Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
2 Mar 2017 · 1 min read

चल रहा चुनावी महासमर शब्दों के बाण से…

चल रहा चुनावी महासमर शब्दों के बाण से…
लग रहा पुरज़ोर यूपी में सिंहासन के नाम से…
बज रही तालियां कटाक्ष व्यंग्य बाण पे…
वादे हो रहे वही पुराने राजनीतिक दांव के…
विकास की बातों से हट रहे वो गधों पे ध्यान दे…
टीवी सीरियल से पेंच है बदलते दिन रात से…
रामलला को तंबु में बैठा वो लड़ रहे उनके नाम से…
जन मन को कर भृमित सब झगड़ते कुर्सी चाह में…
विकास और सम्रद्धि बस होते चुनावी हाट में…
बीतते ही दौर चुनाव खो जाते वो अपने स्वार्थ में…
सपने दिखा अपने वादों में फिर मिलते अगले चुनाव में…
जन मन की पीड़ा वो न समझते है…
राष्ट्र विकास हर पल न मन रखते है…
कहता “विकल” ये तो चुनावी दौर है…
यहाँ सब छलने आते, राष्ट्र यहाँ न सिरमौर है…

✍कुछ पंक्तियाँ मेरी कलम से : अरविन्द दाँगी “विकल”

Language: Hindi
448 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
वो इँसा...
वो इँसा...
'अशांत' शेखर
क्या हुआ ???
क्या हुआ ???
Shaily
दोहा
दोहा
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
तेरे बग़ैर ये ज़िंदगी अब
तेरे बग़ैर ये ज़िंदगी अब
Mr.Aksharjeet
हमको ख़ामोश कर दिया
हमको ख़ामोश कर दिया
Dr fauzia Naseem shad
राम-राज्य
राम-राज्य
Bodhisatva kastooriya
आकाश दीप - (6 of 25 )
आकाश दीप - (6 of 25 )
Kshma Urmila
नहीं हम हैं वैसे, जो कि तरसे तुमको
नहीं हम हैं वैसे, जो कि तरसे तुमको
gurudeenverma198
रणजीत कुमार शुक्ल
रणजीत कुमार शुक्ल
Ranjeet Kumar Shukla
मैं जान लेना चाहता हूँ
मैं जान लेना चाहता हूँ
Ajeet Malviya Lalit
2682.*पूर्णिका*
2682.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
दोहा
दोहा
दुष्यन्त 'बाबा'
भ्रात-बन्धु-स्त्री सभी,
भ्रात-बन्धु-स्त्री सभी,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
बहुत कड़ा है सफ़र थोड़ी दूर साथ चलो
बहुत कड़ा है सफ़र थोड़ी दूर साथ चलो
Vishal babu (vishu)
* चांद के उस पार *
* चांद के उस पार *
surenderpal vaidya
ताउम्र करना पड़े पश्चाताप
ताउम्र करना पड़े पश्चाताप
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
जब याद सताएगी,मुझको तड़पाएगी
जब याद सताएगी,मुझको तड़पाएगी
कृष्णकांत गुर्जर
దేవత స్వరూపం గో మాత
దేవత స్వరూపం గో మాత
डॉ गुंडाल विजय कुमार 'विजय'
दया समता समर्पण त्याग के आदर्श रघुनंदन।
दया समता समर्पण त्याग के आदर्श रघुनंदन।
जगदीश शर्मा सहज
ना रहीम मानता हूँ मैं, ना ही राम मानता हूँ
ना रहीम मानता हूँ मैं, ना ही राम मानता हूँ
VINOD CHAUHAN
*स्वच्छ गली-घर रखना सीखो (बाल कविता)*
*स्वच्छ गली-घर रखना सीखो (बाल कविता)*
Ravi Prakash
मसल कर कली को
मसल कर कली को
Pratibha Pandey
ईद की दिली मुबारक बाद
ईद की दिली मुबारक बाद
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
मैं असफल और नाकाम रहा!
मैं असफल और नाकाम रहा!
ज्ञानीचोर ज्ञानीचोर
नारी सम्मान
नारी सम्मान
Sanjay ' शून्य'
पिता बनाम बाप
पिता बनाम बाप
Sandeep Pande
#लघुकथा
#लघुकथा
*Author प्रणय प्रभात*
मतदान करो और देश गढ़ों!
मतदान करो और देश गढ़ों!
पाण्डेय चिदानन्द "चिद्रूप"
तितली
तितली
Dr. Pradeep Kumar Sharma
जीवन में मोह माया का अपना रंग है।
जीवन में मोह माया का अपना रंग है।
Neeraj Agarwal
Loading...