Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
24 Aug 2023 · 1 min read

चंदा मामा और चंद्रयान

नए भारत का आज उदय हुआ है,
चंद्रयान का चांद पर लैंड हुआ है।
करते इसपर हम सब स्वाभिमान,
बढ़ेगा भारत का विश्व में सम्मान।।

आज तिरंगा चांद पर लहर रहा है,
भारत का सम्मान आज बढ़ रहा है।
अब आदित्य पर जाने की है तयारी,
उसके लिए भारत प्रयत्न कर रहा है।।

चांद पर जाकर वहां अध्ययन करेंगे,
नई नई चीजों का वहां पर पता करेंगे।
जो होगा मानव कल्याण के लिए,
उन चीजों का हम सदउपयोग करेंगे।।

चंदा मामा रहेंगे न अब दूर के,
अब तो बन गए है वह टूर के।
छुट्टियों में मामा के घर जाएंगे,
खीर पूड़ी अब वहां अब खायेंगे।।

वैज्ञानिकों को मेरा कोटि कोटि नमन,
सभी देशवासियों को भी मेरा नमन।
करता रहे भारत नए नए शोध निरंतर,
हर नए शोध को मेरा कोटि कोटि नमन।।

आर के रस्तोगी गुरुग्राम

Language: Hindi
1 Like · 1 Comment · 235 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Ram Krishan Rastogi
View all
You may also like:
माॅर्डन आशिक
माॅर्डन आशिक
Kanchan Khanna
दिन ढले तो ढले
दिन ढले तो ढले
Dr.Pratibha Prakash
हँस रहे थे कल तलक जो...
हँस रहे थे कल तलक जो...
डॉ.सीमा अग्रवाल
Dr Arun Kumar shastri
Dr Arun Kumar shastri
DR ARUN KUMAR SHASTRI
I'm a basket full of secrets,
I'm a basket full of secrets,
Sukoon
डॉक्टर
डॉक्टर
Dr. Pradeep Kumar Sharma
उमड़ते जज्बातों में,
उमड़ते जज्बातों में,
Niharika Verma
" माँ "
Dr. Kishan tandon kranti
मैं इस दुनिया का सबसे बुरा और मुर्ख आदमी हूँ
मैं इस दुनिया का सबसे बुरा और मुर्ख आदमी हूँ
Jitendra kumar
!! चहक़ सको तो !!
!! चहक़ सको तो !!
Chunnu Lal Gupta
संतुष्टि
संतुष्टि
Dr. Rajeev Jain
दीपक माटी-धातु का,
दीपक माटी-धातु का,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
सेंगोल जुवाली आपबीती कहानी🙏🙏
सेंगोल जुवाली आपबीती कहानी🙏🙏
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
सोचके बत्तिहर बुत्ताएल लोकके व्यवहार अंधा होइछ, ढल-फुँनगी पर
सोचके बत्तिहर बुत्ताएल लोकके व्यवहार अंधा होइछ, ढल-फुँनगी पर
Dinesh Yadav (दिनेश यादव)
2598.पूर्णिका
2598.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
बेहतर और बेहतर होते जाए
बेहतर और बेहतर होते जाए
Vaishaligoel
उनको मंजिल कहाँ नसीब
उनको मंजिल कहाँ नसीब
Mrs PUSHPA SHARMA {पुष्पा शर्मा अपराजिता}
धन ..... एक जरूरत
धन ..... एक जरूरत
Neeraj Agarwal
शे’र/ MUSAFIR BAITHA
शे’र/ MUSAFIR BAITHA
Dr MusafiR BaithA
*ओले (बाल कविता)*
*ओले (बाल कविता)*
Ravi Prakash
बाहर निकलने से डर रहे हैं लोग
बाहर निकलने से डर रहे हैं लोग
ऐ./सी.राकेश देवडे़ बिरसावादी
करी लाडू
करी लाडू
Ranjeet kumar patre
तू ही हमसफर, तू ही रास्ता, तू ही मेरी मंजिल है,
तू ही हमसफर, तू ही रास्ता, तू ही मेरी मंजिल है,
Rajesh Kumar Arjun
जब प्यार है
जब प्यार है
surenderpal vaidya
समय की कविता
समय की कविता
Vansh Agarwal
शांत सा जीवन
शांत सा जीवन
Dr fauzia Naseem shad
आ रही है लौटकर अपनी कहानी
आ रही है लौटकर अपनी कहानी
Suryakant Dwivedi
मजदूर का बेटा हुआ I.A.S
मजदूर का बेटा हुआ I.A.S
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
आजकल की स्त्रियां
आजकल की स्त्रियां
Abhijeet
■चन्दाखोरी कांड■
■चन्दाखोरी कांड■
*प्रणय प्रभात*
Loading...