Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
13 May 2024 · 1 min read

घर-घर तिरंगा

ऑगन से लेकर अंतरिक्ष तक
आगाज से लेकर लक्ष तक
ये प्यारा तिरंगा लहराना है
घर-घर तिरंगा फहराना है

धरती से लेकर मंगल तक
खेलकूद से लेकर दंगल तक
तिरंगा विश्व में लहराना है
घर-घर तिरंगा फहराना है

गाँव से लेकर शहर तक
सागर से लेकर शिखर तक
ये प्यारा तिरंगा लहराना है
घर-घर तिरंगा फहराना है

अलसुबह से लेकर शाम तक
मेहनत से लेकर आराम तक
मधुर देश राग यह गाना है
घर-घर तिरंगा फहराना है

चौकी से लेकर सीमा तक
सम्मान से लेकर गरिमा तक
तिरंगा ऊचॉ सदा उठाना है
घर-घर तिरंगा फहराना है

पूरब से लेकर पश्चिम तक
उत्तर से लेकर दक्षिण तक
सब ओर ही तिरंगा छाना है
घर-घर तिरंगा फहराना है

दिल से लेकर दिमाग तक
साज से लेकर राग तक
सब को यही गुनगुनाना है
घर-घर तिरंगा फहराना है

छोटे से लेकर बड़े तक
पीछे पंक्ति में खड़े तक
सब पर प्रेम बरसाना है
घर-घर तिरंगा फहराना है

प्रतिक्षा से लेकर परीक्षा तक
राष्ट्र के गौरव की रक्षा तक
हरदम इसका मान बढ़ाना है
घर-घर तिरंगा फहराना है

क्षितिज से लेकर आसमान तक
जन्मभूमि से लेकर जहान तक
नभ पर भी तिरंगा लहराना है
सभी घर-घर तिरंगा फहराना है
~०~
मौलिक एवं स्वरचित : कविता प्रतियोगिता
रचना संख्या -१७: मई २०२४.©जीवनसवारो

Language: Hindi
1 Like · 28 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Jeewan Singh 'जीवनसवारो'
View all
You may also like:
सफर
सफर
Ritu Asooja
दोहा
दोहा
गुमनाम 'बाबा'
बाबू जी की याद बहुत ही आती है
बाबू जी की याद बहुत ही आती है
Dr. Rajendra Singh 'Rahi'
3383⚘ *पूर्णिका* ⚘
3383⚘ *पूर्णिका* ⚘
Dr.Khedu Bharti
मत छेड़ हमें देशभक्ति में हम डूबे है।
मत छेड़ हमें देशभक्ति में हम डूबे है।
Rj Anand Prajapati
संस्कारों की पाठशाला
संस्कारों की पाठशाला
Dr. Pradeep Kumar Sharma
"चार पैरों वाला मेरा यार"
Lohit Tamta
कब भोर हुई कब सांझ ढली
कब भोर हुई कब सांझ ढली
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
बेपनाह थी मोहब्बत, गर मुकाम मिल जाते
बेपनाह थी मोहब्बत, गर मुकाम मिल जाते
Aditya Prakash
नारी शक्ति
नारी शक्ति
DR ARUN KUMAR SHASTRI
जय श्री राम।
जय श्री राम।
Anil Mishra Prahari
किसी एक के पीछे भागना यूं मुनासिब नहीं
किसी एक के पीछे भागना यूं मुनासिब नहीं
Dushyant Kumar Patel
इंडिया ने परचम लहराया दुनियां में बेकार गया।
इंडिया ने परचम लहराया दुनियां में बेकार गया।
सत्य कुमार प्रेमी
रात अज़ब जो स्वप्न था देखा।।
रात अज़ब जो स्वप्न था देखा।।
पाण्डेय चिदानन्द "चिद्रूप"
हर बार मेरी ही किस्मत क्यो धोखा दे जाती हैं,
हर बार मेरी ही किस्मत क्यो धोखा दे जाती हैं,
Vishal babu (vishu)
"आशा" के दोहे '
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
दूरी सोचूं तो...
दूरी सोचूं तो...
Raghuvir GS Jatav
अपने प्रयासों को
अपने प्रयासों को
Dr fauzia Naseem shad
आजा आजा रे कारी बदरिया
आजा आजा रे कारी बदरिया
Indu Singh
पृथ्वी
पृथ्वी
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
पावस में करती प्रकृति,
पावस में करती प्रकृति,
Mahendra Narayan
बीत गया सो बीत गया...
बीत गया सो बीत गया...
डॉ.सीमा अग्रवाल
जब तू रूठ जाता है
जब तू रूठ जाता है
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
अंदाज़े बयाँ
अंदाज़े बयाँ
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
मिटे क्लेश,संताप दहन हो ,लगे खुशियों का अंबार।
मिटे क्लेश,संताप दहन हो ,लगे खुशियों का अंबार।
Neelam Sharma
प्रकृति ने
प्रकृति ने
Dr. Kishan tandon kranti
बिहार–झारखंड की चुनिंदा दलित कविताएं (सम्पादक डा मुसाफ़िर बैठा & डा कर्मानन्द आर्य)
बिहार–झारखंड की चुनिंदा दलित कविताएं (सम्पादक डा मुसाफ़िर बैठा & डा कर्मानन्द आर्य)
Dr MusafiR BaithA
अच्छा कार्य करने वाला
अच्छा कार्य करने वाला
नेताम आर सी
■ आप भी बनें सजग, उठाएं आवाज़
■ आप भी बनें सजग, उठाएं आवाज़
*प्रणय प्रभात*
ऐ ज़िन्दगी ..
ऐ ज़िन्दगी ..
Dr. Seema Varma
Loading...