Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
21 Oct 2016 · 1 min read

चाहते न थोपना पर, हम ज्ञान :: जितेन्द्र कमल आनंद ( पोस्ट७३)

राजयोगमहागीता: घनाक्षरी छंद क्रमॉक७/२१!!सारात्सार–
**********चाहते न थोपना पर, हम ज्ञान इसका,
वेद अतिरिक्त भी है, और उसको कहा ,
होकर समदर्शी जो आत्म- अनुभूति हुई ,
उसको ही मैं यह बिना कहे नहींं रहा ।
करके सत्यार्थ का मनन ,मन सानंद हो ,
भूल गया सारा दुख – दर्द जो मैंने सहा ।
भूल गया द्वैत– द्वैष ,हो गया कृतार्थ मैं हूँ ,
अष्टावक्र गीता की तरंग में ऐसा बहा ।।

—– जितेंद्रकमलआनंद रामपुर ( उत्तर प्रदेश ) भारत

Language: Hindi
575 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
सविनय अभिनंदन करता हूॅं हिंदुस्तानी बेटी का
सविनय अभिनंदन करता हूॅं हिंदुस्तानी बेटी का
महेश चन्द्र त्रिपाठी
"अवध में राम आये हैं"
Ekta chitrangini
बेपर्दा लोगों में भी पर्दा होता है बिल्कुल वैसे ही, जैसे हया
बेपर्दा लोगों में भी पर्दा होता है बिल्कुल वैसे ही, जैसे हया
Sanjay ' शून्य'
"पहरा"
Dr. Kishan tandon kranti
माचिस
माचिस
जय लगन कुमार हैप्पी
24/233. *छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
24/233. *छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
कुछ लोग ऐसे भी मिले जिंदगी में
कुछ लोग ऐसे भी मिले जिंदगी में
शेखर सिंह
*जादू – टोना : वैज्ञानिक समीकरण*
*जादू – टोना : वैज्ञानिक समीकरण*
DR ARUN KUMAR SHASTRI
तुझसे लिपटी बेड़ियां
तुझसे लिपटी बेड़ियां
Sonam Puneet Dubey
तर्कश से बिना तीर निकाले ही मार दूं
तर्कश से बिना तीर निकाले ही मार दूं
Manoj Mahato
मेरी माटी मेरा देश🇮🇳🇮🇳
मेरी माटी मेरा देश🇮🇳🇮🇳
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
दिल के रिश्तों को संभाले रखिए जनाब,
दिल के रिश्तों को संभाले रखिए जनाब,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
कोहली किंग
कोहली किंग
पूर्वार्थ
मायका
मायका
Dr. Pradeep Kumar Sharma
खिलाड़ी
खिलाड़ी
महेश कुमार (हरियाणवी)
Charlie Chaplin truly said:
Charlie Chaplin truly said:
Vansh Agarwal
विराम चिह्न
विराम चिह्न
Neelam Sharma
#लघुकथा- चुनावी साल, वही बवाल
#लघुकथा- चुनावी साल, वही बवाल
*प्रणय प्रभात*
Open mic Gorakhpur
Open mic Gorakhpur
Sandeep Albela
आईना
आईना
Sûrëkhâ
*जी रहें हैँ जिंदगी किस्तों में*
*जी रहें हैँ जिंदगी किस्तों में*
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
लोकतंत्र की आड़ में तानाशाही ?
लोकतंत्र की आड़ में तानाशाही ?
Shyam Sundar Subramanian
मैं उन लोगों से उम्मीद भी नहीं रखता हूं जो केवल मतलब के लिए
मैं उन लोगों से उम्मीद भी नहीं रखता हूं जो केवल मतलब के लिए
Ranjeet kumar patre
स्मरण और विस्मरण से परे शाश्वतता का संग हो
स्मरण और विस्मरण से परे शाश्वतता का संग हो
Manisha Manjari
हर कस्बे हर मोड़ पर,
हर कस्बे हर मोड़ पर,
sushil sarna
मुक़द्दर में लिखे जख्म कभी भी नही सूखते
मुक़द्दर में लिखे जख्म कभी भी नही सूखते
Dr Manju Saini
धर्म-कर्म (भजन)
धर्म-कर्म (भजन)
Sandeep Pande
बाल कविता: लाल भारती माँ के हैं हम
बाल कविता: लाल भारती माँ के हैं हम
नाथ सोनांचली
भारत का सिपाही
भारत का सिपाही
Rajesh
दुश्मन जमाना बेटी का
दुश्मन जमाना बेटी का
लक्ष्मी सिंह
Loading...