Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
5 May 2023 · 1 min read

चाय बस चाय हैं कोई शराब थोड़ी है।

चाय बस चाय हैं कोई शराब थोड़ी है।
उड़ने दो अफवाहों को यह सेहत के लिए खराब थोड़ी है.
विशाल बाबू ✍️✍️

590 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
दोयम दर्जे के लोग
दोयम दर्जे के लोग
Sanjay ' शून्य'
समझदारी का न करे  ,
समझदारी का न करे ,
Pakhi Jain
"तब तुम क्या करती"
Lohit Tamta
*आओ बच्चों सीख सिखाऊँ*
*आओ बच्चों सीख सिखाऊँ*
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
3061.*पूर्णिका*
3061.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
*यूं सताना आज़माना छोड़ दे*
*यूं सताना आज़माना छोड़ दे*
sudhir kumar
सुप्रभात
सुप्रभात
डॉक्टर रागिनी
बढ़ती हुई समझ
बढ़ती हुई समझ
शेखर सिंह
जान लो पहचान लो
जान लो पहचान लो
अभिषेक पाण्डेय 'अभि ’
यह जीवन भूल भूलैया है
यह जीवन भूल भूलैया है
VINOD CHAUHAN
दोहा
दोहा
दुष्यन्त 'बाबा'
#तेवरी / #अफ़सरी
#तेवरी / #अफ़सरी
*Author प्रणय प्रभात*
डॉ. जसवंतसिंह जनमेजय का प्रतिक्रिया पत्र लेखन कार्य अभूतपूर्व है
डॉ. जसवंतसिंह जनमेजय का प्रतिक्रिया पत्र लेखन कार्य अभूतपूर्व है
आर एस आघात
जो आपका गुस्सा सहन करके भी आपका ही साथ दें,
जो आपका गुस्सा सहन करके भी आपका ही साथ दें,
Ranjeet kumar patre
मजबूरियों से ज़िन्दा रहा,शौक में मारा गया
मजबूरियों से ज़िन्दा रहा,शौक में मारा गया
पूर्वार्थ
पापा
पापा
Dr. Ramesh Kumar Nirmesh
गज़ल
गज़ल
करन ''केसरा''
लाल बचा लो इसे जरा👏
लाल बचा लो इसे जरा👏
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
A Little Pep Talk
A Little Pep Talk
Ahtesham Ahmad
सिर्फ यह कमी थी मुझमें
सिर्फ यह कमी थी मुझमें
gurudeenverma198
संसाधन का दोहन
संसाधन का दोहन
Buddha Prakash
"बेटियाँ"
Dr. Kishan tandon kranti
एक नारी की पीड़ा
एक नारी की पीड़ा
Ram Krishan Rastogi
संवरना हमें भी आता है मगर,
संवरना हमें भी आता है मगर,
ओसमणी साहू 'ओश'
किए जिन्होंने देश हित
किए जिन्होंने देश हित
महेश चन्द्र त्रिपाठी
प्यार जिंदगी का
प्यार जिंदगी का
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
शीत की शब में .....
शीत की शब में .....
sushil sarna
मेनका की ‘मी टू’
मेनका की ‘मी टू’
Dr. Pradeep Kumar Sharma
*मोती बनने में मजा, वरना क्या औकात (कुंडलिया)*
*मोती बनने में मजा, वरना क्या औकात (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
अरे वो बाप तुम्हें,
अरे वो बाप तुम्हें,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
Loading...