Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
18 Jul 2016 · 1 min read

चाहत

18.07.16
तुम्हें टूट कर चाहने की सजा पाये हैं
अब भुला कर तुम्हें, टूटने की चाहत है,,,

शुचि(भवि)

Language: Hindi
Tag: शेर
1 Like · 1 Comment · 483 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
आज कल के दौर के लोग किसी एक इंसान , परिवार या  रिश्ते को इतन
आज कल के दौर के लोग किसी एक इंसान , परिवार या रिश्ते को इतन
पूर्वार्थ
आदमखोर बना जहाँ,
आदमखोर बना जहाँ,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
दुनिया
दुनिया
Mangilal 713
#लघुकथा / #हिचकी
#लघुकथा / #हिचकी
*Author प्रणय प्रभात*
ज़िंदगी
ज़िंदगी
Dr. Seema Varma
*आपको सब ज्ञान है यह, आपका अभिमान है 【हिंदी गजल/गीतिका】*
*आपको सब ज्ञान है यह, आपका अभिमान है 【हिंदी गजल/गीतिका】*
Ravi Prakash
मैंने तुझे आमवस के चाँद से पूर्णिमा का चाँद बनाया है।
मैंने तुझे आमवस के चाँद से पूर्णिमा का चाँद बनाया है।
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
संगीत का महत्व
संगीत का महत्व
Neeraj Agarwal
........
........
शेखर सिंह
ज़िंदगी तेरी किताब में
ज़िंदगी तेरी किताब में
Dr fauzia Naseem shad
प्रभु श्री राम
प्रभु श्री राम
Mamta Singh Devaa
अष्टम कन्या पूजन करें,
अष्टम कन्या पूजन करें,
Neelam Sharma
21-- 🌸 और वह? 🌸
21-- 🌸 और वह? 🌸
Mahima shukla
दफ़न हो गई मेरी ख्वाहिशे जाने कितने ही रिवाजों मैं,l
दफ़न हो गई मेरी ख्वाहिशे जाने कितने ही रिवाजों मैं,l
गुप्तरत्न
किसी को इतना मत करीब आने दो
किसी को इतना मत करीब आने दो
कवि दीपक बवेजा
सुपर हीरो
सुपर हीरो
Sidhartha Mishra
नारी सम्मान
नारी सम्मान
डॉ प्रवीण कुमार श्रीवास्तव, प्रेम
बाल कविता: मदारी का खेल
बाल कविता: मदारी का खेल
Rajesh Kumar Arjun
ख्याल नहीं थे उम्दा हमारे, इसलिए हालत ऐसी हुई
ख्याल नहीं थे उम्दा हमारे, इसलिए हालत ऐसी हुई
gurudeenverma198
आजकल रिश्तें और मक्कारी एक ही नाम है।
आजकल रिश्तें और मक्कारी एक ही नाम है।
Priya princess panwar
शबनम छोड़ जाए हर रात मुझे मदहोश करने के बाद,
शबनम छोड़ जाए हर रात मुझे मदहोश करने के बाद,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
बेहद मुश्किल हो गया, सादा जीवन आज
बेहद मुश्किल हो गया, सादा जीवन आज
महेश चन्द्र त्रिपाठी
जरूरी बहुत
जरूरी बहुत
surenderpal vaidya
मेरी बेटी मेरा अभिमान
मेरी बेटी मेरा अभिमान
Dr. Pradeep Kumar Sharma
2545.पूर्णिका
2545.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
कोशिश करना छोरो मत,
कोशिश करना छोरो मत,
Ranjeet kumar patre
तेरा होना...... मैं चाह लेता
तेरा होना...... मैं चाह लेता
सिद्धार्थ गोरखपुरी
"ये कविता ही है"
Dr. Kishan tandon kranti
उड़ान
उड़ान
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
" ये धरती है अपनी...
VEDANTA PATEL
Loading...