Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
31 Jul 2016 · 1 min read

चमत्कार

चमत्कार को नमस्कार है
आज धन ही चमत्कार है
इंसान के पास अगर धन है
वह इंसान ही चमत्कार है
ऐ धन तुझे नमस्कार है,
तुझको पाने की ललक
सब में बेक़रार है
तेरे चक्कर में विजय माल्या भी
देश से
***फरार है
चमत्कार को नमस्कार है।
^^^दिनेश शर्मा^^^

Language: Hindi
Tag: कविता
2 Comments · 365 Views
You may also like:
संस्मरण:भगवान स्वरूप सक्सेना "मुसाफिर"
Ravi Prakash
ना वो हवा ना वो पानी है अब
VINOD KUMAR CHAUHAN
अक्षय तृतीया की हार्दिक शुभकामनाएं
sheelasingh19544 Sheela Singh
हृद् कामना ....
डॉ.सीमा अग्रवाल
" मायूस धरती "
Dr Meenu Poonia
मम्मी थी इसलिए मैं हूँ...!! मम्मी I Miss U😔
Ravi Malviya
पति पत्नी पर हास्य व्यंग
Ram Krishan Rastogi
इंद्रधनुष
Sushil chauhan
पिता
Mamta Rani
✍️मैं अपनी रूह के अंदर गया✍️
'अशांत' शेखर
ग़ज़ल -
Mahendra Narayan
एक गंभीर समस्या भ्रष्टाचारी काव्य
AMRESH KUMAR VERMA
हो दर्दे दिल तो हाले दिल सुनाया भी नहीं जाता।
सत्य कुमार प्रेमी
💐दुधई💐
DR ARUN KUMAR SHASTRI
हम ऐसे ज़ोहरा-जमालों में डूब जाते हैं
Anis Shah
JNU CAMPUS
मनोज शर्मा
घर की रानी
Kanchan Khanna
बदरी
सूर्यकांत द्विवेदी
Writing Challenge- माता-पिता (Parents)
Sahityapedia
मनवा नाचन लागे
मनोज कर्ण
::: प्यासी निगाहें :::
MSW Sunil SainiCENA
कहानी *"ममता"* पार्ट-4 लेखक: राधाकिसन मूंधड़ा, सूरत।
radhakishan Mundhra
क्यों ना नये अनुभवों को अब साथ करें?
Manisha Manjari
ख़्वाब सारे तो
Dr fauzia Naseem shad
इंकलाब की तैयारी
Shekhar Chandra Mitra
मौसम तो बस बहाना हुआ है
Kaur Surinder
अच्छा लगता है।
Taj Mohammad
भेड़ चाल में फंसी माँ
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
ताजा समाचार है
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
युद्ध सिर्फ प्रश्न खड़ा करता है। [भाग ७]
Anamika Singh
Loading...