Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
13 May 2024 · 1 min read

*चालू झगड़े हैं वहॉं, संस्था जहॉं विशाल (कुंडलिया)*

चालू झगड़े हैं वहॉं, संस्था जहॉं विशाल (कुंडलिया)
_______________________
चालू झगड़े हैं वहॉं, संस्था जहॉं विशाल
टपकी सबकी लार जब, देखा मोटा माल
देखा मोटा माल, दॉंव सब सौ-सौ चलते
क्षत-विक्षत आदर्श, स्वार्थ मन ही मन पलते
कहते रवि कविराय, चले खाने को आलू
जहॉं दिखी संपत्ति, वही दिखते हैं चालू
—————————-
रचयिता: रवि प्रकाश
बाजार सर्राफा, रामपुर, उत्तर प्रदेश
मोबाइल 9997615451

26 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Ravi Prakash
View all
You may also like:
रिश्ता
रिश्ता
Santosh Shrivastava
चंद सवालात हैं खुद से दिन-रात करता हूँ
चंद सवालात हैं खुद से दिन-रात करता हूँ
VINOD CHAUHAN
असुर सम्राट भक्त प्रह्लाद – गर्भ और जन्म – 04
असुर सम्राट भक्त प्रह्लाद – गर्भ और जन्म – 04
Kirti Aphale
सौगंध
सौगंध
Shriyansh Gupta
कँवल कहिए
कँवल कहिए
Dr. Sunita Singh
2831. *पूर्णिका*
2831. *पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
दूसरों के अनुभव से लाभ उठाना भी एक अनुभव है। इसमें सत्साहित्
दूसरों के अनुभव से लाभ उठाना भी एक अनुभव है। इसमें सत्साहित्
Dr. Pradeep Kumar Sharma
मेरा वजूद क्या है
मेरा वजूद क्या है
भरत कुमार सोलंकी
🥀 *गुरु चरणों की धूल*🥀
🥀 *गुरु चरणों की धूल*🥀
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
अहंकार का एटम
अहंकार का एटम
डॉ०छोटेलाल सिंह 'मनमीत'
जब कभी तुमसे इश्क़-ए-इज़हार की बात आएगी,
जब कभी तुमसे इश्क़-ए-इज़हार की बात आएगी,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
डिग्रियों का कभी अभिमान मत करना,
डिग्रियों का कभी अभिमान मत करना,
Ritu Verma
हम बात अपनी सादगी से ही रखें ,शालीनता और शिष्टता कलम में हम
हम बात अपनी सादगी से ही रखें ,शालीनता और शिष्टता कलम में हम
DrLakshman Jha Parimal
सांवली हो इसलिए सुंदर हो
सांवली हो इसलिए सुंदर हो
Aman Kumar Holy
'समय की सीख'
'समय की सीख'
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
क्या देखा है मैंने तुझमें?....
क्या देखा है मैंने तुझमें?....
Amit Pathak
रक्षा बंधन
रक्षा बंधन
Raju Gajbhiye
*जलयान (बाल कविता)*
*जलयान (बाल कविता)*
Ravi Prakash
*बाल गीत (सपना)*
*बाल गीत (सपना)*
Rituraj shivem verma
शीर्षक - खामोशी
शीर्षक - खामोशी
Neeraj Agarwal
तकते थे हम चांद सितारे
तकते थे हम चांद सितारे
Suryakant Dwivedi
"सोचता हूँ"
Dr. Kishan tandon kranti
साझ
साझ
Bodhisatva kastooriya
DR arun कुमार shastri
DR arun कुमार shastri
DR ARUN KUMAR SHASTRI
I love you
I love you
Otteri Selvakumar
हिंदू सनातन धर्म
हिंदू सनातन धर्म
विजय कुमार अग्रवाल
हिरनी जैसी जब चले ,
हिरनी जैसी जब चले ,
sushil sarna
तोलेंगे सब कम मगर,
तोलेंगे सब कम मगर,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
आजादी की चाहत
आजादी की चाहत
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
Love ❤
Love ❤
HEBA
Loading...