Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
8 Nov 2016 · 1 min read

चतुष्पदी

बालों ने तेरे गालों को छुआ ।
काजल ने तेरी पलकों को छुआ ।
ये देख के कंगना खनक उठे,
गीतों ने तेरे होठों को छुआ ।

………श्रीमती रवि शर्मा…………

Language: Hindi
494 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
अब बस बहुत हुआ हमारा इम्तिहान
अब बस बहुत हुआ हमारा इम्तिहान
ruby kumari
पीड़ा की मूकता को
पीड़ा की मूकता को
Dr fauzia Naseem shad
*मामूली आदमी (कुंडलिया)*
*मामूली आदमी (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
** मुक्तक **
** मुक्तक **
surenderpal vaidya
न शायर हूँ, न ही गायक,
न शायर हूँ, न ही गायक,
Satish Srijan
जागो।
जागो।
Anil Mishra Prahari
रस्म ए उल्फत भी बार -बार शिद्दत से
रस्म ए उल्फत भी बार -बार शिद्दत से
AmanTv Editor In Chief
चंद तारे
चंद तारे
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
रंग हरा सावन का
रंग हरा सावन का
डॉ. श्री रमण 'श्रीपद्'
खूबसूरत पड़ोसन का कंफ्यूजन
खूबसूरत पड़ोसन का कंफ्यूजन
Dr. Pradeep Kumar Sharma
आओ दीप जलायें
आओ दीप जलायें
डॉ. शिव लहरी
मेंरे प्रभु राम आये हैं, मेंरे श्री राम आये हैं।
मेंरे प्रभु राम आये हैं, मेंरे श्री राम आये हैं।
सत्य कुमार प्रेमी
■ एक सलाह, नेक सलाह...
■ एक सलाह, नेक सलाह...
*Author प्रणय प्रभात*
आज हमने सोचा
आज हमने सोचा
shabina. Naaz
पकौड़े गरम गरम
पकौड़े गरम गरम
Dr Archana Gupta
दिल की पुकार है _
दिल की पुकार है _
Rajesh vyas
धर्म की खिचड़ी
धर्म की खिचड़ी
विनोद सिल्ला
फिर से अजनबी बना गए जो तुम
फिर से अजनबी बना गए जो तुम
लक्ष्मी वर्मा प्रतीक्षा
बेपरवाह खुशमिज़ाज़ पंछी
बेपरवाह खुशमिज़ाज़ पंछी
Suman (Aditi Angel 🧚🏻)
"समय से बड़ा जादूगर दूसरा कोई नहीं,
तरुण सिंह पवार
बारिश पड़ी तो हम भी जान गए,
बारिश पड़ी तो हम भी जान गए,
manjula chauhan
मंज़र
मंज़र
अखिलेश 'अखिल'
🚩अमर कोंच-इतिहास
🚩अमर कोंच-इतिहास
Pt. Brajesh Kumar Nayak
मां कात्यायनी
मां कात्यायनी
Mukesh Kumar Sonkar
এটি একটি সত্য
এটি একটি সত্য
Otteri Selvakumar
विश्व पुस्तक दिवस पर विशेष
विश्व पुस्तक दिवस पर विशेष
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
सिर्फ लिखती नही कविता,कलम को कागज़ पर चलाने के लिए //
सिर्फ लिखती नही कविता,कलम को कागज़ पर चलाने के लिए //
गुप्तरत्न
24/245. *छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
24/245. *छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
इश्क़ के नाम पर धोखा मिला करता है यहां।
इश्क़ के नाम पर धोखा मिला करता है यहां।
Phool gufran
करवा चौथ
करवा चौथ
Er. Sanjay Shrivastava
Loading...