Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
16 Jan 2024 · 1 min read

चलो आज कुछ बात करते है

चलो आज कुछ बात करते है
एक दूसरे की आँखों मे आँखे डाल सुबह से साम करते हैं
कोई मर्ज हैं जो बताना चाहते हो
या कोई गम हैं जो भूलना चाहते हो
जो कुछ भी है उसका समाधान करते हैं
चलो आज कुछ बात करते है
बहुत दिन हुए एक दूसरे से ये सवाल किये हुए
की बिन बताए किसी को सारी मुस्किल
कैसे हम सारी उलझनों को आसान करते है
चलो आज कुछ बात करते है
आज सारा काम छोड़ देते है
एक दूसरे की और ध्यान रखते है
जिंदगी की कठिनाइयों का विचार करते है
चलो आज कुछ काम करते है
तुमने क्या खोया हमने क्या पाया
ये दिल कब कब किसको याद कर के रोया
सारे किस्से को आज हम अपने आबाद करते है
चलो आज कुछ बात करते हैं
हमारे हर आँशु को परे है ये जमाना
क्यो और कितनी खूबसूरत हैं ये अपना रिस्ता
चलो तसल्ली से इस पर विचार करते है
चलो आज कुछ बात करते हैं
एक दूसरे की आँखो मे आँखे डाल कर
सुबह से शाम करते हैं
ऋतुराज वर्मा

84 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
Remeber if someone truly value you  they will always carve o
Remeber if someone truly value you they will always carve o
पूर्वार्थ
मैं नहीं, तू ख़ुश रहीं !
मैं नहीं, तू ख़ुश रहीं !
The_dk_poetry
🥀 *गुरु चरणों की धूल*🥀
🥀 *गुरु चरणों की धूल*🥀
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
-- ग़दर 2 --
-- ग़दर 2 --
गायक - लेखक अजीत कुमार तलवार
"बच सकें तो"
Dr. Kishan tandon kranti
हे प्रभु !
हे प्रभु !
Shubham Pandey (S P)
*बारिश का मौसम है प्यारा (बाल कविता)*
*बारिश का मौसम है प्यारा (बाल कविता)*
Ravi Prakash
नाम दोहराएंगे
नाम दोहराएंगे
Dr.Priya Soni Khare
दोहे-
दोहे-
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
क्या यह महज संयोग था या कुछ और.... (3)
क्या यह महज संयोग था या कुछ और.... (3)
Dr. Pradeep Kumar Sharma
नेह का दीपक
नेह का दीपक
Arti Bhadauria
अब मत खोलना मेरी ज़िन्दगी
अब मत खोलना मेरी ज़िन्दगी
शेखर सिंह
ये जंग जो कर्बला में बादे रसूल थी
ये जंग जो कर्बला में बादे रसूल थी
shabina. Naaz
शराफ़त के दायरों की
शराफ़त के दायरों की
Dr fauzia Naseem shad
तेज़
तेज़
Sanjay ' शून्य'
धुप मे चलने और जलने का मज़ाक की कुछ अलग है क्योंकि छाव देखते
धुप मे चलने और जलने का मज़ाक की कुछ अलग है क्योंकि छाव देखते
Ranjeet kumar patre
Khuch wakt ke bad , log tumhe padhna shuru krenge.
Khuch wakt ke bad , log tumhe padhna shuru krenge.
Sakshi Tripathi
कौन हूँ मैं ?
कौन हूँ मैं ?
पूनम झा 'प्रथमा'
Republic Day
Republic Day
Tushar Jagawat
संसार का स्वरूप
संसार का स्वरूप
ठाकुर प्रतापसिंह "राणाजी"
■ लघुकथा / लेनदार
■ लघुकथा / लेनदार
*Author प्रणय प्रभात*
Gazal
Gazal
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
मुझे भुला दो बेशक लेकिन,मैं  तो भूल  न  पाऊंगा।
मुझे भुला दो बेशक लेकिन,मैं तो भूल न पाऊंगा।
सत्येन्द्र पटेल ‘प्रखर’
Dr Arun Kumar shastri
Dr Arun Kumar shastri
DR ARUN KUMAR SHASTRI
गाथा बच्चा बच्चा गाता है
गाथा बच्चा बच्चा गाता है
Harminder Kaur
मुश्किल घड़ी में मिली सीख
मुश्किल घड़ी में मिली सीख
Paras Nath Jha
"शहीद साथी"
Lohit Tamta
2511.पूर्णिका
2511.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
बारिश
बारिश
ओमप्रकाश भारती *ओम्*
मित्रता तुम्हारी हमें ,
मित्रता तुम्हारी हमें ,
Yogendra Chaturwedi
Loading...