Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
4 Apr 2023 · 1 min read

चली गई ‌अब ऋतु बसंती, लगी ग़ीष्म अब तपने

चली गई ‌अब ऋतु बसंती, लगी ग़ीष्म अब तपने
चला गया मधुमास सुहाना,वीते मीठे सपने
गईं बसंती मस्त बहारें, सूनी हुई कछारें
सूख गए सब ताल तलैया, और नदिया की धारें
उग़ हुईं सूरज की किरणें,ताप लगीं बरसाने
पथिक ढूंढने लगे छांव,नैन लगे अलसाने
शीतल पेय आम की चटनी, मांग रहे सब खाने
घर घर पंखे कूलर एसी,लगे हैं सभी चलाने
सीमेंट कांक्रीट से भरी धरा, लगी है ताप बढ़ाने
पेड़ काट मिटा जल जंगल, विकास की गंगा लगे वहाने
सुरेश कुमार चतुर्वेदी

1 Like · 360 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from सुरेश कुमार चतुर्वेदी
View all
You may also like:
*अध्याय 2*
*अध्याय 2*
Ravi Prakash
कोई यहां अब कुछ नहीं किसी को बताता है,
कोई यहां अब कुछ नहीं किसी को बताता है,
manjula chauhan
ये ज़िंदगी डराती है, डरते नहीं हैं...
ये ज़िंदगी डराती है, डरते नहीं हैं...
Ajit Kumar "Karn"
Ranjeet Shukla
Ranjeet Shukla
Ranjeet kumar Shukla
शारीरिक, मानसिक और आध्यात्मिक रूप से स्वस्थ्य
शारीरिक, मानसिक और आध्यात्मिक रूप से स्वस्थ्य
Dr.Rashmi Mishra
पंछी
पंछी
Saraswati Bajpai
मासूमियत की हत्या से आहत
मासूमियत की हत्या से आहत
Sanjay ' शून्य'
उन बादलों पर पांव पसार रहे हैं नन्हे से क़दम,
उन बादलों पर पांव पसार रहे हैं नन्हे से क़दम,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
23/169.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
23/169.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
जीवन
जीवन
Bodhisatva kastooriya
■ दिल
■ दिल "पिपरमेंट" सा कोल्ड है भाई साहब! अभी तक...।😊
*प्रणय प्रभात*
ओस
ओस
पूनम कुमारी (आगाज ए दिल)
मोबाइल
मोबाइल
लक्ष्मी सिंह
सत्यम शिवम सुंदरम
सत्यम शिवम सुंदरम
Madhu Shah
Thought
Thought
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
The Present War Scenario and Its Impact on World Peace and Independent Co-existance
The Present War Scenario and Its Impact on World Peace and Independent Co-existance
Shyam Sundar Subramanian
तन्हा क्रिकेट ग्राउंड में....
तन्हा क्रिकेट ग्राउंड में....
पूर्वार्थ
"पहला-पहला प्यार"
Dr. Kishan tandon kranti
भारत के राम
भारत के राम
करन ''केसरा''
हिंदी दलित साहित्यालोचना के एक प्रमुख स्तंभ थे डा. तेज सिंह / MUSAFIR BAITHA
हिंदी दलित साहित्यालोचना के एक प्रमुख स्तंभ थे डा. तेज सिंह / MUSAFIR BAITHA
Dr MusafiR BaithA
Jannat ke khab sajaye hai,
Jannat ke khab sajaye hai,
Sakshi Tripathi
मेरी तुझ में जान है,
मेरी तुझ में जान है,
sushil sarna
ग़ज़ल
ग़ज़ल
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
तृष्णा उस मृग की भी अब मिटेगी, तुम आवाज तो दो।
तृष्णा उस मृग की भी अब मिटेगी, तुम आवाज तो दो।
Manisha Manjari
सूरज
सूरज
PRATIBHA ARYA (प्रतिभा आर्य )
अनुभव 💐🙏🙏
अनुभव 💐🙏🙏
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
मै खामोश हूँ , कमज़ोर नहीं , मेरे सब्र का  इम्तेहान न ले ,
मै खामोश हूँ , कमज़ोर नहीं , मेरे सब्र का इम्तेहान न ले ,
Neelofar Khan
बुंदेली दोहा -खिलकट (आधे पागल)
बुंदेली दोहा -खिलकट (आधे पागल)
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
सुरभित - मुखरित पर्यावरण
सुरभित - मुखरित पर्यावरण
संजय कुमार संजू
शुभ दिन सब मंगल रहे प्रभु का हो वरदान।
शुभ दिन सब मंगल रहे प्रभु का हो वरदान।
सत्य कुमार प्रेमी
Loading...