Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
29 Jul 2023 · 2 min read

“चाँद को शिकायत” संकलित

चाँद को भगवान् राम से यह शिकायत है की दीपावली का त्यौहार अमावस की रात में मनाया जाता है और क्योंकि अमावस की रात में चाँद निकलता ही नहीं है इसलिए वह कभी भी दीपावली मना नहीं सकता। यह एक मधुर कल्पना है की चाँद किस प्रकार खुद को राम के हर कार्य से जोड़ लेता है और फिर राम से शिकायत करता है और राम भी उस की बात से सहमत हो कर उसे वरदान दे बैठते हैं, आइये देखते हैं।
**********************

जब चाँद का धीरज छूट गया,
वह रघुनन्दन से रूठ गया,
बोला रात को आलोकित हम ही ने करा है,
स्वयं शिव ने हमें अपने सिर पे धरा है।

तुमने भी तो उपयोग किया हमारा है,
हमारी ही चांदनी में सिया को निहारा है,
सीता के रूप को हम ने भी सँभारा है,
चाँद के तुल्य, उनका मुखड़ा निखारा है।

जिस वक़्त याद में सीता की,
तुम चुपके-चुपके रोते थे,
उस वक़्त तुम्हारे संग में बस,
हम ही जागते होते थे।

संजीवनी लाऊंगा, लखन को बचाऊंगा,
हनुमान ने तुम्हें कर तो दिया आश्वश्त
मगर अपनी चांदनी बिखरा कर,
मार्ग मैंने ही किया था प्रशस्त,
तुमने हनुमान को गले से लगाया,
मगर हमारा कहीं नाम भी न आया।

रावण की मृत्यु से मैं भी प्रसन्न था,
तुम्हारी विजय से प्रफुल्लित मन था,
मैंने भी आकाश से था पृथ्वी पर झाँका,
गगन के सितारों को करीने से टांका।

सभी ने तुम्हारा विजयोत्सव मनाया,
सारे नगर को दुल्हन सा सजाया
इस अवसर पर तुमने सभी को बुलाया,
बताओ मुझे फिर क्यों तुमने भुलाया?
क्यों तुमने अपना विजयोत्सव
अमावस्या की रात को मनाया?

अगर तुम अपना उत्सव किसी और दिन मनाते,
आधे-अधूरे ही सही, हम भी शामिल हो जाते।
मुझे सताते हैं, चिड़ाते हैं लोग,
आज भी दिवाली अमावस में ही मनाते हैं लोग।

तो राम ने कहा, क्यों व्यर्थ में घबराता है
जो कुछ खोता है वही तो पाता है,
जा तुझे अब लोग न सतायेंगे,
आज से सब तेरा मान ही बढाएंगे,
जो मुझे राम कहते थे वही,
आज से रामचंद्र कह कर बुलायेंगे।

2 Likes · 1 Comment · 122 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
छल फरेब की बात, कभी भूले मत करना।
छल फरेब की बात, कभी भूले मत करना।
surenderpal vaidya
"गहराई में बसी है"
Dr. Kishan tandon kranti
राजनीति में ना प्रखर,आते यह बलवान ।
राजनीति में ना प्रखर,आते यह बलवान ।
सत्येन्द्र पटेल ‘प्रखर’
राम रावण युद्ध
राम रावण युद्ध
Kanchan verma
प्रिय के प्रयास पर झूठ मूठ सी रूठी हुई सी, लाजवंती के गालों
प्रिय के प्रयास पर झूठ मूठ सी रूठी हुई सी, लाजवंती के गालों
kaustubh Anand chandola
वीर पुत्र, तुम प्रियतम
वीर पुत्र, तुम प्रियतम
संजय कुमार संजू
तू है तसुव्वर में तो ए खुदा !
तू है तसुव्वर में तो ए खुदा !
ओनिका सेतिया 'अनु '
दिल हो काबू में....😂
दिल हो काबू में....😂
Jitendra Chhonkar
तन्हाई
तन्हाई
Rajni kapoor
नारी हूँ मैं
नारी हूँ मैं
Kavi praveen charan
जो दर्द किसी को दे, व्योहार बदल देंगे।
जो दर्द किसी को दे, व्योहार बदल देंगे।
सत्य कुमार प्रेमी
प्रतीक्षा, प्रतियोगिता, प्रतिस्पर्धा
प्रतीक्षा, प्रतियोगिता, प्रतिस्पर्धा
डॉ विजय कुमार कन्नौजे
सकारात्मक सोच
सकारात्मक सोच
Dr fauzia Naseem shad
"खूबसूरत आंखें आत्माओं के अंधेरों को रोक देती हैं"
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
सुप्रभात
सुप्रभात
डॉक्टर रागिनी
रेतीले तपते गर्म रास्ते
रेतीले तपते गर्म रास्ते
Atul "Krishn"
"जब मिला उजाला अपनाया
*Author प्रणय प्रभात*
खुद की एक पहचान बनाओ
खुद की एक पहचान बनाओ
Vandna Thakur
अकेले चलने की तो ठानी थी
अकेले चलने की तो ठानी थी
Dr.Kumari Sandhya
गूढ़ बात~
गूढ़ बात~
दिनेश एल० "जैहिंद"
संवेदना का कवि
संवेदना का कवि
Shweta Soni
जंग अहम की
जंग अहम की
Mamta Singh Devaa
आंखों में भरी यादें है
आंखों में भरी यादें है
Rekha khichi
*तलवार है तुम्हारे हाथ में हे देवी माता (घनाक्षरी: सिंह विलो
*तलवार है तुम्हारे हाथ में हे देवी माता (घनाक्षरी: सिंह विलो
Ravi Prakash
प्यार है ही नही ज़माने में
प्यार है ही नही ज़माने में
SHAMA PARVEEN
आरम्भ
आरम्भ
Neeraj Agarwal
अब गांव के घर भी बदल रहे है
अब गांव के घर भी बदल रहे है
पूर्वार्थ
बेटा
बेटा
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
2509.पूर्णिका
2509.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
तुम मेरी किताबो की तरह हो,
तुम मेरी किताबो की तरह हो,
Vishal babu (vishu)
Loading...