Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
23 May 2024 · 1 min read

चश्मा

चश्मा
******
आँखें आज भी वैसी ही है
जिसमें लहराता है
झिलमिल आशाओं का अनंत आकाश
हमारे अपने गढ़े ढेरों विश्वास

आँखों पर चश्मा लग गया है
मोटे ग्लास की परत के भीतर
उसके गोल बड़े घेरे की कैद से मुक्त
अभी भी तुम्हारी
घनी पलकों वाली आँखों के
सम्मोहन मुझे जकड़ लेते हैं,

प्रेम से भरी मासूमियत
अल्हड़ता, उलाहना और
ढेरों शिकायतों के अंबार
अभी भी मुझे पकड़ लेते हैं,

प्रेम युक्त – आशा युक्त
विश्वास युक्त – समर्पण युक्त
आस्था से परिपूर्ण
समर्पण की थाती सँजोये
अब आँखों में सपनों को
बुनने वाले धागे नहीं बनते…
आदतन हम लोग भी साथ बैठकर
अपनी असफलता , उपलब्धि और निराशा या
तकलीफ के पल के साथ
उम्र के बीते दिन नहीं गिनते

क्यों कि चश्मे के फ्रेम में कैद आँखों में
सपने बुनने की अब जगह नहीं
आँखों को गीला करने की भी
अब कोई वजह नहीं।
– अवधेश सिंह

Language: Hindi
1 Like · 32 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
ये ढलती शाम है जो, रुमानी और होगी।
ये ढलती शाम है जो, रुमानी और होगी।
सत्य कुमार प्रेमी
24/245. *छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
24/245. *छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
ग़ज़ल _ शरारत जोश में पुरज़ोर।
ग़ज़ल _ शरारत जोश में पुरज़ोर।
Neelofar Khan
आज़ाद भारत एक ऐसा जुमला है
आज़ाद भारत एक ऐसा जुमला है
SURYA PRAKASH SHARMA
काश असल पहचान सबको अपनी मालूम होती,
काश असल पहचान सबको अपनी मालूम होती,
manjula chauhan
बर्फ की चादरों को गुमां हो गया
बर्फ की चादरों को गुमां हो गया
ruby kumari
नन्हें बच्चे को जब देखा
नन्हें बच्चे को जब देखा
Sushmita Singh
सपने तेरे है तो संघर्ष करना होगा
सपने तेरे है तो संघर्ष करना होगा
पूर्वार्थ
*अविश्वसनीय*
*अविश्वसनीय*
DR ARUN KUMAR SHASTRI
*इमली (बाल कविता)*
*इमली (बाल कविता)*
Ravi Prakash
करूँ तो क्या करूँ मैं भी ,
करूँ तो क्या करूँ मैं भी ,
DrLakshman Jha Parimal
चन्द्रयान उड़ा गगन में,
चन्द्रयान उड़ा गगन में,
Satish Srijan
कर रहे हैं वंदना
कर रहे हैं वंदना
surenderpal vaidya
आदमियों की जीवन कहानी
आदमियों की जीवन कहानी
Rituraj shivem verma
लाल रंग मेरे खून का,तेरे वंश में बहता है
लाल रंग मेरे खून का,तेरे वंश में बहता है
Pramila sultan
क्यों हमें बुनियाद होने की ग़लत-फ़हमी रही ये
क्यों हमें बुनियाद होने की ग़लत-फ़हमी रही ये
Meenakshi Masoom
दादा का लगाया नींबू पेड़ / Musafir Baitha
दादा का लगाया नींबू पेड़ / Musafir Baitha
Dr MusafiR BaithA
महफिले सजाए हुए है
महफिले सजाए हुए है
Harminder Kaur
क्यों हिंदू राष्ट्र
क्यों हिंदू राष्ट्र
Sanjay ' शून्य'
■ जय लोकतंत्र■
■ जय लोकतंत्र■
*प्रणय प्रभात*
जीवन पर
जीवन पर
Dr fauzia Naseem shad
हर एक शक्स कहाँ ये बात समझेगा..
हर एक शक्स कहाँ ये बात समझेगा..
कवि दीपक बवेजा
सड़कों पर दौड़ रही है मोटर साइकिलें, अनगिनत कार।
सड़कों पर दौड़ रही है मोटर साइकिलें, अनगिनत कार।
Tushar Jagawat
आज के लिए जिऊँ लक्ष्य ये नहीं मेरा।
आज के लिए जिऊँ लक्ष्य ये नहीं मेरा।
संतोष बरमैया जय
पायल
पायल
Kumud Srivastava
सुनबऽ त हँसबऽ तू बहुते इयार
सुनबऽ त हँसबऽ तू बहुते इयार
आकाश महेशपुरी
"उड़ान"
Dr. Kishan tandon kranti
तुम ही रहते सदा ख्यालों में
तुम ही रहते सदा ख्यालों में
Dr Archana Gupta
-- अंधभक्ति का चैम्पियन --
-- अंधभक्ति का चैम्पियन --
गायक - लेखक अजीत कुमार तलवार
मेहबूब की शायरी: मोहब्बत
मेहबूब की शायरी: मोहब्बत
Rajesh Kumar Arjun
Loading...