Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
15 Feb 2024 · 1 min read

घाव

घाव

136 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from अखिलेश 'अखिल'
View all
You may also like:
रोशनी से तेरी वहां चांद  रूठा बैठा है
रोशनी से तेरी वहां चांद रूठा बैठा है
Virendra kumar
अच्छी तरह मैं होश में हूँ
अच्छी तरह मैं होश में हूँ
gurudeenverma198
चुना था हमने जिसे देश के विकास खातिर
चुना था हमने जिसे देश के विकास खातिर
Manoj Mahato
हीरक जयंती 
हीरक जयंती 
Punam Pande
वन को मत काटो
वन को मत काटो
Buddha Prakash
अष्टम कन्या पूजन करें,
अष्टम कन्या पूजन करें,
Neelam Sharma
अगर मैं कहूँ
अगर मैं कहूँ
Shweta Soni
अधिकांश लोगों के शब्द
अधिकांश लोगों के शब्द
*प्रणय प्रभात*
कौन किसी को बेवजह ,
कौन किसी को बेवजह ,
sushil sarna
रमेशराज की 3 तेवरियाँ
रमेशराज की 3 तेवरियाँ
कवि रमेशराज
चन्द्रयान तीन क्षितिज के पार🙏
चन्द्रयान तीन क्षितिज के पार🙏
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
There are instances that people will instantly turn their ba
There are instances that people will instantly turn their ba
पूर्वार्थ
जय मां शारदे
जय मां शारदे
Anil chobisa
2876.*पूर्णिका*
2876.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
दिखा दो
दिखा दो
surenderpal vaidya
हम फर्श पर गुमान करते,
हम फर्श पर गुमान करते,
Neeraj Agarwal
"लोग"
Dr. Kishan tandon kranti
मैं तो महज क़ायनात हूँ
मैं तो महज क़ायनात हूँ
VINOD CHAUHAN
जय माता दी ।
जय माता दी ।
Anil Mishra Prahari
खूबसूरत जिंदगी में
खूबसूरत जिंदगी में
Harminder Kaur
जीभ/जिह्वा
जीभ/जिह्वा
लक्ष्मी सिंह
*आंतरिक ऊर्जा*
*आंतरिक ऊर्जा*
DR ARUN KUMAR SHASTRI
संवादरहित मित्रता, मूक समाज और व्यथा पीड़ित नारी में परिवर्तन
संवादरहित मित्रता, मूक समाज और व्यथा पीड़ित नारी में परिवर्तन
DrLakshman Jha Parimal
ज़िन्दगी चल नए सफर पर।
ज़िन्दगी चल नए सफर पर।
Taj Mohammad
*ऋष्यमूक पर्वत गुणकारी :(कुछ चौपाइयॉं)*
*ऋष्यमूक पर्वत गुणकारी :(कुछ चौपाइयॉं)*
Ravi Prakash
डोर रिश्तों की
डोर रिश्तों की
Dr fauzia Naseem shad
विश्व कविता दिवस
विश्व कविता दिवस
विजय कुमार अग्रवाल
कोई आपसे तब तक ईर्ष्या नहीं कर सकता है जब तक वो आपसे परिचित
कोई आपसे तब तक ईर्ष्या नहीं कर सकता है जब तक वो आपसे परिचित
Rj Anand Prajapati
"लाभ का लोभ”
पंकज कुमार कर्ण
ईश्वर
ईश्वर
लक्ष्मी वर्मा प्रतीक्षा
Loading...