Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
4 Mar 2023 · 1 min read

💐प्रेम कौतुक-338💐

चलो दो चार कदम हमारे साथ चलो,
हर चाल चलो कुछ नए जज़्बात चलो,
सुनो,अब बे-एतिबार मत कहना मुझसे,
दिल का मकाँ तुम्हारा है,दिन रात चलो।।

©®अभिषेक: पाराशरः “आनन्द”

Language: Hindi
52 Views
Join our official announcements group on Whatsapp & get all the major updates from Sahityapedia directly on Whatsapp.
You may also like:
हर शाखा से फूल तोड़ना ठीक नहीं है
हर शाखा से फूल तोड़ना ठीक नहीं है
कवि दीपक बवेजा
दिव्य काशी
दिव्य काशी
Pooja Singh
मेरे पृष्ठों को खोलोगे _यही संदेश पाओगे ।
मेरे पृष्ठों को खोलोगे _यही संदेश पाओगे ।
Rajesh vyas
बिछड़ जाता है
बिछड़ जाता है
Dr fauzia Naseem shad
*अच्छी आदत रोज की*
*अच्छी आदत रोज की*
Dushyant Kumar
"डॉ० रामबली मिश्र 'हरिहरपुरी' का
Rambali Mishra
अस्मिता
अस्मिता
Shyam Sundar Subramanian
सच बोलने की हिम्मत
सच बोलने की हिम्मत
Shekhar Chandra Mitra
मन को कर देता हूँ मौसमो के साथ
मन को कर देता हूँ मौसमो के साथ
सुशील मिश्रा (क्षितिज राज)
हरा न पाये दौड़कर,
हरा न पाये दौड़कर,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
कर्म और ज्ञान,
कर्म और ज्ञान,
Vijay kannauje
हम तेरे शरण में आए है।
हम तेरे शरण में आए है।
Buddha Prakash
मै तो हूं मद मस्त मौला
मै तो हूं मद मस्त मौला
नेताम आर सी
मम्मी की डांट फटकार
मम्मी की डांट फटकार
Ms.Ankit Halke jha
बुरा समय था
बुरा समय था
Swami Ganganiya
गुमनाम
गुमनाम
सुशील कुमार सिंह "प्रभात"
माफ कर देना मुझको
माफ कर देना मुझको
gurudeenverma198
💐प्रेम कौतुक-321💐
💐प्रेम कौतुक-321💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
■ आज की बात
■ आज की बात
*Author प्रणय प्रभात*
खाते मोबाइल रहे, हम या हमको दुष्ट (कुंडलिया)
खाते मोबाइल रहे, हम या हमको दुष्ट (कुंडलिया)
Ravi Prakash
“तब्दीलियां” ग़ज़ल
“तब्दीलियां” ग़ज़ल
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
तुझको मै अपना बनाना चाहती हूं
तुझको मै अपना बनाना चाहती हूं
Ram Krishan Rastogi
डोला कड़वा -
डोला कड़वा -
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
बैठ अटारी ताकता, दूरी नभ की फाँद।
बैठ अटारी ताकता, दूरी नभ की फाँद।
डॉ.सीमा अग्रवाल
बरखा
बरखा
Dr. Seema Varma
बदला सा......
बदला सा......
Kavita Chouhan
Rap song (3)
Rap song (3)
Nishant prakhar
सिर्फ लिखती नही कविता,कलम को कागज़ पर चलाने के लिए //
सिर्फ लिखती नही कविता,कलम को कागज़ पर चलाने के लिए //
गुप्तरत्न
साथ तेरा रहे साथ बन कर सदा
साथ तेरा रहे साथ बन कर सदा
डॉ. दीपक मेवाती
Humiliation
Humiliation
AJAY AMITABH SUMAN
Loading...