Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
17 May 2024 · 1 min read

चांद मुख पे धब्बे क्यों हैं आज तुम्हें बताऊंगी।

(चाॅंद की मां का दर्द)
😂😂😂😂😂😂
मुक्तक

चांद मुख पे धब्बे क्यों हैं, आज तुम्हें बताऊंगी।
इसका दर्द सहा‌ है मैंने, अब मैं नहीं छुपाऊंगी।
जन्मा था जब चांद नहीं था टीका ये चेचक वाला,
अगर‌ भेज दें मोदी जी, मैं बेटे को लगवाऊंगी।

………✍️ सत्य कुमार प्रेमी

31 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
फूल मोंगरा
फूल मोंगरा
डॉ विजय कुमार कन्नौजे
मसरूफियत बढ़ गई है
मसरूफियत बढ़ गई है
Harminder Kaur
मन को कर देता हूँ मौसमो के साथ
मन को कर देता हूँ मौसमो के साथ
सुशील मिश्रा ' क्षितिज राज '
Struggle to conserve natural resources
Struggle to conserve natural resources
Desert fellow Rakesh
हिन्दी
हिन्दी
Bodhisatva kastooriya
नया साल
नया साल
Dr fauzia Naseem shad
जी20
जी20
लक्ष्मी सिंह
है माँ
है माँ
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
स्वर्ग से सुन्दर
स्वर्ग से सुन्दर
Dr. Pradeep Kumar Sharma
"सन्त रविदास जयन्ती" 24/02/2024 पर विशेष ...
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
यूं ही नहीं मिल जाती मंजिल,
यूं ही नहीं मिल जाती मंजिल,
Sunil Maheshwari
सितारों को आगे बढ़ना पड़ेगा,
सितारों को आगे बढ़ना पड़ेगा,
Slok maurya "umang"
..........
..........
शेखर सिंह
फूल और कांटे
फूल और कांटे
अखिलेश 'अखिल'
😊गर्व की बात😊
😊गर्व की बात😊
*प्रणय प्रभात*
— ये नेता हाथ क्यूं जोड़ते हैं ??–
— ये नेता हाथ क्यूं जोड़ते हैं ??–
गायक - लेखक अजीत कुमार तलवार
अब तो ऐसा कोई दिया जलाया जाये....
अब तो ऐसा कोई दिया जलाया जाये....
shabina. Naaz
हम भी तो देखे
हम भी तो देखे
हिमांशु Kulshrestha
जीवन है बस आँखों की पूँजी
जीवन है बस आँखों की पूँजी
Suryakant Dwivedi
कामना के प्रिज़्म
कामना के प्रिज़्म
Davina Amar Thakral
राहतों की हो गयी है मुश्किलों से दोस्ती,
राहतों की हो गयी है मुश्किलों से दोस्ती,
Abhishek Shrivastava "Shivaji"
---- विश्वगुरु ----
---- विश्वगुरु ----
सूरज राम आदित्य (Suraj Ram Aditya)
"सब्र"
Dr. Kishan tandon kranti
जीवन की परख
जीवन की परख
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
*आओ फिर से याद करें हम, भारत के इतिहास को (हिंदी गजल)*
*आओ फिर से याद करें हम, भारत के इतिहास को (हिंदी गजल)*
Ravi Prakash
बहुत कीमती है पानी,
बहुत कीमती है पानी,
Anil Mishra Prahari
बीतते वक्त के संग-संग,दूर होते रिश्तों की कहानी,
बीतते वक्त के संग-संग,दूर होते रिश्तों की कहानी,
Rituraj shivem verma
इंतहा
इंतहा
Kanchan Khanna
International Yoga Day
International Yoga Day
Tushar Jagawat
राही
राही
Neeraj Agarwal
Loading...