Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
8 Jul 2016 · 1 min read

चाँद तुमको समझने लगे हैं।

वो तूफानों से यूूं दूर रहने लगे हैं।
संभल के बहुत वो चलने लगे हैं।

मिला जब से फरेब अपनो से है
हर कदम पे रूक के चलने लगे हैं।

सितारों की तमन्ना तो न की थी
अपना चाँद तुमके समझने लगे हैं।

शहर में अब के भीड़ बहुत थी मगर
कदम तुझे देख के ही रूकने लगे हैं।।।
कामनी गुप्ता***

240 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
हैं फुर्सत के पल दो पल, तुझे देखने के लिए,
हैं फुर्सत के पल दो पल, तुझे देखने के लिए,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
*होय जो सबका मंगल*
*होय जो सबका मंगल*
Poonam Matia
अगर लोग आपको rude समझते हैं तो समझने दें
अगर लोग आपको rude समझते हैं तो समझने दें
ruby kumari
लड़कियों की जिंदगी आसान नहीं होती
लड़कियों की जिंदगी आसान नहीं होती
Adha Deshwal
मुझको अपनी शरण में ले लो हे मनमोहन हे गिरधारी
मुझको अपनी शरण में ले लो हे मनमोहन हे गिरधारी
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
बड़ी बात है ....!!
बड़ी बात है ....!!
हरवंश हृदय
परिवार
परिवार
अभिषेक पाण्डेय 'अभि ’
(Y) #मेरे_विचार_से
(Y) #मेरे_विचार_से
*प्रणय प्रभात*
पिता
पिता
लक्ष्मी सिंह
23/215. *छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
23/215. *छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
मेरे दिल मे रहा जुबान पर आया नहीं....!
मेरे दिल मे रहा जुबान पर आया नहीं....!
Deepak Baweja
ज़िंदगी क्या है ?
ज़िंदगी क्या है ?
Dr fauzia Naseem shad
ढलती उम्र -
ढलती उम्र -
Seema Garg
अब तो ख़िलाफ़े ज़ुल्म ज़ुबाँ खोलिये मियाँ
अब तो ख़िलाफ़े ज़ुल्म ज़ुबाँ खोलिये मियाँ
Sarfaraz Ahmed Aasee
सुनो पहाड़ की.....!!!! (भाग - ६)
सुनो पहाड़ की.....!!!! (भाग - ६)
Kanchan Khanna
टन टन
टन टन
SHAMA PARVEEN
" वो "
Dr. Kishan tandon kranti
*योग-ज्ञान भारत की पूॅंजी, दुनिया को सौगात है(गीत)*
*योग-ज्ञान भारत की पूॅंजी, दुनिया को सौगात है(गीत)*
Ravi Prakash
नज़्म/गीत - वो मधुशाला, अब कहाँ
नज़्म/गीत - वो मधुशाला, अब कहाँ
अनिल कुमार
धमकी तुमने दे डाली
धमकी तुमने दे डाली
Shravan singh
Ranjeet Kumar Shukla
Ranjeet Kumar Shukla
Ranjeet Kumar Shukla
यहाँ श्रीराम लक्ष्मण को, कभी दशरथ खिलाते थे।
यहाँ श्रीराम लक्ष्मण को, कभी दशरथ खिलाते थे।
जगदीश शर्मा सहज
*चिंता चिता समान है*
*चिंता चिता समान है*
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
*माॅं की चाहत*
*माॅं की चाहत*
Harminder Kaur
वो मेरी कविता
वो मेरी कविता
Dr.Priya Soni Khare
*कहर  है हीरा*
*कहर है हीरा*
Kshma Urmila
बहुत आसान है भीड़ देख कर कौरवों के तरफ खड़े हो जाना,
बहुत आसान है भीड़ देख कर कौरवों के तरफ खड़े हो जाना,
Sandeep Kumar
पुर-नूर ख़यालों के जज़्तबात तेरी बंसी।
पुर-नूर ख़यालों के जज़्तबात तेरी बंसी।
Neelam Sharma
नाम:- प्रतिभा पाण्डेय
नाम:- प्रतिभा पाण्डेय "प्रति"
Pratibha Pandey
अन्तर्मन को झांकती ये निगाहें
अन्तर्मन को झांकती ये निगाहें
Pramila sultan
Loading...