Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
5 Sep 2022 · 1 min read

*चार साल की उम्र हमारी ( बाल-कविता/बाल गीतिका )*

चार साल की उम्र हमारी ( बाल-कविता/बाल गीतिका )
_________________________________
1
चार साल की उम्र हमारी, साइकिल खूब चलाते
बाबा जी के संग पार्क में, रोज घूमने जाते
2
आगे-आगे हम साइकिल पर, लंबी दौड़ लगाते
पीछे-पीछे बाबा जी भी, दौड़े-भागे आते
3
सड़कों पर है भीड़-भाड़ अब, सभी जगह ही ज्यादा
आड़ी-तिरछी मोड़ साइकिल, बाबा हमें बचाते
4
हमसे तेज दौड़ना आता, बाबा ठहरे बूढ़े
उन्हें पार्क के चक्कर में हम, जमकर खूब हराते
5
हमें पार्क की हरियाली के, सुंदर दृश्य लुभाते
सपने में भी पार्क देखकर, हम अक्सर मुस्काते
———————————————
रचयिता : रवि प्रकाश
बाजार सर्राफा
रामपुर उत्तर प्रदेश
मोबाइल 99976 15451

278 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Ravi Prakash
View all
You may also like:
सत्य की खोज
सत्य की खोज
लक्ष्मी सिंह
आज पलटे जो ख़्बाब के पन्ने - संदीप ठाकुर
आज पलटे जो ख़्बाब के पन्ने - संदीप ठाकुर
Sandeep Thakur
हर लम्हे में
हर लम्हे में
Sangeeta Beniwal
एक नम्बर सबके फोन में ऐसा होता है
एक नम्बर सबके फोन में ऐसा होता है
Rekha khichi
*सर्दी (बाल कविता)*
*सर्दी (बाल कविता)*
Ravi Prakash
याद करेगा कौन फिर, मर जाने के बाद
याद करेगा कौन फिर, मर जाने के बाद
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
प्रभु जी हम पर कृपा करो
प्रभु जी हम पर कृपा करो
Vishnu Prasad 'panchotiya'
सबसे बढ़कर जगत में मानवता है धर्म।
सबसे बढ़कर जगत में मानवता है धर्म।
महेश चन्द्र त्रिपाठी
सूरज आएगा Suraj Aayega
सूरज आएगा Suraj Aayega
Mohan Pandey
क़ीमत नहीं होती
क़ीमत नहीं होती
Dr fauzia Naseem shad
!! फिर तात तेरा कहलाऊँगा !!
!! फिर तात तेरा कहलाऊँगा !!
Akash Yadav
Right now I'm quite notorious ,
Right now I'm quite notorious ,
Sukoon
विचार
विचार
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
क्या मथुरा क्या काशी जब मन में हो उदासी ?
क्या मथुरा क्या काशी जब मन में हो उदासी ?
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
दहलीज़ पराई हो गई जब से बिदाई हो गई
दहलीज़ पराई हो गई जब से बिदाई हो गई
सुशील मिश्रा ' क्षितिज राज '
"इस्राइल -गाज़ा युध्य
DrLakshman Jha Parimal
झरोखा
झरोखा
Sandeep Pande
एक पुरुष कभी नपुंसक नहीं होता बस उसकी सोच उसे वैसा बना देती
एक पुरुष कभी नपुंसक नहीं होता बस उसकी सोच उसे वैसा बना देती
Rj Anand Prajapati
भूख
भूख
नाथ सोनांचली
2836. *पूर्णिका*
2836. *पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
इस मुस्कुराते चेहरे की सुर्ख रंगत पर न जा,
इस मुस्कुराते चेहरे की सुर्ख रंगत पर न जा,
डी. के. निवातिया
मेरी धुन में, तेरी याद,
मेरी धुन में, तेरी याद,
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
********* बुद्धि  शुद्धि  के दोहे *********
********* बुद्धि शुद्धि के दोहे *********
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
नव वर्ष
नव वर्ष
RAKESH RAKESH
17)”माँ”
17)”माँ”
Sapna Arora
आंधी
आंधी
Aman Sinha
गाँव की याद
गाँव की याद
Rajdeep Singh Inda
दिल साफ होना चाहिए,
दिल साफ होना चाहिए,
Jay Dewangan
💐प्रेम कौतुक-369💐
💐प्रेम कौतुक-369💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
ये दुनिया है
ये दुनिया है
Jeewan Singh 'जीवनसवारो'
Loading...