Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
22 Jan 2017 · 1 min read

चार सेदोका

प्रदीप कुमार दाश “दीपक”
—————–
चार सेदोका
01.
ईश की धुन
जीवन एक थाप
मन रागिनी सुन
पाखी की भाँति
तृण-तृण को चुन
गुना सृजन गुन ।
—-00—-
02.
दीप से मिला
प्रेम की पराकाष्ठा
दीप बना निर्मम
प्राण अर्पण
प्रेम हुआ अमर
जल उठा पतंग ।
—-00—-
03.
माँ केवल माँ
नहीं चाहिए उसे
व्यर्थ कोई उपमा
गुम जाती है
“उप”उपसर्ग से
माँ की वह महिमा ।
—-00—-
04.
दीप जलाएँ
तम को पी जाने का
आओ हूनर सीखें
जगमगाएँ
तम से लड़ कर
आओ राह दिखाएँ ।
—-000—-
– प्रदीप कुमार दाश “दीपक”
मो.नं. – 7828104111
pkdash399@gmail.com

Language: Hindi
448 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
आजकल के बच्चे घर के अंदर इमोशनली बहुत अकेले होते हैं। माता-प
आजकल के बच्चे घर के अंदर इमोशनली बहुत अकेले होते हैं। माता-प
पूर्वार्थ
महसूस करो दिल से
महसूस करो दिल से
Dr fauzia Naseem shad
जीवित रहने से भी बड़ा कार्य है मरने के बाद भी अपने कर्मो से
जीवित रहने से भी बड़ा कार्य है मरने के बाद भी अपने कर्मो से
Rj Anand Prajapati
"दुमका संस्मरण 3" परिवहन सेवा (1965)
DrLakshman Jha Parimal
गुमाँ हैं हमको हम बंदर से इंसाँ बन चुके हैं पर
गुमाँ हैं हमको हम बंदर से इंसाँ बन चुके हैं पर
Johnny Ahmed 'क़ैस'
जज्बात लिख रहा हूॅ॑
जज्बात लिख रहा हूॅ॑
VINOD CHAUHAN
हृदय की चोट थी नम आंखों से बह गई
हृदय की चोट थी नम आंखों से बह गई
इंजी. संजय श्रीवास्तव
🙏
🙏
Neelam Sharma
स्वर्ग से सुंदर समाज की कल्पना
स्वर्ग से सुंदर समाज की कल्पना
Ritu Asooja
*** कभी-कभी.....!!! ***
*** कभी-कभी.....!!! ***
VEDANTA PATEL
राम काव्य मन्दिर बना,
राम काव्य मन्दिर बना,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
मन की किताब
मन की किताब
Neeraj Agarwal
हो असत का नगर तो नगर छोड़ दो।
हो असत का नगर तो नगर छोड़ दो।
Sanjay ' शून्य'
#मज़दूर
#मज़दूर
Dr. Priya Gupta
मारुति मं बालम जी मनैं
मारुति मं बालम जी मनैं
gurudeenverma198
*हुआ देश आजाद तिरंगा, लहर-लहर लहराता (देशभक्ति गीत)*
*हुआ देश आजाद तिरंगा, लहर-लहर लहराता (देशभक्ति गीत)*
Ravi Prakash
उम्मीद है दिल में
उम्मीद है दिल में
Surinder blackpen
कोरोना और मां की ममता (व्यंग्य)
कोरोना और मां की ममता (व्यंग्य)
Dr. Pradeep Kumar Sharma
"असलियत"
Dr. Kishan tandon kranti
गुनगुनाने यहां लगा, फिर से एक फकीर।
गुनगुनाने यहां लगा, फिर से एक फकीर।
Suryakant Dwivedi
भारत के सैनिक
भारत के सैनिक
नवीन जोशी 'नवल'
हे कौन वहां अन्तश्चेतना में
हे कौन वहां अन्तश्चेतना में
सुशील मिश्रा ' क्षितिज राज '
मातृभाषा हिन्दी
मातृभाषा हिन्दी
डॉ०छोटेलाल सिंह 'मनमीत'
Ranjeet Kumar Shukla
Ranjeet Kumar Shukla
Ranjeet kumar Shukla
■ एक_पैग़ाम :-
■ एक_पैग़ाम :-
*Author प्रणय प्रभात*
ये जीवन किसी का भी,
ये जीवन किसी का भी,
Dr. Man Mohan Krishna
2317.पूर्णिका
2317.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
मुझ में
मुझ में
हिमांशु Kulshrestha
सबको सिर्फ़ चमकना है अंधेरा किसी को नहीं चाहिए।
सबको सिर्फ़ चमकना है अंधेरा किसी को नहीं चाहिए।
Harsh Nagar
मौत आने के बाद नहीं खुलती वह आंख जो जिंदा में रोती है
मौत आने के बाद नहीं खुलती वह आंख जो जिंदा में रोती है
Anand.sharma
Loading...