Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
17 May 2018 · 1 min read

चमन क्यूँ है ये उलझन में…

चमन क्यों है ये उलझन में …..
न जाने तू न जानूँ में ।
बड़ा बेचैन सा मौसम बना है …
आज महफ़िल में ।।

चले हैं सब हमसफर बनकर …..
जलन क्यों होती है उनको ।
यूँ गलफत में फसे हैं हम ..
न जाने तू न जानूँ में ।।

चमन क्यों है ये उलझन में …

वो किस्से थे या फितरत थी ..
कहानी बन गए यूँ ही ।
न वो स्वीकार करते थे ..
क्यूँ स्वीकार कर लूं मैं ।।

चमन क्यों है ये उलझन में ….

वक्त वेवक्त यूँ ही में …..
सताया हूँ बेगाना मान ।
शिकायत करने को ही यूँ…..
बगावत क्यूँ करूँ उनसे ।।

चमन क्यों है ये उलझन में …

कहा था एक दिन उसने ..
जहाँ चाहे बुला लेना ।।
जिंदगी के सफर में मुझको ….
दे आवाज आजमा लेना .।।

चमन क्यों है ये उलझन में …

एक दिन यूँ भुला देंगे ..
हमें क्या ये थी खबर उसकी ।
बेगाना कोई भी हमको ..
इजहारे वफ़ा देता ।।

चमन क्यों है ये उलझन में …

वक्त वो भी गया अब तो ….
याद जब उनकी आती है ।
हमें क्या ये पता था यारो…..
निकल मैय्यत पे आएंगे ।।

चमन क्यों है ये उलझन में …
न जाने तू न जानूँ में ।
बड़ा बेचैन सा मौसम बना है ..
आज महफ़िल में ।।
@*@*@*@*@*@*@*@*@*@*@*@*@

(C) राजकुमार सिंह “आघात” (C)
8475001921

2 Likes · 451 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
*अर्पण प्रभु को हो गई, मीरा भक्ति प्रधान ( कुंडलिया )*
*अर्पण प्रभु को हो गई, मीरा भक्ति प्रधान ( कुंडलिया )*
Ravi Prakash
बेवफा
बेवफा
Neeraj Agarwal
लू गर्मी में चलना, आफ़त लगता है।
लू गर्मी में चलना, आफ़त लगता है।
सत्य कुमार प्रेमी
बच्चा हो बड़ा हो,रिश्ता हो परिवार हो ,पैसा हो करियर हो
बच्चा हो बड़ा हो,रिश्ता हो परिवार हो ,पैसा हो करियर हो
पूर्वार्थ
नश्वर संसार
नश्वर संसार
Shyam Sundar Subramanian
सुविचार
सुविचार
Sunil Maheshwari
हमने एक बात सीखी है...... कि साहित्य को समान्य लोगों के बीच
हमने एक बात सीखी है...... कि साहित्य को समान्य लोगों के बीच
DrLakshman Jha Parimal
डीजे
डीजे
Dr. Pradeep Kumar Sharma
122 122 122 12
122 122 122 12
SZUBAIR KHAN KHAN
*
*"ममता"* पार्ट-2
Radhakishan R. Mundhra
किसी और से इश्क़ दुबारा नहीं होगा
किसी और से इश्क़ दुबारा नहीं होगा
Madhuyanka Raj
मां
मां
Suman (Aditi Angel 🧚🏻)
सादगी अच्छी है मेरी
सादगी अच्छी है मेरी
VINOD CHAUHAN
तू मुझको संभालेगी क्या जिंदगी
तू मुझको संभालेगी क्या जिंदगी
कृष्णकांत गुर्जर
साँवरिया
साँवरिया
Pratibha Pandey
तारीफ आपका दिन बना सकती है
तारीफ आपका दिन बना सकती है
शेखर सिंह
3160.*पूर्णिका*
3160.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
राजतंत्र क ठगबंधन!
राजतंत्र क ठगबंधन!
Bodhisatva kastooriya
प्रस्तुति : ताटक छंद
प्रस्तुति : ताटक छंद
भगवती प्रसाद व्यास " नीरद "
दोहा ग़ज़ल (गीतिका)
दोहा ग़ज़ल (गीतिका)
Subhash Singhai
वो गुलमोहर जो कभी, ख्वाहिशों में गिरा करती थी।
वो गुलमोहर जो कभी, ख्वाहिशों में गिरा करती थी।
Manisha Manjari
कभी खुश भी हो जाते हैं हम
कभी खुश भी हो जाते हैं हम
Shweta Soni
कविता
कविता
Shiva Awasthi
हम भी तो देखे
हम भी तो देखे
हिमांशु Kulshrestha
एक न एक दिन मर जाना है यह सब को पता है
एक न एक दिन मर जाना है यह सब को पता है
Ranjeet kumar patre
जगह-जगह पुष्प 'कमल' खिला;
जगह-जगह पुष्प 'कमल' खिला;
पंकज कुमार कर्ण
प्रेम के जीत।
प्रेम के जीत।
Acharya Rama Nand Mandal
"दुआ"
Dr. Kishan tandon kranti
#शेर-
#शेर-
*प्रणय प्रभात*
हालात ए वक्त से
हालात ए वक्त से
Dr fauzia Naseem shad
Loading...