Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
3 Apr 2024 · 1 min read

“चढ़ती उमर”

“चढ़ती उमर”
चढ़ती उमर में लगने लगती
कोई ब्रह्माण्ड सुन्दरी,
युवती को भी लगने लगता
सुन्दर बुद्धिमान युवे,
बस ऐसे ही भ्रम से
जमाने में लाखों हादसे हुए।

1 Like · 1 Comment · 45 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Dr. Kishan tandon kranti
View all
You may also like:
*हनुमान जी*
*हनुमान जी*
Shashi kala vyas
ऐसे हैं हम तो, और सच भी यही है
ऐसे हैं हम तो, और सच भी यही है
gurudeenverma198
सुरमई शाम का उजाला है
सुरमई शाम का उजाला है
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
आज नए रंगों से तूने घर अपना सजाया है।
आज नए रंगों से तूने घर अपना सजाया है।
Manisha Manjari
बज्जिका के पहिला कवि ताले राम
बज्जिका के पहिला कवि ताले राम
Udaya Narayan Singh
आ रही है लौटकर अपनी कहानी
आ रही है लौटकर अपनी कहानी
Suryakant Dwivedi
"याद तुम्हारी आती है"
Dr. Kishan tandon kranti
चुनिंदा बाल कहानियाँ (पुस्तक, बाल कहानी संग्रह)
चुनिंदा बाल कहानियाँ (पुस्तक, बाल कहानी संग्रह)
Dr. Pradeep Kumar Sharma
सुप्रभात
सुप्रभात
डॉक्टर रागिनी
*मन राह निहारे हारा*
*मन राह निहारे हारा*
Poonam Matia
शराब
शराब
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
वोटों की फसल
वोटों की फसल
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
बहुत ख्वाहिश थी ख्वाहिशों को पूरा करने की
बहुत ख्वाहिश थी ख्वाहिशों को पूरा करने की
VINOD CHAUHAN
**विकास**
**विकास**
Awadhesh Kumar Singh
निदामत का एक आँसू ......
निदामत का एक आँसू ......
shabina. Naaz
अच्छी-अच्छी बातें (बाल कविता)
अच्छी-अच्छी बातें (बाल कविता)
Ravi Prakash
"बड़ी बातें करने के लिए
*Author प्रणय प्रभात*
बरसात...
बरसात...
डॉ.सीमा अग्रवाल
अद्भुद भारत देश
अद्भुद भारत देश
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
Remembering that winter Night
Remembering that winter Night
Bidyadhar Mantry
23/220. *छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
23/220. *छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
तोड़ कर खुद को
तोड़ कर खुद को
Dr fauzia Naseem shad
जाने बचपन
जाने बचपन
Punam Pande
कुण्डलिया-मणिपुर
कुण्डलिया-मणिपुर
दुष्यन्त 'बाबा'
💐प्रेम कौतुक-546💐
💐प्रेम कौतुक-546💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
करीब हो तुम किसी के भी,
करीब हो तुम किसी के भी,
manjula chauhan
🌺हे परम पिता हे परमेश्वर 🙏🏻
🌺हे परम पिता हे परमेश्वर 🙏🏻
निरंजन कुमार तिलक 'अंकुर'
महिला दिवस
महिला दिवस
Dr.Pratibha Prakash
दो जून की रोटी
दो जून की रोटी
Dr. Ramesh Kumar Nirmesh
रास्ते है बड़े उलझे-उलझे
रास्ते है बड़े उलझे-उलझे
Buddha Prakash
Loading...