Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
4 Nov 2023 · 1 min read

*चांद नहीं मेरा महबूब*

देखकर नूर तेरे चेहरे पर आज
फ़ीका पड़ गया है आसमां का चांद
शायद इसीलिए छुप गया है बादलों में कहीं
देखकर तुझे शरमा रहा है आसमां का चांद

जानता नहीं है तू आज उसके इंतज़ार में है
जान जाता तो आ जाता आसमां का चांद
फिर देखकर ख़ूबसूरती तेरी यकीनन
बादलों में खो जाता वो आसमां का चांद

ज़माने को चांद सी महबूबा चाहिए
इसी गुरूर में रहता है आसमां का चांद
मेरे महबूब पर तो लाख चांद क़ुर्बान
फिर क्या करना मुझे आसमां का चांद

ये तो आता जाता रहता है
किसी का हो नहीं सकता आसमां का चांद
ये तो पल पल बदलता है
कभी एक सा दिखता नहीं आसमां का चांद

कभी चांद से तुलना नहीं करते महबूब की
उस पर तो क़ुर्बान हज़ारों आसमां के चांद
जन्नत का अहसास होता है महबूब के साथ
जन्नत का तो अंश मात्र है आसमां का चांद।

4 Likes · 1 Comment · 1979 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
उसका प्यार
उसका प्यार
Dr MusafiR BaithA
मत रो मां
मत रो मां
Shekhar Chandra Mitra
शहर की गर्मी में वो छांव याद आता है, मस्ती में बिता जहाँ बचप
शहर की गर्मी में वो छांव याद आता है, मस्ती में बिता जहाँ बचप
Shubham Pandey (S P)
हकीकत
हकीकत
dr rajmati Surana
आपात स्थिति में रक्तदान के लिए आमंत्रण देने हेतु सोशल मीडिया
आपात स्थिति में रक्तदान के लिए आमंत्रण देने हेतु सोशल मीडिया
*Author प्रणय प्रभात*
"कंचे का खेल"
Dr. Kishan tandon kranti
"धूप-छाँव" ग़ज़ल
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
रिश्तों को नापेगा दुनिया का पैमाना
रिश्तों को नापेगा दुनिया का पैमाना
Anil chobisa
सुभाष चन्द्र बोस
सुभाष चन्द्र बोस
डॉ०छोटेलाल सिंह 'मनमीत'
कर्मों से ही होती है पहचान इंसान की,
कर्मों से ही होती है पहचान इंसान की,
शेखर सिंह
बदल लिया ऐसे में, अपना विचार मैंने
बदल लिया ऐसे में, अपना विचार मैंने
gurudeenverma198
दोहा
दोहा
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
बखान गुरु महिमा की,
बखान गुरु महिमा की,
Yogendra Chaturwedi
बनाकर रास्ता दुनिया से जाने को क्या है
बनाकर रास्ता दुनिया से जाने को क्या है
कवि दीपक बवेजा
🙏
🙏
Neelam Sharma
আজকের মানুষ
আজকের মানুষ
Ahtesham Ahmad
नयी भोर का स्वप्न
नयी भोर का स्वप्न
Arti Bhadauria
भारत वर्ष (शक्ति छन्द)
भारत वर्ष (शक्ति छन्द)
नाथ सोनांचली
पिघलता चाँद ( 8 of 25 )
पिघलता चाँद ( 8 of 25 )
Kshma Urmila
ये पांच बातें
ये पांच बातें
Yash mehra
आँखों से काजल चुरा,
आँखों से काजल चुरा,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
ख़्वाब टूटा
ख़्वाब टूटा
Dr fauzia Naseem shad
2430.पूर्णिका
2430.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
💐प्रेम कौतुक-486💐
💐प्रेम कौतुक-486💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
तुलसी न होते तो न, होती लोकप्रिय कथा (घनाक्षरी)
तुलसी न होते तो न, होती लोकप्रिय कथा (घनाक्षरी)
Ravi Prakash
रामबाण
रामबाण
Pratibha Pandey
प्रिये
प्रिये
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
तेरा मेरा साथ
तेरा मेरा साथ
Kanchan verma
आईने में देखकर खुद पर इतराते हैं लोग...
आईने में देखकर खुद पर इतराते हैं लोग...
Nitesh Kumar Srivastava
ज़िंदगी
ज़िंदगी
लोकेश शर्मा 'अवस्थी'
Loading...