Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
25 Jan 2017 · 1 min read

चमकी – चमकी बेटियाँ चमकी (साहित्य पीडिया काव्य प्रतियोगिता)

चमकी – चमकी बेटियां चमकी,
चारों दिशाओं में चर्चा है उनकी !
ढूंढ लाई हैं समंदर से सच्चे मोती ,
चूम ली है एवरेस्ट की ऊँची छोटी , खिलखिलाकर कलियाँ फूल बन महकी !
चमकी चमकी बेटियां चमकी,
चारों दिशाओं में चर्चा है उनकी !
दिल हुआ फौलाद अब तेजाब का ना डर,
रोक सकती है नहीं चौखट न कोई दर ,
जोश में भरकर चली क्या लेगी क्या धमकी ! चमकी चमकी बेटियां चमकी,
चारों दिशाओं में चर्चा है उनकी !
अब नहीं चिंगारियां ये आग का दरिया
सख्त हैं इनके इरादे ये नहीं परियां ,
खोल देंगी ये तरक्की के सभी खिड़की ! चमकी चमकी बेटियां चमकी,
चारों दिशाओं में चर्चा है उनकी !
न रहेंगी चुप पुरजोर चीखेंगी ,
हर हुनर लड़कों के साथ साथ सीखेंगी ,
ये किरण बन चमकेंगी आशाएं ये कल की ! चमकी चमकी बेटियां चमकी,
चारों दिशाओं में चर्चा है उनकी !
डॉ शिखा कौशिक ‘नूतन’

1 Like · 402 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from डॉ शिखा कौशिक नूतन
View all
You may also like:
प्रिय विरह
प्रिय विरह
लक्ष्मी सिंह
कोई अपना नहीं है
कोई अपना नहीं है
Dr fauzia Naseem shad
"काली सोच, काले कृत्य,
*Author प्रणय प्रभात*
बदलाव
बदलाव
दशरथ रांकावत 'शक्ति'
डॉ अरुण कुमार शास्त्री
डॉ अरुण कुमार शास्त्री
DR ARUN KUMAR SHASTRI
कश्ती औऱ जीवन
कश्ती औऱ जीवन
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
अकथ कथा
अकथ कथा
Neelam Sharma
कुश्ती दंगल
कुश्ती दंगल
मनोज कर्ण
कैसे अम्बर तक जाओगे
कैसे अम्बर तक जाओगे
सुशील मिश्रा ' क्षितिज राज '
हँसी हम सजाएँ
हँसी हम सजाएँ
Dr. Sunita Singh
प्रेम निवेश है-2❤️
प्रेम निवेश है-2❤️
Rohit yadav
"समय से बड़ा जादूगर दूसरा कोई नहीं,
तरुण सिंह पवार
गजब है उनकी सादगी
गजब है उनकी सादगी
sushil sarna
2461.पूर्णिका
2461.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
*अकड़ू-बकड़ू थे दो डाकू (बाल कविता )*
*अकड़ू-बकड़ू थे दो डाकू (बाल कविता )*
Ravi Prakash
17)”माँ”
17)”माँ”
Sapna Arora
तेरे इश्क़ में
तेरे इश्क़ में
Gouri tiwari
ग़ज़ल
ग़ज़ल
ईश्वर दयाल गोस्वामी
कविता
कविता
Alka Gupta
💐अज्ञात के प्रति-102💐
💐अज्ञात के प्रति-102💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
दोलत - शोरत कर रहे, हम सब दिनों - रात।
दोलत - शोरत कर रहे, हम सब दिनों - रात।
Anil chobisa
कहां गए तुम
कहां गए तुम
Satish Srijan
कोरोना महामारी
कोरोना महामारी
Irshad Aatif
यह आखिरी है दफा
यह आखिरी है दफा
gurudeenverma198
वाणी वह अस्त्र है जो आपको जीवन में उन्नति देने व अवनति देने
वाणी वह अस्त्र है जो आपको जीवन में उन्नति देने व अवनति देने
ओम प्रकाश श्रीवास्तव
सफ़र
सफ़र
Shyam Sundar Subramanian
उसने किरदार ठीक से नहीं निभाया अपना
उसने किरदार ठीक से नहीं निभाया अपना
कवि दीपक बवेजा
चैन से जिंदगी
चैन से जिंदगी
Basant Bhagawan Roy
"मजदूर"
Dr. Kishan tandon kranti
विश्व वरिष्ठ दिवस
विश्व वरिष्ठ दिवस
Ram Krishan Rastogi
Loading...