Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
Jun 27, 2016 · 1 min read

चल पड़ा है सामरिक

चल पड़ा है सामारिक…..????????
——————————————-
चल पड़ा परचम लिए मैं,
हर गली और गाँव को ।
है जहाँ सम्पूर्ण भारत,
वर्ष के उत्थान को ।।
है निहित सत्ज्ञान पथ ,
हर पग है दैविक ब्रह्म सा ।
करवटों में वक्त के हूँ,
सत्य के ईमान को ।।
चल पड़ा परचम लिए……………..

चर अचर चैतन्य जड़ ,
नव प्राण लेकर चल रहा ।
ऐसा लगता है कि मेरे,
साथ धरती चल रही ।।
देख कर के देव दानव,
साथ मिलकर गा रहे ।
कि चल पड़ा है सामरिक अब,
देश के आवाम को ।।
चल पड़ा परचम लिए……………….

बुझ रहा था दीप,
नूतन ने प्रभा को ले लिया ।
एक ने सौ कर दिया और,
जग को रोशन कर रहा ।।
आशियाना थी उजड़ती,
ताप से अन्याय के ।
कर विभा सत्धर्म ने ,
दे दी है न्योता न्याय को ।।
चल पड़ा परचम लिए…………….

बिन लहू मानस पटल पर,
न्याय ने आश्रय किया ।
बिन समर के सामरिक ने ,
हार तम को दे दिया ।।
धर्म की धारा बहे फिर,
मानसिक संज्ञान में ।
चल पड़ा विज्ञान भी अब ,
लक्ष्य के संधान को ।।
चल पड़ा परचम लिए…………….


-(अरुण सामरिक NDS)
देवघर झारखण्ड
11/10/2015
www.nyayadharmsabha.org

104 Views
You may also like:
दया करो भगवान
Buddha Prakash
कौन मरेगा बाज़ी
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
खींच तान
Saraswati Bajpai
पर्यावरण पच्चीसी
मधुसूदन गौतम
अब भी श्रम करती है वृद्धा / (नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
उफ्फ! ये गर्मी मार ही डालेगी
Deepak Kohli
🌺🌺दोषदृष्टया: साधके प्रभावः🌺🌺
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
।। मेरे तात ।।
Akash Yadav
जिन्दगी का मामला।
Taj Mohammad
कामयाबी
डी. के. निवातिया
उम्रें गुज़र गई हैं।
Taj Mohammad
डर काहे का..!
"अशांत" शेखर
पर्यावरण बचा लो,कर लो बृक्षों की निगरानी अब
Pt. Brajesh Kumar Nayak
नहीं बचेगी जल विन मीन
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
Human Brain
Buddha Prakash
रामकथा की अविरल धारा श्री राधे श्याम द्विवेदी रामायणी जी...
Ravi Prakash
निगाह-ए-यास कि तन्हाइयाँ लिए चलिए
शिवांश सिंघानिया
करते रहिये काम
सूर्यकांत द्विवेदी
युद्ध सिर्फ प्रश्न खड़ा करता है [भाग२]
Anamika Singh
दिल की ख्वाहिशें।
Taj Mohammad
उबारो हे शंकर !
Shailendra Aseem
दिलदार आना बाकी है
Jatashankar Prajapati
परिवार
Dr Meenu Poonia
पिता
Dr. Kishan Karigar
शेर
dks.lhp
✍️इश्तिराक✍️
"अशांत" शेखर
पिता की छाँव...
मनोज कर्ण
प्रेम की किताब
DESH RAJ
नर्मदा के घाट पर / (नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
दया***
Prabhavari Jha
Loading...