Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Settings
Jul 7, 2016 · 1 min read

चाँद का अब हो गया दीदार है /ईद

चाँद का अब हो गया दीदार है
ईद की खुशियों से दिल गुलज़ार है

दे रहें देखो मुबारकबाद सब
ईद का भी सज रहा बाज़ार है

माह पूरा हो गया रमजान का
डूब खुशियों में रहा संसार है

बन रहे पकवान घर घर में नए
सेवईं से हो रहा सत्कार है

भूल कर सब भेद मिलते हैं गले
ईद का मतलब मुहब्बत प्यार है

बच्चों की भी मुस्कुराहट देखिये
‘अर्चना’ ईदी मिली उपहार है

डॉ अर्चना गुप्ता

2 Likes · 4 Comments · 217 Views
You may also like:
पितृ वंदना
मनोज कर्ण
"आम की महिमा"
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
मुझे तुम भूल सकते हो
Dr fauzia Naseem shad
Kavita Nahi hun mai
Shyam Pandey
दर्द इतने बुरे नहीं होते
Dr fauzia Naseem shad
ये दिल मेरा था, अब उनका हो गया
Ram Krishan Rastogi
बदल जायेगा
शेख़ जाफ़र खान
बेरोज़गारों का कब आएगा वसंत
Anamika Singh
सोच तेरी हो
Dr fauzia Naseem shad
"बदलाव की बयार"
Ajit Kumar "Karn"
जीवन एक कारखाना है /
ईश्वर दयाल गोस्वामी
जैवविविधता नहीं मिटाओ, बन्धु अब तो होश में आओ
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
देव शयनी एकादशी
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
"समय का पहिया"
Ajit Kumar "Karn"
दर्द की हम दवा
Dr fauzia Naseem shad
पिता तुम हमारे
Dr. Pratibha Mahi
पितृ स्तुति
डॉ प्रवीण कुमार श्रीवास्तव, प्रेम
इस तरह
Dr fauzia Naseem shad
कोशिशें हों कि भूख मिट जाए ।
Dr fauzia Naseem shad
दो पल मोहब्बत
श्री रमण 'श्रीपद्'
✍️गलतफहमियां ✍️
Vaishnavi Gupta
पिता
Neha Sharma
आज मस्ती से जीने दो
Anamika Singh
इश्क़ में जूतियों का भी रहता है डर
आकाश महेशपुरी
सत्य कभी नही मिटता
Anamika Singh
"रक्षाबंधन पर्व"
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
पिता की व्यथा
मनोज कर्ण
पापा क्यूँ कर दिया पराया??
Sweety Singhal
हमें क़िस्मत ने आज़माया है ।
Dr fauzia Naseem shad
प्रेम का आँगन
मनोज कर्ण
Loading...