Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
23 Aug 2023 · 1 min read

चांद पे हमको

होकर तैयार कब से बैठे हैं ।
लेकर जाए वो चांद पर हमको ।।

डाॅ फौज़िया नसीम शाद

Language: Hindi
8 Likes · 263 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Dr fauzia Naseem shad
View all
You may also like:
कि  इतनी भीड़ है कि मैं बहुत अकेली हूं ,
कि इतनी भीड़ है कि मैं बहुत अकेली हूं ,
Mamta Rawat
.*यादों के पन्ने.......
.*यादों के पन्ने.......
Naushaba Suriya
वैज्ञानिक चेतना की तलाश
वैज्ञानिक चेतना की तलाश
Shekhar Chandra Mitra
"अविस्मरणीय"
Dr. Kishan tandon kranti
*मन का मीत छले*
*मन का मीत छले*
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
इच्छाएं.......
इच्छाएं.......
पूर्वार्थ
चार दिन की जिंदगानी है यारों,
चार दिन की जिंदगानी है यारों,
Anamika Tiwari 'annpurna '
महंगाई के इस दौर में भी
महंगाई के इस दौर में भी
Kailash singh
मोहब्बत में मोहब्बत से नजर फेरा,
मोहब्बत में मोहब्बत से नजर फेरा,
goutam shaw
धड़कन से धड़कन मिली,
धड़कन से धड़कन मिली,
sushil sarna
तू ही बता, करूं मैं क्या
तू ही बता, करूं मैं क्या
Aditya Prakash
राम जपन क्यों छोड़ दिया
राम जपन क्यों छोड़ दिया
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
राजनीति
राजनीति
Bodhisatva kastooriya
दो शे'र
दो शे'र
डॉक्टर वासिफ़ काज़ी
घट भर पानी राखिये पंक्षी प्यास बुझाय |
घट भर पानी राखिये पंक्षी प्यास बुझाय |
Gaurav Pathak
दानवता की पोषक
दानवता की पोषक
*Author प्रणय प्रभात*
*राजा रानी हुए कहानी (बाल कविता)*
*राजा रानी हुए कहानी (बाल कविता)*
Ravi Prakash
इस मुकाम पे तुझे क्यूं सूझी बिछड़ने की
इस मुकाम पे तुझे क्यूं सूझी बिछड़ने की
शिव प्रताप लोधी
असुर सम्राट भक्त प्रह्लाद – तपोभूमि की यात्रा – 06
असुर सम्राट भक्त प्रह्लाद – तपोभूमि की यात्रा – 06
Kirti Aphale
चोट
चोट
आकांक्षा राय
साँप ...अब माफिक -ए -गिरगिट  हो गया है
साँप ...अब माफिक -ए -गिरगिट हो गया है
सिद्धार्थ गोरखपुरी
खोदकर इक शहर देखो लाश जंगल की मिलेगी
खोदकर इक शहर देखो लाश जंगल की मिलेगी
Johnny Ahmed 'क़ैस'
मै ना सुनूंगी
मै ना सुनूंगी
भरत कुमार सोलंकी
वक्त के साथ-साथ चलना मुनासिफ है क्या
वक्त के साथ-साथ चलना मुनासिफ है क्या
कवि दीपक बवेजा
सदा दूर रहो गम की परछाइयों से,
सदा दूर रहो गम की परछाइयों से,
Ranjeet kumar patre
सम्मान करे नारी
सम्मान करे नारी
Dr fauzia Naseem shad
"शिक्षक"
Dr Meenu Poonia
dr arun kumar shastri
dr arun kumar shastri
DR ARUN KUMAR SHASTRI
विपरीत परिस्थितियों में भी तुरंत फैसला लेने की क्षमता ही सफल
विपरीत परिस्थितियों में भी तुरंत फैसला लेने की क्षमता ही सफल
Paras Nath Jha
अपूर्ण नींद और किसी भी मादक वस्तु का नशा दोनों ही शरीर को अन
अपूर्ण नींद और किसी भी मादक वस्तु का नशा दोनों ही शरीर को अन
Rj Anand Prajapati
Loading...