Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
Nov 8, 2016 · 1 min read

चतुष्पदी

बालों ने तेरे गालों को छुआ ।
काजल ने तेरी पलकों को छुआ ।
ये देख के कंगना खनक उठे,
गीतों ने तेरे होठों को छुआ ।

………श्रीमती रवि शर्मा…………

289 Views
You may also like:
किसकी पीर सुने ? (नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
✍️हमसे लिपट गये✍️
"अशांत" शेखर
नववर्ष का संकल्प
DESH RAJ
चाय की चुस्की
श्री रमण
!¡! बेखबर इंसान !¡!
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
विचलित मन
AMRESH KUMAR VERMA
कलम
AMRESH KUMAR VERMA
✍️वास्तविकता✍️
"अशांत" शेखर
इन नजरों के वार से बचना है।
Taj Mohammad
समसामयिक बुंदेली ग़ज़ल /
ईश्वर दयाल गोस्वामी
# जज्बे सलाम ...
Chinta netam " मन "
मेरे मन के भाव
Ram Krishan Rastogi
नित नए संघर्ष करो (मजदूर दिवस)
श्री रमण
प्रेयसी पुनीता
Mahendra Rai
प्रार्थना(कविता)
श्रीहर्ष आचार्य
“श्री चरणों में तेरे नमन, हे पिता स्वीकार हो”
Kumar Akhilesh
शायरी
श्याम सिंह बिष्ट
" सूरजमल "
Dr Meenu Poonia
खुशियों भरे पल
surenderpal vaidya
बेजुबान और कसाई
मनोज कर्ण
मेरे पिता से बेहतर कोई नहीं
Manu Vashistha
गंगा दशहरा गंगा जी के प्रकाट्य का दिन
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
न कोई चाहत
Ray's Gupta
जोकर vs कठपुतली ~03
bhandari lokesh
"आज बहुत दिनों बाद"
Lohit Tamta
कविता में मुहावरे
Ram Krishan Rastogi
"मौन "
DrLakshman Jha Parimal
बुद्ध पूर्णिमा पर मेरे मन के उदगार
Ram Krishan Rastogi
कविता क्या है ?
Ram Krishan Rastogi
एक हरे भरे गुलशन का सपना
ओनिका सेतिया 'अनु '
Loading...