Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
16 Mar 2023 · 1 min read

💐प्रेम कौतुक-452💐

चलते रहेंगे चलते रहेंगे,न रुकेंगे ये क़दम,
पता नहीं ये उनके क़दम हैं या मेरे क़दम,
ठहरेंगें वहाँ जहाँ हक़ीक़त ज़िंदगी की मिले,
मैं तो बस चल रहा हूँ,देखकर उनके क़दम।

©®अभिषेक: पाराशरः “आनन्द”

Language: Hindi
132 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
इंद्रधनुषी प्रेम
इंद्रधनुषी प्रेम
लक्ष्मी वर्मा प्रतीक्षा
काली स्याही के अनेक रंग....!!!!!
काली स्याही के अनेक रंग....!!!!!
Jyoti Khari
अबला नारी
अबला नारी
Buddha Prakash
शोषण खुलकर हो रहा, ठेकेदार के अधीन।
शोषण खुलकर हो रहा, ठेकेदार के अधीन।
Anil chobisa
"चांद पे तिरंगा"
राकेश चौरसिया
कृपाण घनाक्षरी....
कृपाण घनाक्षरी....
डॉ.सीमा अग्रवाल
Ghazal
Ghazal
shahab uddin shah kannauji
रामचरितमानस
रामचरितमानस
डा. सूर्यनारायण पाण्डेय
शाम
शाम
Neeraj Agarwal
कमी नहीं
कमी नहीं
Dr fauzia Naseem shad
भगवान महाबीर
भगवान महाबीर
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
फूल फूल और फूल
फूल फूल और फूल
SATPAL CHAUHAN
लोग कह रहे हैं राजनीति का चरित्र बिगड़ गया है…
लोग कह रहे हैं राजनीति का चरित्र बिगड़ गया है…
Anand Kumar
वो भ्रम है वास्तविकता नहीं है
वो भ्रम है वास्तविकता नहीं है
Keshav kishor Kumar
रेल यात्रा संस्मरण
रेल यात्रा संस्मरण
Prakash Chandra
*
*"गणतंत्र दिवस"*
Shashi kala vyas
लड़ते रहो
लड़ते रहो
Vivek Pandey
उधार  ...
उधार ...
sushil sarna
*साइकिल (बाल कविता)*
*साइकिल (बाल कविता)*
Ravi Prakash
"तुम्हें याद करना"
Dr. Kishan tandon kranti
खुद से भी सवाल कीजिए
खुद से भी सवाल कीजिए
Mahetaru madhukar
बड़ा हीं खूबसूरत ज़िंदगी का फलसफ़ा रखिए
बड़ा हीं खूबसूरत ज़िंदगी का फलसफ़ा रखिए
Shweta Soni
अंजाम
अंजाम
Bodhisatva kastooriya
महाकाल महिमा
महाकाल महिमा
Neeraj Mishra " नीर "
कत्ल करती उनकी गुफ्तगू
कत्ल करती उनकी गुफ्तगू
Surinder blackpen
सियासत हो
सियासत हो
Vishal babu (vishu)
देश के अगले क़ानून मंत्री उज्ज्वल निकम...?
देश के अगले क़ानून मंत्री उज्ज्वल निकम...?
*Author प्रणय प्रभात*
2645.पूर्णिका
2645.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
स्वयं का न उपहास करो तुम , स्वाभिमान की राह वरो तुम
स्वयं का न उपहास करो तुम , स्वाभिमान की राह वरो तुम
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
मनोकामना
मनोकामना
Mukesh Kumar Sonkar
Loading...