Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
29 Oct 2016 · 1 min read

चलो दिवाली इस बार अलग मनाते हैं

आपको और आपके परिवार को दिवाली के पावन
अवसर पर बहुत बहुत शुभकामनाएँ……. चलो दिवाली
इस बार अलग मनाते हैं………….

नाम शहीदों के चिराग जलाते हैं
दिवाली इस बार अलग मनाते हैं
*************************
कुछ फर्ज भी इस बार निभाते हैं
सामान चीनी इस बार ठुकराते हैं
*************************
कुछ बेघरों को भी घर बुलाते हैं
संग उनके दीवाली जगमगाते हैं
*************************
मीठा भी कुछ सबको खिलाते हैं
संग संग चाय भी अब पिलाते हैं
*************************
चलो गीत कोई इक गुनगुनाते हैं
दिवाली इस बार सुरीली मनाते हैं
*************************
कपिल कुमार
29/10/2016

390 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
यूँ ही क्यूँ - बस तुम याद आ गयी
यूँ ही क्यूँ - बस तुम याद आ गयी
Atul "Krishn"
दिल में आग , जिद और हौसला बुलंद,
दिल में आग , जिद और हौसला बुलंद,
कवि दीपक बवेजा
पिया मिलन की आस
पिया मिलन की आस
Kanchan Khanna
जब तक मन इजाजत देता नहीं
जब तक मन इजाजत देता नहीं
ruby kumari
सत्साहित्य कहा जाता है ज्ञानराशि का संचित कोष।
सत्साहित्य कहा जाता है ज्ञानराशि का संचित कोष।
महेश चन्द्र त्रिपाठी
मुल्क के दुश्मन
मुल्क के दुश्मन
Shekhar Chandra Mitra
बसंत पंचमी
बसंत पंचमी
नवीन जोशी 'नवल'
भूत अउर सोखा
भूत अउर सोखा
आकाश महेशपुरी
निराशा एक आशा
निराशा एक आशा
डॉ. शिव लहरी
बुलेट ट्रेन की तरह है, सुपर फास्ट सब यार।
बुलेट ट्रेन की तरह है, सुपर फास्ट सब यार।
सत्य कुमार प्रेमी
आशा निराशा
आशा निराशा
Suryakant Dwivedi
मातृ रूप
मातृ रूप
डॉ. श्री रमण 'श्रीपद्'
बहुत असमंजस में हूँ मैं
बहुत असमंजस में हूँ मैं
gurudeenverma198
शहर की गर्मी में वो छांव याद आता है, मस्ती में बिता जहाँ बचप
शहर की गर्मी में वो छांव याद आता है, मस्ती में बिता जहाँ बचप
Shubham Pandey (S P)
#शेर
#शेर
*Author प्रणय प्रभात*
परोपकार
परोपकार
Raju Gajbhiye
नीरोगी काया
नीरोगी काया
ओमप्रकाश भारती *ओम्*
न्याय तो वो होता
न्याय तो वो होता
Mahender Singh Manu
16- उठो हिन्द के वीर जवानों
16- उठो हिन्द के वीर जवानों
Ajay Kumar Vimal
समझना है ज़रूरी
समझना है ज़रूरी
Dr fauzia Naseem shad
यह कौन सा विधान हैं?
यह कौन सा विधान हैं?
Vishnu Prasad 'panchotiya'
3032.*पूर्णिका*
3032.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
एक महिला अपनी उतनी ही बात को आपसे छिपाकर रखती है जितनी की वह
एक महिला अपनी उतनी ही बात को आपसे छिपाकर रखती है जितनी की वह
Rj Anand Prajapati
तक्षशिला विश्वविद्यालय के एल्युमिनाई
तक्षशिला विश्वविद्यालय के एल्युमिनाई
Shivkumar Bilagrami
कहीं ना कहीं कुछ टूटा है
कहीं ना कहीं कुछ टूटा है
goutam shaw
प्यासा_कबूतर
प्यासा_कबूतर
Shakil Alam
💐प्रेम कौतुक-180💐
💐प्रेम कौतुक-180💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
*शास्त्री जीः एक आदर्श शिक्षक*
*शास्त्री जीः एक आदर्श शिक्षक*
Ravi Prakash
कामनाओं का चक्र व्यूह
कामनाओं का चक्र व्यूह
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
"सूत्र"
Dr. Kishan tandon kranti
Loading...