उदाहरण देने की ज़रूरत नहीं। सब आपके आसपास हैं। तमाम सुर्खिय
■ उदाहरण देने की ज़रूरत नहीं। सब आपके आसपास हैं। तमाम सुर्खिय
*Author प्रणय प्रभात*
रिश्ते-नाते
रिश्ते-नाते
ओमप्रकाश भारती *ओम्*
आपका अनुरोध स्वागत है। यहां एक कविता है जो आपके देश की हवा क
आपका अनुरोध स्वागत है। यहां एक कविता है जो आपके देश की हवा क
कार्तिक नितिन शर्मा
"मीलों में नहीं"
Dr. Kishan tandon kranti
वक्त यूं बीत रहा
वक्त यूं बीत रहा
$úDhÁ MãÚ₹Yá
वक्त को वक्त समझने में इतना वक्त ना लगा देना ,
वक्त को वक्त समझने में इतना वक्त ना लगा देना ,
ज्योति
कड़वा बोलने वालो से सहद नहीं बिकता
कड़वा बोलने वालो से सहद नहीं बिकता
Ranjeet kumar patre
मधुमाश
मधुमाश
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
कुछ भी होगा, ये प्यार नहीं है
कुछ भी होगा, ये प्यार नहीं है
Anil chobisa
घर पर घर
घर पर घर
Surinder blackpen
-- ग़दर 2 --
-- ग़दर 2 --
गायक - लेखक अजीत कुमार तलवार
बने महब्बत में आह आँसू
बने महब्बत में आह आँसू
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
"मनुज बलि नहीं होत है - होत समय बलवान ! भिल्लन लूटी गोपिका - वही अर्जुन वही बाण ! "
Atul "Krishn"
वक्ष स्थल से छलांग / MUSAFIR BAITHA
वक्ष स्थल से छलांग / MUSAFIR BAITHA
Dr MusafiR BaithA
मैं बूढ़ा नहीं
मैं बूढ़ा नहीं
Dr. Rajeev Jain
गांधी का अवतरण नहीं होता 
गांधी का अवतरण नहीं होता 
Dr. Pradeep Kumar Sharma
हमेशा फूल दोस्ती
हमेशा फूल दोस्ती
Shweta Soni
दिल रंज का शिकार है और किस क़दर है आज
दिल रंज का शिकार है और किस क़दर है आज
Sarfaraz Ahmed Aasee
मौन देह से सूक्ष्म का, जब होता निर्वाण ।
मौन देह से सूक्ष्म का, जब होता निर्वाण ।
sushil sarna
संस्कार और अहंकार में बस इतना फर्क है कि एक झुक जाता है दूसर
संस्कार और अहंकार में बस इतना फर्क है कि एक झुक जाता है दूसर
Rj Anand Prajapati
Next
Next
Rajan Sharma
गणपति अभिनंदन
गणपति अभिनंदन
Shyam Sundar Subramanian
घोसी                      क्या कह  रहा है
घोसी क्या कह रहा है
Rajan Singh
ये जिन्दगी तुम्हारी
ये जिन्दगी तुम्हारी
VINOD CHAUHAN
वार्तालाप
वार्तालाप
Pratibha Pandey
वह नही समझ पायेगा कि
वह नही समझ पायेगा कि
Dheerja Sharma
बहुत कुछ जल रहा है अंदर मेरे
बहुत कुछ जल रहा है अंदर मेरे
डॉ. दीपक मेवाती
बिछड़ना जो था हम दोनों को कभी ना कभी,
बिछड़ना जो था हम दोनों को कभी ना कभी,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
तेवरीः तेवरी है, ग़ज़ल नहीं +रमेशराज
तेवरीः तेवरी है, ग़ज़ल नहीं +रमेशराज
कवि रमेशराज
किसी के दिल में चाह तो ,
किसी के दिल में चाह तो ,
Manju sagar
Loading...