Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
5 Jul 2023 · 1 min read

*घुटन बहुत है बरसो बादल(हिंदी गजल/गीतिका)*

घुटन बहुत है बरसो बादल(हिंदी गजल/गीतिका)
_________________________
(1)
घुटन बहुत है बरसो बादल
बीत रहा मुश्किल से हर पल
(2)
बादल तो आए हैं लेकिन
कहीं बरसना जाए न टल
(3)
एक इलाज बरसना केवल
यही घुटन का होता है हल
(4)
इतनी घुटन नहीं रह सकती
बारिश आज नहीं तो फिर कल
(5)
काले घने घिरे बादल हैं
छतरी को घर से लेकर चल
_________________________
रचयिता :रवि प्रकाश
बाजार सर्राफा, रामपुर (उत्तर प्रदेश)
मोबाइल 99976 15451

337 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Ravi Prakash
View all
You may also like:
"सिलसिला"
Dr. Kishan tandon kranti
तो मैं राम ना होती....?
तो मैं राम ना होती....?
Mamta Singh Devaa
2973.*पूर्णिका*
2973.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
चोरबत्ति (मैथिली हायकू)
चोरबत्ति (मैथिली हायकू)
Dinesh Yadav (दिनेश यादव)
अकेला हूँ ?
अकेला हूँ ?
Surya Barman
✍️ मसला क्यूँ है ?✍️
✍️ मसला क्यूँ है ?✍️
'अशांत' शेखर
ग़ज़ल/नज़्म - फितरत-ए-इंसा...आज़ कोई सामान बिक गया नाम बन के
ग़ज़ल/नज़्म - फितरत-ए-इंसा...आज़ कोई सामान बिक गया नाम बन के
अनिल कुमार
सर के बल चलकर आएँगी, खुशियाँ अपने आप।
सर के बल चलकर आएँगी, खुशियाँ अपने आप।
डॉ.सीमा अग्रवाल
#महाकाल_लोक
#महाकाल_लोक
*प्रणय प्रभात*
*मौहब्बत सीख ली हमने, तुम्हारे साथ यारी में (मुक्तक)*
*मौहब्बत सीख ली हमने, तुम्हारे साथ यारी में (मुक्तक)*
Ravi Prakash
आड़ी तिरछी पंक्तियों को मान मिल गया,
आड़ी तिरछी पंक्तियों को मान मिल गया,
Satish Srijan
मानते हो क्यों बुरा तुम , लिखे इस नाम को
मानते हो क्यों बुरा तुम , लिखे इस नाम को
gurudeenverma198
पहाड़ चढ़ना भी उतना ही कठिन होता है जितना कि पहाड़ तोड़ना ठीक उस
पहाड़ चढ़ना भी उतना ही कठिन होता है जितना कि पहाड़ तोड़ना ठीक उस
Dr. Man Mohan Krishna
कृषक की उपज
कृषक की उपज
Praveen Sain
कर्म ही है श्रेष्ठ
कर्म ही है श्रेष्ठ
Sandeep Pande
18, गरीब कौन
18, गरीब कौन
Dr Shweta sood
कभी सरल तो कभी सख़्त होते हैं ।
कभी सरल तो कभी सख़्त होते हैं ।
Neelam Sharma
घबरा के छोड़ दें
घबरा के छोड़ दें
Dr fauzia Naseem shad
कुदरत
कुदरत
manisha
जनता की कमाई गाढी
जनता की कमाई गाढी
Bodhisatva kastooriya
कविता-
कविता- "हम न तो कभी हमसफ़र थे"
Dr Tabassum Jahan
आप और हम जीवन के सच
आप और हम जीवन के सच
Neeraj Agarwal
*
*"बापू जी"*
Shashi kala vyas
हिन्दी दोहा-विश्वास
हिन्दी दोहा-विश्वास
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
हमने माना कि हालात ठीक नहीं हैं
हमने माना कि हालात ठीक नहीं हैं
SHAMA PARVEEN
जीवन चक्र
जीवन चक्र
सुशील मिश्रा ' क्षितिज राज '
विपत्ति आपके कमजोर होने का इंतजार करती है।
विपत्ति आपके कमजोर होने का इंतजार करती है।
Paras Nath Jha
I want to tell them, they exist!!
I want to tell them, they exist!!
Rachana
बमुश्किल से मुश्किल तक पहुँची
बमुश्किल से मुश्किल तक पहुँची
सिद्धार्थ गोरखपुरी
गुज़र गयी है जिंदगी की जो मुश्किल घड़ियां।।
गुज़र गयी है जिंदगी की जो मुश्किल घड़ियां।।
Prabhu Nath Chaturvedi "कश्यप"
Loading...