Oct 21, 2016 · 1 min read

चाहते न थोपना पर, हम ज्ञान :: जितेन्द्र कमल आनंद ( पोस्ट७३)

राजयोगमहागीता: घनाक्षरी छंद क्रमॉक७/२१!!सारात्सार–
**********चाहते न थोपना पर, हम ज्ञान इसका,
वेद अतिरिक्त भी है, और उसको कहा ,
होकर समदर्शी जो आत्म- अनुभूति हुई ,
उसको ही मैं यह बिना कहे नहींं रहा ।
करके सत्यार्थ का मनन ,मन सानंद हो ,
भूल गया सारा दुख – दर्द जो मैंने सहा ।
भूल गया द्वैत– द्वैष ,हो गया कृतार्थ मैं हूँ ,
अष्टावक्र गीता की तरंग में ऐसा बहा ।।

—– जितेंद्रकमलआनंद रामपुर ( उत्तर प्रदेश ) भारत

226 Views
You may also like:
समय के पंखों में कितनी विचित्रता समायी है।
Manisha Manjari
भारत को क्या हो चला है
Mr Ismail Khan
हमारे जीवन में "पिता" का साया
इंजी. लोकेश शर्मा (लेखक)
सो गया है आदमी
कुमार अविनाश केसर
पिता एक सूरज
डॉ. शिव लहरी
दिनेश कार्तिक
ब्रजनंदन कुमार 'विमल'
ऐ जिंदगी कितने दाँव सिखाती हैं
Dr. Alpa H.
पिता है भावनाओं का समंदर।
Taj Mohammad
नियत मे पर्दा
Vikas Sharma'Shivaaya'
साहब का कुत्ता (हास्य व्यंग्य कहानी)
दुष्यन्त 'बाबा'
प्रेम
Dr.sima
गुरुजी!
Vishnu Prasad 'panchotiya'
बदलती परम्परा
Anamika Singh
एक ख़्वाब।
Taj Mohammad
बना कुंच से कोंच,रेल-पथ विश्रामालय।।
Pt. Brajesh Kumar Nayak
सागर
Vikas Sharma'Shivaaya'
*!* मेरे Idle मुन्शी प्रेमचंद *!*
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
तेरे संग...
Dr. Alpa H.
आगे बढ़,मतदान करें।
Pt. Brajesh Kumar Nayak
बारी है
वीर कुमार जैन 'अकेला'
आ लौट के आजा घनश्याम
Ram Krishan Rastogi
*!* "पिता" के चरणों को नमन *!*
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
क्यों सत अंतस दृश्य नहीं?
AJAY AMITABH SUMAN
मेरे पिता
Ram Krishan Rastogi
बहुआयामी वात्सल्य दोहे
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
सूरज का ताप
सतीश मिश्र "अचूक"
विरह वेदना जब लगी मुझे सताने
Ram Krishan Rastogi
बाबासाहेब 'अंबेडकर '
Buddha Prakash
विसाले यार ना मिलता है।
Taj Mohammad
नई लीक....
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
Loading...