Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
14 May 2023 · 1 min read

चंद फूलों की खुशबू से कुछ नहीं होता

चंद फूलों की खुशबू से कुछ नहीं होता

चंद फूलों की खुशबू से कुछ नहीं होता
चलो फूलों का उपवन एक सजाएं

चंद मोतियों से कुछ नहीं होता
चलो मोतियों की माला एक बनाएं

चंद सितारों से कुछ नहीं होता
सितारों से सजा एक गगन बनाएं

चंद फूलों से कुछ नहीं होता
चलो फूलों का उपवन एक सजाएं

चंद मुस्कुराहटों से कुछ नहीं होता
चलो हँसी की बगिया एक सजाएं

चंद किरणों से कुछ नहीं होता
चलो प्रयासों का सूरज एक सजाएं

चंद कोशिशों से कुछ नहीं होता
चलो कोशिशों को मंजिल एक दिखाएँ

चंद दीपों से कुछ नहीं होता
चलो दीपों की माला एक बनाएं

चंद उसूलों से कुछ नहीं होता
चलो जिन्दगी को उसूलों का समंदर एक बनाएं

चंद फूलों की खुशबू से कुछ नहीं होता
चलो फूलों का उपवन एक सजाएं

Language: Hindi
2 Likes · 361 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
View all
You may also like:
“बदलते रिश्ते”
“बदलते रिश्ते”
पंकज कुमार कर्ण
राम के नाम की ताकत
राम के नाम की ताकत
Meera Thakur
राम लला
राम लला
Satyaveer vaishnav
एक अलग ही दुनिया
एक अलग ही दुनिया
Sangeeta Beniwal
तू आ पास पहलू में मेरे।
तू आ पास पहलू में मेरे।
Taj Mohammad
हर बार बीमारी ही वजह नही होती
हर बार बीमारी ही वजह नही होती
ruby kumari
■ हर जगह मारा-मारी है जी अब। और कोई काम बचा नहीं बिना लागत क
■ हर जगह मारा-मारी है जी अब। और कोई काम बचा नहीं बिना लागत क
*प्रणय प्रभात*
माँ
माँ
Sandhya Chaturvedi(काव्यसंध्या)
मातृभूमि
मातृभूमि
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
अब तो उठ जाओ, जगाने वाले आए हैं।
अब तो उठ जाओ, जगाने वाले आए हैं।
नेताम आर सी
यहाँ किसे , किसका ,कितना भला चाहिए ?
यहाँ किसे , किसका ,कितना भला चाहिए ?
_सुलेखा.
पुकार!
पुकार!
कविता झा ‘गीत’
अरमानों की भीड़ में,
अरमानों की भीड़ में,
Mahendra Narayan
प्यार विश्वाश है इसमें कोई वादा नहीं होता!
प्यार विश्वाश है इसमें कोई वादा नहीं होता!
Diwakar Mahto
मेरा गुरूर है पिता
मेरा गुरूर है पिता
VINOD CHAUHAN
तुझसे रिश्ता
तुझसे रिश्ता
Dr fauzia Naseem shad
न बदले...!
न बदले...!
Srishty Bansal
ईश्क में यार थोड़ा सब्र करो।
ईश्क में यार थोड़ा सब्र करो।
Prabhu Nath Chaturvedi "कश्यप"
*सीता जी : छह दोहे*
*सीता जी : छह दोहे*
Ravi Prakash
हर एक मंजिल का अपना कहर निकला
हर एक मंजिल का अपना कहर निकला
कवि दीपक बवेजा
बैठे थे किसी की याद में
बैठे थे किसी की याद में
Sonit Parjapati
Bikhari yado ke panno ki
Bikhari yado ke panno ki
Sakshi Tripathi
23/29.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
23/29.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
बाधाएं आती हैं आएं घिरे प्रलय की घोर घटाएं पावों के नीचे अंग
बाधाएं आती हैं आएं घिरे प्रलय की घोर घटाएं पावों के नीचे अंग
पूर्वार्थ
" न जाने क्या है जीवन में "
Chunnu Lal Gupta
दोहा- मीन-मेख
दोहा- मीन-मेख
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
वर्ल्ड रिकॉर्ड
वर्ल्ड रिकॉर्ड
Dr. Pradeep Kumar Sharma
केही कथा/इतिहास 'Pen' ले र केही 'Pain' ले लेखिएको पाइन्छ।'Pe
केही कथा/इतिहास 'Pen' ले र केही 'Pain' ले लेखिएको पाइन्छ।'Pe
Dinesh Yadav (दिनेश यादव)
ख्याल (कविता)
ख्याल (कविता)
Monika Yadav (Rachina)
चाँद पूछेगा तो  जवाब  क्या  देंगे ।
चाँद पूछेगा तो जवाब क्या देंगे ।
sushil sarna
Loading...