Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
18 Feb 2024 · 1 min read

चलो स्कूल

स्कूल चलो

खेलना कूदना
उधम मचाना
प्यारे बच्चों जाओ भूल।

घंटी बजी
बस्ता सजी
चलो चलो जी स्कूल।

पुस्तक उठाओ
पाठ पढ़ो
मिटे जिससे अज्ञानता का शूल।

– डॉ. प्रदीप कुमार शर्मा
रायपुर, छत्तीसगढ़

40 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
💐प्रेम कौतुक-268💐
💐प्रेम कौतुक-268💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
यह तो होता है दौर जिंदगी का
यह तो होता है दौर जिंदगी का
gurudeenverma198
रिश्ते-नाते
रिश्ते-नाते
ओमप्रकाश भारती *ओम्*
आज और कल
आज और कल
डॉ विजय कुमार कन्नौजे
विनती
विनती
Kanchan Khanna
हथेली पर जो
हथेली पर जो
लक्ष्मी सिंह
उड़ने का हुनर आया जब हमें गुमां न था, हिस्से में परिंदों के
उड़ने का हुनर आया जब हमें गुमां न था, हिस्से में परिंदों के
Vishal babu (vishu)
अब नई सहिबो पूछ के रहिबो छत्तीसगढ़ मे
अब नई सहिबो पूछ के रहिबो छत्तीसगढ़ मे
Ranjeet kumar patre
उठो पथिक थक कर हार ना मानो
उठो पथिक थक कर हार ना मानो
सुशील मिश्रा ' क्षितिज राज '
■ आज की ग़ज़ल
■ आज की ग़ज़ल
*Author प्रणय प्रभात*
*रिश्ते भैया दूज के, सबसे अधिक पवित्र (कुंडलिया)*
*रिश्ते भैया दूज के, सबसे अधिक पवित्र (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
Charlie Chaplin truly said:
Charlie Chaplin truly said:
Vansh Agarwal
2694.*पूर्णिका*
2694.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
दोहे-
दोहे-
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
उनको घरों में भी सीलन आती है,
उनको घरों में भी सीलन आती है,
Dr. Akhilesh Baghel "Akhil"
आज की बेटियां
आज की बेटियां
Shekhar Chandra Mitra
मैं जो कुछ हूँ, वही कुछ हूँ,जो जाहिर है, वो बातिल है
मैं जो कुछ हूँ, वही कुछ हूँ,जो जाहिर है, वो बातिल है
पूर्वार्थ
वो तसव्वर ही क्या जिसमें तू न हो
वो तसव्वर ही क्या जिसमें तू न हो
Mahendra Narayan
स्वाल तुम्हारे-जवाब हमारे
स्वाल तुम्हारे-जवाब हमारे
Ravi Ghayal
जिंदगी है खाली गागर देख लो।
जिंदगी है खाली गागर देख लो।
सत्य कुमार प्रेमी
तेरे जवाब का इंतज़ार
तेरे जवाब का इंतज़ार
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
नारी
नारी
Dr Parveen Thakur
"जब"
Dr. Kishan tandon kranti
ग़ज़ल सगीर
ग़ज़ल सगीर
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
मकरंद
मकरंद
विनोद वर्मा ‘दुर्गेश’
इसी से सद्आत्मिक -आनंदमय आकर्ष हूँ
इसी से सद्आत्मिक -आनंदमय आकर्ष हूँ
Pt. Brajesh Kumar Nayak
शिक्षा तो पाई मगर, मिले नहीं संस्कार
शिक्षा तो पाई मगर, मिले नहीं संस्कार
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
मन
मन
SATPAL CHAUHAN
" आज भी है "
Aarti sirsat
बसंती हवा
बसंती हवा
Arvina
Loading...