Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
19 May 2023 · 1 min read

चालें बहुत शतरंज की

* गीतिका *
~~
बातें बहुत व्यवहार की, करते हैं लोग।
चालें बहुत शतरंज की, चलते हैं लोग।

अनजान बन जाते मगर, सब है मालूम।
निज स्वार्थ के ही मोहरे, बनते हैं लोग।

हैं मोहरों जैसे अलग, सबके ही ढंग।
बिल्कुल जमाने से नहीं, डरते हैं लोग।

प्यादे मरेंगे ग़म नहीं, सस्ती है जान।
हर एक पग यह सोचकर, धरते हैं लोग।

मन से किया करते नहीं, परहित के कार्य।
लेकिन सहज मासूम से, दिखते हैं लोग।
~~~~~~~~~~~~~~~~
-सुरेन्द्रपाल वैद्य, मण्डी (हि.प्र.)

2 Likes · 2 Comments · 171 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from surenderpal vaidya
View all
You may also like:
!! युवा मन !!
!! युवा मन !!
Akash Yadav
मेनका की मी टू
मेनका की मी टू
Dr. Pradeep Kumar Sharma
सत्य की खोज में।
सत्य की खोज में।
Taj Mohammad
Gone
Gone
*Author प्रणय प्रभात*
*मंथरा (कुंडलिया)*
*मंथरा (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
मकरंद
मकरंद
विनोद वर्मा ‘दुर्गेश’
डॉ अरूण कुमार शास्त्री
डॉ अरूण कुमार शास्त्री
DR ARUN KUMAR SHASTRI
किसी ने कहा- आरे वहां क्या बात है! लड़की हो तो ऐसी, दिल जीत
किसी ने कहा- आरे वहां क्या बात है! लड़की हो तो ऐसी, दिल जीत
जय लगन कुमार हैप्पी
छुप जाता है चाँद, जैसे बादलों की ओट में l
छुप जाता है चाँद, जैसे बादलों की ओट में l
सेजल गोस्वामी
पिता
पिता
Shweta Soni
‼️परिवार संस्था पर ध्यान ज़रूरी हैं‼️
‼️परिवार संस्था पर ध्यान ज़रूरी हैं‼️
Aryan Raj
इश्क बाल औ कंघी
इश्क बाल औ कंघी
Sandeep Pande
' मौन इक सँवाद '
' मौन इक सँवाद '
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
भस्मासुर
भस्मासुर
आनन्द मिश्र
बात है तो क्या बात है,
बात है तो क्या बात है,
Vaishnavi Gupta (Vaishu)
रंजीत कुमार शुक्ल
रंजीत कुमार शुक्ल
Ranjeet kumar Shukla
💐प्रेम कौतुक-495💐
💐प्रेम कौतुक-495💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
सदा ज्ञान जल तैर रूप माया का जाया
सदा ज्ञान जल तैर रूप माया का जाया
Pt. Brajesh Kumar Nayak
ए रब मेरे मरने की खबर उस तक पहुंचा देना
ए रब मेरे मरने की खबर उस तक पहुंचा देना
श्याम सिंह बिष्ट
वो ख्वाब
वो ख्वाब
Mahender Singh
12. घर का दरवाज़ा
12. घर का दरवाज़ा
Rajeev Dutta
"जीवन का प्रमेय"
Dr. Kishan tandon kranti
कैसा फसाना है
कैसा फसाना है
Dinesh Kumar Gangwar
रंगों  की  बरसात की होली
रंगों की बरसात की होली
Vijay kumar Pandey
बेशक मैं उसका और मेरा वो कर्जदार था
बेशक मैं उसका और मेरा वो कर्जदार था
हरवंश हृदय
गुरूर चाँद का
गुरूर चाँद का
Satish Srijan
বড় অদ্ভুত এই শহরের ভীর,
বড় অদ্ভুত এই শহরের ভীর,
Sakhawat Jisan
जिंदगी भी रेत का सच रहतीं हैं।
जिंदगी भी रेत का सच रहतीं हैं।
Neeraj Agarwal
पाती कोई जब लिखता है।
पाती कोई जब लिखता है।
डॉक्टर रागिनी
विजेता
विजेता
Sanjay ' शून्य'
Loading...