Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
18 Jul 2016 · 1 min read

चाहत

18.07.16
तुम्हें टूट कर चाहने की सजा पाये हैं
अब भुला कर तुम्हें, टूटने की चाहत है,,,

शुचि(भवि)

Language: Hindi
Tag: शेर
1 Like · 1 Comment · 370 Views
You may also like:
तानाशाहों का हश्र
Shekhar Chandra Mitra
गुब्बारे वाला
लक्ष्मी सिंह
रुक-रुक बरस रहे मतवारे / (सावन गीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
भूल जाते हो
shabina. Naaz
वाह रे पशु प्रेम ! ( हास्य व्यंग कविता)
ओनिका सेतिया 'अनु '
नंदक वन में
Dr. Girish Chandra Agarwal
आओ और सराहा जाये
Dr. Rajendra Singh 'Rahi'
मंदिर का पत्थर
Deepak Kohli
" एक हद के बाद"
rubichetanshukla रुबी चेतन शुक्ला
क्या फायदा...
Abhishek Pandey Abhi
जीएं हर पल को
Dr fauzia Naseem shad
Advice
Shyam Sundar Subramanian
उजड़ती वने
AMRESH KUMAR VERMA
भारत रत्न श्री नानाजी देशमुख (संस्मरण)
Ravi Prakash
जब कोई साथी साथ नहीं हो
gurudeenverma198
लौट आये पिता
Kavita Chouhan
Writing Challenge- खाली (Empty)
Sahityapedia
"REAL LOVE"
Dushyant Kumar
तिरंगे महोत्सव पर दोहे
Ram Krishan Rastogi
राम केवल एक चुनावी मुद्दा नही हमारे आराध्य है
पंकज कुमार शर्मा 'प्रखर'
✍️पत्थर✍️
'अशांत' शेखर
तेरा साथ मुझको गवारा नहीं है।
सत्य कुमार प्रेमी
अपनी पीर बताते क्यों
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
विनाश की जड़ 'क्रोध' ।
Buddha Prakash
सवाल में ज़िन्दगी के आयाम नए वो दिखाते हैं, और...
Manisha Manjari
🚩साल नूतन तुम्हें प्रेम-यश-मान दे।
Pt. Brajesh Kumar Nayak
गम होते हैं।
Taj Mohammad
जान से प्यारा तिरंगा
डॉ. शिव लहरी
वो हैं , छिपे हुए...
मनोज कर्ण
■ ग़ज़ल / बात है साहब...!!
*Author प्रणय प्रभात*
Loading...