Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
31 Jul 2016 · 1 min read

चमत्कार

चमत्कार को नमस्कार है
आज धन ही चमत्कार है
इंसान के पास अगर धन है
वह इंसान ही चमत्कार है
ऐ धन तुझे नमस्कार है,
तुझको पाने की ललक
सब में बेक़रार है
तेरे चक्कर में विजय माल्या भी
देश से
***फरार है
चमत्कार को नमस्कार है।
^^^दिनेश शर्मा^^^

Language: Hindi
2 Comments · 485 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
हर खुशी को नजर लग गई है।
हर खुशी को नजर लग गई है।
Taj Mohammad
नववर्ष पर मुझको उम्मीद थी
नववर्ष पर मुझको उम्मीद थी
gurudeenverma198
पल भर में बदल जाए
पल भर में बदल जाए
Dr fauzia Naseem shad
दिन भर जाने कहाँ वो जाता
दिन भर जाने कहाँ वो जाता
डॉ.सीमा अग्रवाल
आप और हम जीवन के सच
आप और हम जीवन के सच
Neeraj Agarwal
महिला दिवस पर एक व्यंग
महिला दिवस पर एक व्यंग
Prabhu Nath Chaturvedi "कश्यप"
*** चल अकेला.......!!! ***
*** चल अकेला.......!!! ***
VEDANTA PATEL
Mere shaksiyat  ki kitab se ab ,
Mere shaksiyat ki kitab se ab ,
Sakshi Tripathi
दोहा
दोहा
दुष्यन्त 'बाबा'
💐अज्ञात के प्रति-92💐
💐अज्ञात के प्रति-92💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
प्यार क्या है
प्यार क्या है
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
लोगों को सफलता मिलने पर खुशी मनाना जितना महत्वपूर्ण लगता है,
लोगों को सफलता मिलने पर खुशी मनाना जितना महत्वपूर्ण लगता है,
Paras Nath Jha
Second Chance
Second Chance
Pooja Singh
अछूत....
अछूत....
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
हर एक रास्ते की तकल्लुफ कौन देता है..........
हर एक रास्ते की तकल्लुफ कौन देता है..........
कवि दीपक बवेजा
मातृत्व
मातृत्व
साहित्य गौरव
दवा और दुआ में इतना फर्क है कि-
दवा और दुआ में इतना फर्क है कि-
Santosh Barmaiya #jay
झील बनो
झील बनो
Dr. Kishan tandon kranti
कभी पथभ्रमित न हो,पथर्भिष्टी को देखकर।
कभी पथभ्रमित न हो,पथर्भिष्टी को देखकर।
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
2764. *पूर्णिका*
2764. *पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
'नव कुंडलिया 'राज' छंद' में रमेशराज के 4 प्रणय गीत
'नव कुंडलिया 'राज' छंद' में रमेशराज के 4 प्रणय गीत
कवि रमेशराज
श्रीराम
श्रीराम
सुरेखा कादियान 'सृजना'
'एक कप चाय' की कीमत
'एक कप चाय' की कीमत
Karishma Shah
ग़ज़ल- तू फितरत ए शैतां से कुछ जुदा तो नहीं है- डॉ तबस्सुम जहां
ग़ज़ल- तू फितरत ए शैतां से कुछ जुदा तो नहीं है- डॉ तबस्सुम जहां
Dr Tabassum Jahan
भीमराव अम्बेडकर
भीमराव अम्बेडकर
Mamta Rani
बिताया कीजिए कुछ वक्त
बिताया कीजिए कुछ वक्त
पूर्वार्थ
■ बच कर रहिएगा
■ बच कर रहिएगा
*Author प्रणय प्रभात*
*देश की आत्मा है हिंदी*
*देश की आत्मा है हिंदी*
Shashi kala vyas
सफर में महबूब को कुछ बोल नहीं पाया
सफर में महबूब को कुछ बोल नहीं पाया
Anil chobisa
मत कहना ...
मत कहना ...
SURYA PRAKASH SHARMA
Loading...