Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
7 Jul 2016 · 1 min read

चाँद का अब हो गया दीदार है /ईद

चाँद का अब हो गया दीदार है
ईद की खुशियों से दिल गुलज़ार है

दे रहें देखो मुबारकबाद सब
ईद का भी सज रहा बाज़ार है

माह पूरा हो गया रमजान का
डूब खुशियों में रहा संसार है

बन रहे पकवान घर घर में नए
सेवईं से हो रहा सत्कार है

भूल कर सब भेद मिलते हैं गले
ईद का मतलब मुहब्बत प्यार है

बच्चों की भी मुस्कुराहट देखिये
‘अर्चना’ ईदी मिली उपहार है

डॉ अर्चना गुप्ता

2 Likes · 4 Comments · 250 Views
You may also like:
सबके मन मे राम हो
Kavita Chouhan
इश्क खूब कर गए हो।
Taj Mohammad
अहंकार और आत्मगौरव
अमित कुमार
■ प्रेरक कविता / आस का पंछी
*Author प्रणय प्रभात*
किसी का होके रह जाना
Dr fauzia Naseem shad
ये संगम दिलों का इबादत हो जैसे
VINOD KUMAR CHAUHAN
अब फक़त तेरा सहारा, न सहारा कोई।
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
हाय! सुशीला
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
हरी
Alok Vaid Azad
ना रहा यकीन तुझपे
gurudeenverma198
बहुत हैं फायदे तुमको बतायेंगे मुहब्बत से।
सत्य कुमार प्रेमी
दर्द ए हया को दर्द से संभाला जाएगा
कवि दीपक बवेजा
मेरे ख्यालों में क्यो आते हो
Ram Krishan Rastogi
"फौजी और उसका शहीद साथी"
Lohit Tamta
हास्य-व्यंग्य
Sadanand Kumar
महंगाई का क्या करें?
Shekhar Chandra Mitra
*शाकाहार (कुछ दोहे )*
Ravi Prakash
✍️वो भुला क्यूँ है✍️
'अशांत' शेखर
जय श्री महाकाल सबको, उज्जैयिनी में आमंत्रण है
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
Writing Challenge- माता-पिता (Parents)
Sahityapedia
कोशिश करने वालों की हार नहीं होती हैं
DR ARUN KUMAR SHASTRI
सफलता
Rekha Drolia
लोग समझते क्यों नही ?
पीयूष धामी
ਮੈਂ ਕਿਹਾ ਸੀ ਉਹਨੂੰ
Kaur Surinder
गम को भी प्यार दो!
Anamika Singh
जीवन एक यथार्थ
Shyam Sundar Subramanian
भूल जाते हो
shabina. Naaz
"फल"
Dushyant Kumar
इम्तिहान की घड़ी
Aditya Raj
लेखनी चलती रही
Rashmi Sanjay
Loading...