Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
20 Jan 2021 · 1 min read

चला रहें शिव साइकिल

आयोजन — सुनो कहानी : चित्र जुबानी

चला रहें शिव साइकिल,बसहा गया विदेश।
मूषक वाहन छोड़ कर,बैठे संग गणेश।

पैंट-शर्ट जूता पहन, बाँध गले में टाय,
लिए गजानन हाथ में, झंडा एक विशेष।

जटा-जूट बाँधे हुए,तन बाघंबर छाल,
सजे हुए रूद्राक्ष से,ग्रीवा में नागेश।

मुग्ध हुआ मन बावरा,मनमोहक सौन्दर्य,
दोनों बालक रूप में,,अद्भुत है परिवेश।

अति प्रिय हर माह में,मुझको सावन माह,
फिर आऊँ अगले बरस,दिये यही संदेश।

प्रेम विवश होकर रुका, और नहीं कुछ बात,
जाता हूँ कैलाश पर, वही हमारा देश।

हाथ जोड़ विनती करू,सुन लो दीनानाथ,
ऋद्धि-सिद्ध घर में रहे,गणपति संग महेश।
-लक्ष्मी सिंह
नई दिल्ली

1 Like · 1 Comment · 410 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from लक्ष्मी सिंह
View all
You may also like:
कविता: माँ मुझको किताब मंगा दो, मैं भी पढ़ने जाऊंगा।
कविता: माँ मुझको किताब मंगा दो, मैं भी पढ़ने जाऊंगा।
Rajesh Kumar Arjun
उम्र तो गुजर जाती है..... मगर साहेब
उम्र तो गुजर जाती है..... मगर साहेब
shabina. Naaz
*अफसर की बाधा दूर हो गई (लघु कथा)*
*अफसर की बाधा दूर हो गई (लघु कथा)*
Ravi Prakash
ज़िंदगी में बेहतर नज़र आने का
ज़िंदगी में बेहतर नज़र आने का
Dr fauzia Naseem shad
Sharminda kyu hai mujhse tu aye jindagi,
Sharminda kyu hai mujhse tu aye jindagi,
Sakshi Tripathi
कभी मिलो...!!!
कभी मिलो...!!!
Kanchan Khanna
******** प्रेरणा-गीत *******
******** प्रेरणा-गीत *******
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
बधाई का गणित / मुसाफ़िर बैठा
बधाई का गणित / मुसाफ़िर बैठा
Dr MusafiR BaithA
शोकहर छंद विधान (शुभांगी)
शोकहर छंद विधान (शुभांगी)
Subhash Singhai
“देवभूमि क दिव्य दर्शन” मैथिली ( यात्रा -संस्मरण )
“देवभूमि क दिव्य दर्शन” मैथिली ( यात्रा -संस्मरण )
DrLakshman Jha Parimal
पलकों की
पलकों की
हिमांशु Kulshrestha
हनुमान जयंती
हनुमान जयंती
ब्रजनंदन कुमार 'विमल'
(9) डूब आया मैं लहरों में !
(9) डूब आया मैं लहरों में !
Kishore Nigam
अलमस्त रश्मियां
अलमस्त रश्मियां
विनोद वर्मा ‘दुर्गेश’
हमसे बात ना करो।
हमसे बात ना करो।
Taj Mohammad
दीप आशा के जलें
दीप आशा के जलें
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
साथ तेरा रहे साथ बन कर सदा
साथ तेरा रहे साथ बन कर सदा
डॉ. दीपक मेवाती
बेमौसम की देखकर, उपल भरी बरसात।
बेमौसम की देखकर, उपल भरी बरसात।
डॉ.सीमा अग्रवाल
जो लिखा नहीं.....लिखने की कोशिश में हूँ...
जो लिखा नहीं.....लिखने की कोशिश में हूँ...
Vishal babu (vishu)
विचार
विचार
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
सितारों के बगैर
सितारों के बगैर
Satish Srijan
कहाँ लिखता है
कहाँ लिखता है
Mahendra Narayan
🙅दद्दू कहिन🙅
🙅दद्दू कहिन🙅
*Author प्रणय प्रभात*
जीवनसाथी
जीवनसाथी
Rajni kapoor
I am Me - Redefined
I am Me - Redefined
Dhriti Mishra
2482.पूर्णिका
2482.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
मेरे प्रेम की सार्थकता को, सवालों में भटका जाती हैं।
मेरे प्रेम की सार्थकता को, सवालों में भटका जाती हैं।
Manisha Manjari
मम्मी थी इसलिए मैं हूँ...!! मम्मी I Miss U😔
मम्मी थी इसलिए मैं हूँ...!! मम्मी I Miss U😔
Ravi Betulwala
Arj Kiya Hai...
Arj Kiya Hai...
Nitesh Kumar Srivastava
शिक्षक दिवस
शिक्षक दिवस
नूरफातिमा खातून नूरी
Loading...