Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
23 Nov 2022 · 1 min read

चली चली रे रेलगाड़ी

चली चली रे रेलगाड़ी

छुक छुक छुक छुक
छुक छुक छुक छुक
झटपट बना ली गाड़ी
चली चली रे देखो चली
रेलगाड़ी रेलगाड़ी
देखो बच्चों की निकली सवारी
देखो बच्चों की निकली सवारी

लपेट लपेट ऐसा मोड़ा
दोनों पल्लू साथ में जोड़ा
देखो रस्सी बन गई साड़ी
चली चली रे देखो चली
रेलगाड़ी रेलगाड़ी
देखो बच्चों की निकली सवारी
देखो बच्चों की निकली सवारी

रंग -बिरंगी पोशाकें पहने
पंक्ति बनाकर लग गए घुसने
मुन्नी ने कसकर सीटी मारी
चली चली रे देखो चली
रेलगाड़ी रेलगाड़ी
देखो बच्चों की निकली सवारी
देखो बच्चों की निकली सवारी

काँधे पर काँधा रखा है सबने
बोगी से इंजन जोड़ा है सबने
बड़ी न्यारी है इनकी यारी
चली चली रे देखो चली
रेलगाड़ी रेलगाड़ी
देखो बच्चों की निकली सवारी
देखो बच्चों की निकली सवारी

सरपट सरपट भागे है इंजन
घुमा रहा है हर एक स्टेशन
पीछे है पलटन भारी
चली चली रे देखो चली
रेलगाड़ी रेलगाड़ी
देखो बच्चों की निकली सवारी
देखो बच्चों की निकली सवारी

– आशीष कुमार
मोहनिया, कैमूर, बिहार

2 Likes · 169 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
किसानों की दुर्दशा पर एक तेवरी-
किसानों की दुर्दशा पर एक तेवरी-
कवि रमेशराज
नीम
नीम
Dr. Pradeep Kumar Sharma
ग़म
ग़म
Harminder Kaur
कभी भी व्यस्तता कहकर ,
कभी भी व्यस्तता कहकर ,
DrLakshman Jha Parimal
💐प्रेम कौतुक-345💐
💐प्रेम कौतुक-345💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
■ कितना वदल गया परिवेश।।😢😢
■ कितना वदल गया परिवेश।।😢😢
*Author प्रणय प्रभात*
शाहकार (महान कलाकृति)
शाहकार (महान कलाकृति)
Shekhar Chandra Mitra
राह मुश्किल हो चाहे आसां हो
राह मुश्किल हो चाहे आसां हो
Shweta Soni
एक गुनगुनी धूप
एक गुनगुनी धूप
Saraswati Bajpai
गुब्बारे की तरह नहीं, फूल की तरह फूलना।
गुब्बारे की तरह नहीं, फूल की तरह फूलना।
निशांत 'शीलराज'
शुभ प्रभात मित्रो !
शुभ प्रभात मित्रो !
Mahesh Jain 'Jyoti'
दूसरा मौका
दूसरा मौका
हिमांशु बडोनी (दयानिधि)
** सपने सजाना सीख ले **
** सपने सजाना सीख ले **
surenderpal vaidya
याद  में  ही तो जल रहा होगा
याद में ही तो जल रहा होगा
Sandeep Gandhi 'Nehal'
प्रेम
प्रेम
Ranjana Verma
कुछ राज, राज रहने दो राज़दार।
कुछ राज, राज रहने दो राज़दार।
डॉ० रोहित कौशिक
दोहा त्रयी. . . .
दोहा त्रयी. . . .
sushil sarna
ये जो मुहब्बत लुका छिपी की नहीं निभेगी तुम्हारी मुझसे।
ये जो मुहब्बत लुका छिपी की नहीं निभेगी तुम्हारी मुझसे।
सत्य कुमार प्रेमी
फेसबुक
फेसबुक
Neelam Sharma
यह जो तुम बांधती हो पैरों में अपने काला धागा ,
यह जो तुम बांधती हो पैरों में अपने काला धागा ,
श्याम सिंह बिष्ट
काफी लोगो ने मेरे पढ़ने की तेहरिन को लेकर सवाल पूंछा
काफी लोगो ने मेरे पढ़ने की तेहरिन को लेकर सवाल पूंछा
पूर्वार्थ
पितृ दिवस की शुभकामनाएं
पितृ दिवस की शुभकामनाएं
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
याद रहेगा यह दौर मुझको
याद रहेगा यह दौर मुझको
Ranjeet kumar patre
प्यारी-प्यारी सी पुस्तक
प्यारी-प्यारी सी पुस्तक
SHAMA PARVEEN
सियासत
सियासत
हिमांशु Kulshrestha
23/198. *छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
23/198. *छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
"देखो"
Dr. Kishan tandon kranti
पितृ स्वरूपा,हे विधाता..!
पितृ स्वरूपा,हे विधाता..!
मनोज कर्ण
मुस्कान
मुस्कान
Surya Barman
*पवन-पुत्र हनुमान (कुंडलिया)*
*पवन-पुत्र हनुमान (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
Loading...