Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
8 Apr 2023 · 1 min read

घुटने बदले दादी जी के( बाल कविता)

घुटने बदले दादी जी के( बाल कविता)
*******************************
घुटनों में था दर्द हमेशा
दादी जी के रहता ,
नए बदलवालें घुटने
हर कोई उनसे कहता ।

एक दिवस दादी जी घुटने
नए बदलकर लाईं,
फटफट जीना ऊपर चढ़तीं
हमने देखा आईं ।

दादी बोलीं अब मैं मीलों
पैदल रोज चलुंगी,
दर्द- निवारक मरहम अब
घुटनों पर नहीं मलुंगी ।।
******************************
रचयिता: रवि प्रकाश ,बाजार सर्राफा, रामपुर ,उत्तर प्रदेश मोबाइल 9997615451

623 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Ravi Prakash
View all
You may also like:
निदामत का एक आँसू ......
निदामत का एक आँसू ......
shabina. Naaz
"What comes easy won't last,
पूर्वार्थ
ठहरी–ठहरी मेरी सांसों को
ठहरी–ठहरी मेरी सांसों को
Anju ( Ojhal )
डाकू आ सांसद फूलन देवी।
डाकू आ सांसद फूलन देवी।
Acharya Rama Nand Mandal
गुलाबों का सौन्दर्य
गुलाबों का सौन्दर्य
Ritu Asooja
#आज_का_संदेश
#आज_का_संदेश
*प्रणय प्रभात*
संस्कृति
संस्कृति
Abhijeet
बेटी
बेटी
Dinesh Yadav (दिनेश यादव)
नारी हो कमज़ोर नहीं
नारी हो कमज़ोर नहीं
Sonam Puneet Dubey
बैठी रहो कुछ देर और
बैठी रहो कुछ देर और
gurudeenverma198
हाथों की लकीरों तक
हाथों की लकीरों तक
Dr fauzia Naseem shad
* हाथ मलने लगा *
* हाथ मलने लगा *
surenderpal vaidya
*बाबा लक्ष्मण दास जी की स्तुति (गीत)*
*बाबा लक्ष्मण दास जी की स्तुति (गीत)*
Ravi Prakash
!! आशा जनि करिहऽ !!
!! आशा जनि करिहऽ !!
Chunnu Lal Gupta
जिंदगी हमने जी कब,
जिंदगी हमने जी कब,
Umender kumar
दिल तुम्हारा जो कहे, वैसा करो
दिल तुम्हारा जो कहे, वैसा करो
अरशद रसूल बदायूंनी
फनीश्वरनाथ रेणु के जन्म दिवस (4 मार्च) पर विशेष
फनीश्वरनाथ रेणु के जन्म दिवस (4 मार्च) पर विशेष
Paras Nath Jha
3469🌷 *पूर्णिका* 🌷
3469🌷 *पूर्णिका* 🌷
Dr.Khedu Bharti
चेहरे पे लगा उनके अभी..
चेहरे पे लगा उनके अभी..
Dr. Rajendra Singh 'Rahi'
इंसान दुनिया जमाने से भले झूठ कहे
इंसान दुनिया जमाने से भले झूठ कहे
ruby kumari
I want to tell them, they exist!!
I want to tell them, they exist!!
Rachana
मार्मिक फोटो
मार्मिक फोटो
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
वो सारी खुशियां एक तरफ लेकिन तुम्हारे जाने का गम एक तरफ लेकि
वो सारी खुशियां एक तरफ लेकिन तुम्हारे जाने का गम एक तरफ लेकि
★ IPS KAMAL THAKUR ★
उम्मीद ....
उम्मीद ....
sushil sarna
कविता (आओ तुम )
कविता (आओ तुम )
Sangeeta Beniwal
विभीषण का दुःख
विभीषण का दुःख
Dr MusafiR BaithA
जीवन मार्ग आसान है...!!!!
जीवन मार्ग आसान है...!!!!
Jyoti Khari
मैं जाटव हूं और अपने समाज और जाटवो का समर्थक हूं किसी अन्य स
मैं जाटव हूं और अपने समाज और जाटवो का समर्थक हूं किसी अन्य स
शेखर सिंह
फितरत
फितरत
Srishty Bansal
तेरा कंधे पे सर रखकर - दीपक नीलपदम्
तेरा कंधे पे सर रखकर - दीपक नीलपदम्
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
Loading...