Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
17 May 2024 · 1 min read

चंद्रयान ने चांद से पूछा, चेहरे पर ये धब्बे क्यों।

चांद से पूछा
😂😂😂😂
मुक्तक

चंद्रयान ने चांद से पूछा, चेहरे पर ये धब्बे क्यों।
बुरा न मानो तो कह दें, ये गहरे-गहरे गड्ढे क्यों।
आग बबूला हुआ चांद बोला मां से पूछो जाके,
उल्टा सीधा प्रश्न बेवजह, आप मुझी से करते क्यों।

………✍️ सत्य कुमार प्रेमी

27 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
बात बात में लड़ने लगे हैं _खून गर्म क्यों इतना है ।
बात बात में लड़ने लगे हैं _खून गर्म क्यों इतना है ।
Rajesh vyas
प्रेमचंद ने ’जीवन में घृणा का महत्व’ लिखकर बताया कि क्यों हम
प्रेमचंद ने ’जीवन में घृणा का महत्व’ लिखकर बताया कि क्यों हम
Dr MusafiR BaithA
खड़ा रेत पर नदी मुहाने...
खड़ा रेत पर नदी मुहाने...
डॉ.सीमा अग्रवाल
मैं और सिर्फ मैं ही
मैं और सिर्फ मैं ही
Lakhan Yadav
द्रौपदी ने भी रखा था ‘करवा चौथ’ का व्रत
द्रौपदी ने भी रखा था ‘करवा चौथ’ का व्रत
कवि रमेशराज
वातायन के खोलती,
वातायन के खोलती,
sushil sarna
अमृतकलश
अमृतकलश
Dr. Ramesh Kumar Nirmesh
আজ চারপাশ টা কেমন নিরব হয়ে আছে
আজ চারপাশ টা কেমন নিরব হয়ে আছে
Sukoon
नीर क्षीर विभेद का विवेक
नीर क्षीर विभेद का विवेक
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
मायूसियों से निकलकर यूँ चलना होगा
मायूसियों से निकलकर यूँ चलना होगा
VINOD CHAUHAN
दोस्ती
दोस्ती
Kanchan Alok Malu
कीमतें भी चुकाकर देख ली मैंने इज़हार-ए-इश्क़ में
कीमतें भी चुकाकर देख ली मैंने इज़हार-ए-इश्क़ में
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
Experience Life
Experience Life
Saransh Singh 'Priyam'
सत्य तत्व है जीवन का खोज
सत्य तत्व है जीवन का खोज
Buddha Prakash
ममतामयी मां
ममतामयी मां
Santosh kumar Miri
चंद्रयान 3
चंद्रयान 3
Dr.Priya Soni Khare
She never apologized for being a hopeless romantic, and endless dreamer.
She never apologized for being a hopeless romantic, and endless dreamer.
Manisha Manjari
😊 व्यक्तिगत मत :--
😊 व्यक्तिगत मत :--
*प्रणय प्रभात*
* सत्य पथ पर *
* सत्य पथ पर *
surenderpal vaidya
2834. *पूर्णिका*
2834. *पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
ये नफरत बुरी है ,न पालो इसे,
ये नफरत बुरी है ,न पालो इसे,
Ranjeet kumar patre
*मायापति को नचा रही, सोने के मृग की माया (गीत)*
*मायापति को नचा रही, सोने के मृग की माया (गीत)*
Ravi Prakash
"" *पेड़ों की पुकार* ""
सुनीलानंद महंत
श्रेष्ठ विचार और उत्तम संस्कार ही आदर्श जीवन की चाबी हैं।।
श्रेष्ठ विचार और उत्तम संस्कार ही आदर्श जीवन की चाबी हैं।।
Lokesh Sharma
एक है ईश्वर
एक है ईश्वर
Dr fauzia Naseem shad
"प्रेम रोग"
Dr. Kishan tandon kranti
चिड़िया
चिड़िया
Kanchan Khanna
आज़ के पिता
आज़ के पिता
Sonam Puneet Dubey
बुंदेली दोहा -तर
बुंदेली दोहा -तर
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
*अज्ञानी की कलम*
*अज्ञानी की कलम*
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी
Loading...