Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
18 Jun 2023 · 1 min read

चले आना मेरे पास

चले आना मेरे पास,
और तुम आवोगे एक दिन,
जरूर मेरे पास,
चाहे मुझसे अपना हाथ छुड़ाने के लिए,
मुझको अपनी हस्ती दिखाने के लिए,
या फिर खेद जताने के लिए,
अफसोस करके अपनी कथनी और करनी पर।

चले आना मेरे पास,
क्योंकि होगी तब इतनी ही,
मेरी प्रसिद्धि और मेरी तारीफ,
अपनी सजा को माफ करवाने के लिए,
मन की शांति के लिए,
गुम हुई रोशनी की तलाश के लिए,
अपनी जन्नत की गुलजारी के लिए,
अपने शेष सपनों की मुक़म्मली के लिए।

चले आना मेरे पास,
और क्या करुंगा मैं इन सभी का,
जो कि बना रहा हूँ मैं आज,
अपना खून – पसीना बहाकर,
यह दौलत- शौहरत और महल,
महका जो रहा हूँ यह चमन,
अपने आँसुओं से सींचकर,
किसके लिए है यह सब, बोलो।
चले आना मेरे पास तुम———————–।।

शिक्षक एवं साहित्यकार-
गुरुदीन वर्मा उर्फ जी.आज़ाद
तहसील एवं जिला- बारां(राजस्थान)

Language: Hindi
550 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
बंद मुट्ठी बंदही रहने दो
बंद मुट्ठी बंदही रहने दो
Abasaheb Sarjerao Mhaske
बाल दिवस विशेष- बाल कविता - डी के निवातिया
बाल दिवस विशेष- बाल कविता - डी के निवातिया
डी. के. निवातिया
दिखा तू अपना जलवा
दिखा तू अपना जलवा
gurudeenverma198
जो कहना है खुल के कह दे....
जो कहना है खुल के कह दे....
Shubham Pandey (S P)
भोर काल से संध्या तक
भोर काल से संध्या तक
देवराज यादव
Dr Arun Kumar shastri
Dr Arun Kumar shastri
DR ARUN KUMAR SHASTRI
*
*"ममता"* पार्ट-3
Radhakishan R. Mundhra
सुकूं आता है,नहीं मुझको अब है संभलना ll
सुकूं आता है,नहीं मुझको अब है संभलना ll
गुप्तरत्न
ईश्वर
ईश्वर
Neeraj Agarwal
Decision making is backed by hardwork and courage but to cha
Decision making is backed by hardwork and courage but to cha
Sanjay ' शून्य'
चाय-समौसा (हास्य)
चाय-समौसा (हास्य)
गुमनाम 'बाबा'
-0 सुविचार 0-
-0 सुविचार 0-
विनोद कृष्ण सक्सेना, पटवारी
बेअसर
बेअसर
SHAMA PARVEEN
नाम:- प्रतिभा पाण्डेय
नाम:- प्रतिभा पाण्डेय "प्रति"
Pratibha Pandey
संवेदना का सौंदर्य छटा 🙏
संवेदना का सौंदर्य छटा 🙏
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
दिल तोड़ना ,
दिल तोड़ना ,
Buddha Prakash
रुकना हमारा काम नहीं...
रुकना हमारा काम नहीं...
AMRESH KUMAR VERMA
जिसमें सच का बल भरा ,कहाँ सताती आँच(कुंडलिया)
जिसमें सच का बल भरा ,कहाँ सताती आँच(कुंडलिया)
Ravi Prakash
मीडिया पर व्यंग्य
मीडिया पर व्यंग्य
Mahender Singh
"तिलचट्टा"
Dr. Kishan tandon kranti
मेरी जिंदगी में जख्म लिखे हैं बहुत
मेरी जिंदगी में जख्म लिखे हैं बहुत
Dr. Man Mohan Krishna
विचार
विचार
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
■ आज का शेर...
■ आज का शेर...
*प्रणय प्रभात*
तुम ही सौलह श्रृंगार मेरे हो.....
तुम ही सौलह श्रृंगार मेरे हो.....
Neelam Sharma
ये  कहानी  अधूरी   ही  रह  जायेगी
ये कहानी अधूरी ही रह जायेगी
Yogini kajol Pathak
माँ लक्ष्मी
माँ लक्ष्मी
Bodhisatva kastooriya
" बोलती आँखें सदा "
भगवती प्रसाद व्यास " नीरद "
किसी राह पे मिल भी जाओ मुसाफ़िर बन के,
किसी राह पे मिल भी जाओ मुसाफ़िर बन के,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
जब अन्तस में घिरी हो, दुख की घटा अटूट,
जब अन्तस में घिरी हो, दुख की घटा अटूट,
महेश चन्द्र त्रिपाठी
मनोकामनी
मनोकामनी
Kumud Srivastava
Loading...