Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
23 Aug 2023 · 1 min read

चाँद पर रखकर कदम ये यान भी इतराया है

रक्खा आखिरकार हमने चाँद पर पहला कदम
सिद्ध कर दिखला दिया है हौसलों में ख़ूब दम
विश्व गुरु यूँ ही नहीं कहता हमें संसार है
गर्व से कहते सभी से हम किसी से भी न कम

चाँद पर रखकर कदम ये यान भी इतराया है
शान से इसने तिरंगा चाँद पर फहराया है
गर्व है वैज्ञानिकों पर करते हम उनको नमन
जिनकी मेहनत ने हमें दिन आज ये दिखलाया है

डॉ अर्चना गुप्ता

1 Like · 478 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Dr Archana Gupta
View all
You may also like:
चाहत किसी को चाहने की है करते हैं सभी
चाहत किसी को चाहने की है करते हैं सभी
SUNIL kumar
उधार  ...
उधार ...
sushil sarna
इश्क
इश्क
Neeraj Mishra " नीर "
मैं खुद से कर सकूं इंसाफ
मैं खुद से कर सकूं इंसाफ
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
मैं नहीं तो कोई और सही
मैं नहीं तो कोई और सही
Shekhar Chandra Mitra
ॐ
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
आपकी वजह से किसी को दर्द ना हो
आपकी वजह से किसी को दर्द ना हो
Aarti sirsat
*मनुष्य शरीर*
*मनुष्य शरीर*
Shashi kala vyas
शिवांश को जन्म दिवस की बधाई
शिवांश को जन्म दिवस की बधाई
विक्रम कुमार
*अज्ञानी की कलम*
*अज्ञानी की कलम*
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
बोलती आंखें🙏
बोलती आंखें🙏
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
*अपने करते द्वेष हैं, अपने भीतरघात (कुंडलिया)*
*अपने करते द्वेष हैं, अपने भीतरघात (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
नारी
नारी
Dr Archana Gupta
*****गणेश आये*****
*****गणेश आये*****
Kavita Chouhan
23/79.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
23/79.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
अमीरों का देश
अमीरों का देश
Ram Babu Mandal
"अकेलापन"
Pushpraj Anant
" अब कोई नया काम कर लें "
DrLakshman Jha Parimal
मुझे कल्पनाओं से हटाकर मेरा नाता सच्चाई से जोड़ता है,
मुझे कल्पनाओं से हटाकर मेरा नाता सच्चाई से जोड़ता है,
Vaishnavi Gupta (Vaishu)
बाल कविता : रेल
बाल कविता : रेल
Rajesh Kumar Arjun
डर डर के उड़ रहे पंछी
डर डर के उड़ रहे पंछी
डॉ. शिव लहरी
अधखिला फूल निहार रहा है
अधखिला फूल निहार रहा है
VINOD CHAUHAN
About your heart
About your heart
Bidyadhar Mantry
■ उलाहना
■ उलाहना
*Author प्रणय प्रभात*
मईया के आने कि आहट
मईया के आने कि आहट
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
चाँद से मुलाकात
चाँद से मुलाकात
Kanchan Khanna
अंतर्मन
अंतर्मन
Dr. Mahesh Kumawat
काले दिन ( समीक्षा)
काले दिन ( समीक्षा)
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
भाव
भाव
Sanjay ' शून्य'
आपको हम
आपको हम
Dr fauzia Naseem shad
Loading...