Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
5 Mar 2024 · 1 min read

चाय और सिगरेट

सेवा में स्कूल का, खुला हुआ था गेट।
पर बच्चे पीते मिले, चाय और सिगरेट।
चाय और सिगरेट, धुँआ भी छोड़ रहे थे।
सपनों को अय्याश, नशे में तोड़ रहे थे।
गए नशे में डूब, चखेंगे कैसे मेवा।
हे कलयुग के बाप, करो तुम इनकी सेवा।।

– आकाश महेशपुरी
दिनांक- 02/03/2024

1 Like · 102 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
भूल गई
भूल गई
Pratibha Pandey
लखनऊ शहर
लखनऊ शहर
डॉ प्रवीण कुमार श्रीवास्तव, प्रेम
अंतरराष्ट्रीय महिला दिवस :इंस्पायर इंक्लूजन
अंतरराष्ट्रीय महिला दिवस :इंस्पायर इंक्लूजन
Dr.Rashmi Mishra
वापस आना वीर
वापस आना वीर
लक्ष्मी सिंह
शांति के लिए अगर अन्तिम विकल्प झुकना
शांति के लिए अगर अन्तिम विकल्प झुकना
Paras Nath Jha
जहाँ खुदा है
जहाँ खुदा है
शेखर सिंह
"वृद्धाश्रम"
Radhakishan R. Mundhra
तू नहीं है तो ये दुनियां सजा सी लगती है।
तू नहीं है तो ये दुनियां सजा सी लगती है।
सत्य कुमार प्रेमी
तुम लौट आओ ना
तुम लौट आओ ना
Anju ( Ojhal )
जिसके पास ज्ञान है,
जिसके पास ज्ञान है,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
मेरा कौन यहाँ 🙏
मेरा कौन यहाँ 🙏
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
*सवर्ण (उच्च जाति)और शुद्र नीच (जाति)*
*सवर्ण (उच्च जाति)और शुद्र नीच (जाति)*
Rituraj shivem verma
रिश्तों की गहराई लिख - संदीप ठाकुर
रिश्तों की गहराई लिख - संदीप ठाकुर
Sandeep Thakur
*दहेज: छह दोहे*
*दहेज: छह दोहे*
Ravi Prakash
मैं जानता हूॅ॑ उनको और उनके इरादों को
मैं जानता हूॅ॑ उनको और उनके इरादों को
VINOD CHAUHAN
मेरी हस्ती
मेरी हस्ती
Shyam Sundar Subramanian
उसकी सौंपी हुई हर निशानी याद है,
उसकी सौंपी हुई हर निशानी याद है,
Vishal babu (vishu)
आप हो न
आप हो न
Dr fauzia Naseem shad
गल्प इन किश एंड मिश
गल्प इन किश एंड मिश
प्रेमदास वसु सुरेखा
"प्रवास"
Dr. Kishan tandon kranti
3218.*पूर्णिका*
3218.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
पराक्रम दिवस
पराक्रम दिवस
Bodhisatva kastooriya
मईया के आने कि आहट
मईया के आने कि आहट
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
पोषित करते अर्थ से,
पोषित करते अर्थ से,
sushil sarna
मिलती नहीं खुशी अब ज़माने पहले जैसे कहीं भी,
मिलती नहीं खुशी अब ज़माने पहले जैसे कहीं भी,
manjula chauhan
जीवन मार्ग आसान है...!!!!
जीवन मार्ग आसान है...!!!!
Jyoti Khari
चढ़ा हूँ मैं गुमनाम, उन सीढ़ियों तक
चढ़ा हूँ मैं गुमनाम, उन सीढ़ियों तक
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
नहीं अब कभी ऐसा, नहीं होगा हमसे
नहीं अब कभी ऐसा, नहीं होगा हमसे
gurudeenverma198
न बीत गई ना बात गई
न बीत गई ना बात गई
Mrs PUSHPA SHARMA {पुष्पा शर्मा अपराजिता}
गुमनामी ओढ़ लेती है वो लड़की
गुमनामी ओढ़ लेती है वो लड़की
Satyaveer vaishnav
Loading...