Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
2 Nov 2023 · 1 min read

चलो मैं आज अपने बारे में कुछ बताता हूं…

खुले विचारों वाला लड़का हूं मैं संस्कारों से बधा हुआ हूं मैं..

इमोशनल इतना ज्यादा हूं कि छोटी-छोटी बातों पर रो जाता हूं पर थोड़ा समझदार भी बहुत हूं मैं….

हां मैं थोड़ा सा मॉडर्न भी हूं लोवर टीशर्ट कुछ ज्यादा ही पसंद करता हूं मैं….

किसी को अपना कह दूं तो उससे उम्र भर रिश्ता निभाता हूं मैं…
पर जहां मेरी इज्जत ना हो वहां दोबारा जाता नहीं हूं मैं..
हां थोड़ा से स्वाभिमानी भी हूं मैं…🙂🙏

अपनी कलम से ✍️

Language: Hindi
229 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
*श्रीराम*
*श्रीराम*
Dr. Priya Gupta
मेरी किस्मत
मेरी किस्मत
भवानी सिंह धानका 'भूधर'
खरगोश
खरगोश
SHAMA PARVEEN
2686.*पूर्णिका*
2686.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
ईश्वर का
ईश्वर का "ह्यूमर" - "श्मशान वैराग्य"
Atul "Krishn"
जिंदा होने का सबूत
जिंदा होने का सबूत
Dr. Pradeep Kumar Sharma
रेत और रेगिस्तान के अर्थ होते हैं।
रेत और रेगिस्तान के अर्थ होते हैं।
Neeraj Agarwal
रिमझिम बारिश
रिमझिम बारिश
अनिल "आदर्श"
जब मुझसे मिलने आना तुम
जब मुझसे मिलने आना तुम
Shweta Soni
कवि होश में रहें / MUSAFIR BAITHA
कवि होश में रहें / MUSAFIR BAITHA
Dr MusafiR BaithA
ਪਰਦੇਸ
ਪਰਦੇਸ
Surinder blackpen
गम के बगैर
गम के बगैर
Swami Ganganiya
प्रयास
प्रयास
Dr fauzia Naseem shad
चन्द्रयान तीन क्षितिज के पार🙏
चन्द्रयान तीन क्षितिज के पार🙏
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
कुछ नींदों से अच्छे-खासे ख़्वाब उड़ जाते हैं,
कुछ नींदों से अच्छे-खासे ख़्वाब उड़ जाते हैं,
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
मैं भी कोई प्रीत करूँ....!
मैं भी कोई प्रीत करूँ....!
singh kunwar sarvendra vikram
ग़ज़ल
ग़ज़ल
Lokesh Sharma
■ आज का विचार...
■ आज का विचार...
*प्रणय प्रभात*
मुक्तक
मुक्तक
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
*यह सही है मूलतः तो, इस धरा पर रोग हैं (गीत)*
*यह सही है मूलतः तो, इस धरा पर रोग हैं (गीत)*
Ravi Prakash
सुख दुख
सुख दुख
Sûrëkhâ
Rainbow on my window!
Rainbow on my window!
Rachana
Tum toote ho itne aik rishte ke toot jaane par
Tum toote ho itne aik rishte ke toot jaane par
HEBA
"बोली-दिल से होली"
Dr. Kishan tandon kranti
आज सर ढूंढ रहा है फिर कोई कांधा
आज सर ढूंढ रहा है फिर कोई कांधा
Vijay Nayak
★बादल★
★बादल★
★ IPS KAMAL THAKUR ★
और कितनें पन्ने गम के लिख रखे है साँवरे
और कितनें पन्ने गम के लिख रखे है साँवरे
Sonu sugandh
मुझको कभी भी आजमाकर देख लेना
मुझको कभी भी आजमाकर देख लेना
Ram Krishan Rastogi
संतुष्टि
संतुष्टि
Dr. Rajeev Jain
ये दुनिया सीधी-सादी है , पर तू मत टेढ़ा टेढ़ा चल।
ये दुनिया सीधी-सादी है , पर तू मत टेढ़ा टेढ़ा चल।
सत्य कुमार प्रेमी
Loading...