Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
26 Jun 2019 · 4 min read

घर की इज्जत

आज के समय में मैं एक ऐसे मुद्दे को आवाज देने जा रहा हूँ। जिसकी जरूरत हर किसी को है।

आज मैं यह देख रहा हूं कि आज कि समाज में हर लोग अपने इज्जत को चार चांद लगाना चाहते हैं। जबकि दूसरे की इज्जत को वह अपना रखेल बनाना चाहते हैं और महिला भी काहे को इसमें पीछे रहने जाए। कहा जाता है कि घर की इज्जत को यदि बनाना चाहे तो महिला ही उसे बना सकती है और बिगाड़ना भी उन्हीं के हाथों में है। औरत यदि चाहे तो वह अपने घर की इज्जत में चार चांद लगा सकती है और वह चाहे तो मिट्टी में मिला सकती है। इसी पर आधारित एक लघु कहानी मैं आप लोगों के आगे परोसने जा रहा हूं।

एक दिन की बात यह है कि एक गांव में पांच सदस्य वाली एक परिवार था जिसके घर में सब कुछ अच्छा चल रहा था। पर अचानक ऐसी घटना घटी की परिवार को छिन्न-भिन्न कर दिया।

यह कहानी मोतीपुर गांव की है। यह तत्कालिक घटना है. पर ऐसी घटना अब केवल उसी गांव में नहीं बल्कि हर गांव में घट रही है जो मैं आज बताने जा रहा हूं

गर्मी का मौसम था। रात का समय था। उसी रात में चंद्रमा ने अपनी शीतल प्रकाश फैलाया था। उसी अजोरिया की रात में उस घर के मुखिया सदस्य यानी पति पत्नी द्वार पर सोए हुए थे और उस घर में एक लड़की थी जिसकी बड़े भैया का विवाह हो चुका था जिसके कारण उसका बड़ा भाई घर में सोता था और उस लड़की के माता-पिता गर्मी के कारण द्वार पर सोते थे तथा वह लड़की द्वारघारा में सोती थी। उस लड़की का आचरण खराब था। जिसके चलते उसका कनेक्शन किसी दूसरे लड़के के साथ चलता था पर यह बात परिवार के किसी सदस्य को मालूम नहीं था।

एक दिन ऐसा हुआ. कि रोज की तरह उस रात भी उस लड़की के माता-पिता द्वार पर सोए हुए थे जबकि बड़ा भाई घर के अंदर सोया हुआ था। तभी वह लड़की उस निस रात में सरेह ओर से आकर जब घर में प्रवेश की तब उसके पिताजी ने शक की निगाह से देखें और अपनी पत्नी को जगाए और इस बात को उससे कहें पर माँ जो थी भोली-भाली। उसने इस शक को सीधे टाल दी। पर बात वहीं पर खत्म नहीं हुआ। वह लड़की आदत से लाचार हो गई थी और रोज-रोज ऐसे मौके का फायदा उठा रही थी और ऐसे ही मौके का फायदा उठाने के लिए दूसरी रात भी जब वह सरेह की ओर से आकर घर में प्रवेश की तो उसके पिताजी ने फिर से देख लिए। इस पर उनके शक को और मजबूती मिली और उसने फिर से अपने पत्नी को जगाए और बोले कि जाकर उससे पूछो कि वह इतनी रात को कहां गई थी। इस बार उसने अपनी लड़की से पूछी तो लड़की ने सीधे से जवाब दिया कि मेरा पेट खराब हो गया था जिसके कारण बाहर गई थी। तो मां ने कहा तूने मुझे क्यों नहीं जगाया. तो उसने कहा कि यदि मैं तुम्हें जब तक जगाती तब तक मेरा तबीयत और खराब हो जाता। इसलिए मैं तुम्हें नहीं जगा पाई और जल्दी में चली गई। इस तरह उस लड़की ने झूठ बोल कर बात को बहला दिया और इस बात पर उस लड़की की मां ने विश्वास कर ली और आकर वह अपने पति को दो-चार टुक खरी-खरी सुना दी। उसने कही कि आप केवल शक करते ही रहते हैं आरे सयान बेटी है और लाज के मारे नहीं जगाती होगी क्योंकि आप और हम यहां एक साथ जो सोते हैं।

इस पर उस लड़की को अब पता चल गया कि अब यदि मैं रात में कहीं गई तो पकड़ी जाऊंगी इसलिए उसने दो – चार रात कहीं नहीं गई। इस पर उसकी मां को शक नहीं हुआ पर उसके पिता का शक अभी मीटा ही नहीं था तब तक पांच रात के बाद सुबह होते ही मालूम पड़ा की वह घर छोड़कर किसी के साथ फरार हो गई है।

इस तरह पूरे गांव,टोले,मोहल्ले में हंगामा मच गया की फालनवा की लड़की किसी के संग फरार हो गई है. इस तरह घर की इज्जत मिट्टी में मिल गई. यदि उस रात उस महिला ने अपने पति की बात पर ज्यादा ध्यान दी होती तो आज ऐसा करनामा देखने को नहीं मिलता. पर उसने अपने पति के बातों पर ध्यान नहीं दिया. जिसका परिणाम यह निकला और उसके पति का शक सही निकला.

इसीलिए कहा जाता है कि हर औरत चाहे तो घर की इज्जत में चार चांद लगा सकती है या उसे मिट्टी में मिला सकती है और यही हुआ भी.
पर मैं इस कहानी के माध्यम से यह संदेश देना चाहता हूं कि आप अपने घर की पैनी नजर रखें और देखे की छोटी सी भूल से कहीं बड़ा सा दाग न लगा जाए.

लेखक – जय लगन कुमार हैप्पी ⛳

Language: Hindi
2 Likes · 1644 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
■ मानवता से दानवता की ओर जाना काहे का विकास?₹
■ मानवता से दानवता की ओर जाना काहे का विकास?₹
*प्रणय प्रभात*
"औरत"
Dr. Kishan tandon kranti
सारे  ज़माने  बीत  गये
सारे ज़माने बीत गये
shabina. Naaz
लफ्ज़
लफ्ज़
Dr Parveen Thakur
गांव का दृश्य
गांव का दृश्य
Mukesh Kumar Sonkar
24/234. *छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
24/234. *छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
जय जय तिरंगा तुझको सलाम
जय जय तिरंगा तुझको सलाम
gurudeenverma198
*
*"देश की आत्मा है हिंदी"*
Shashi kala vyas
आरुष का गिटार
आरुष का गिटार
shivanshi2011
तुझे नेकियों के मुँह से
तुझे नेकियों के मुँह से
Shweta Soni
लड़कियों की जिंदगी आसान नहीं होती
लड़कियों की जिंदगी आसान नहीं होती
Adha Deshwal
लड़को की योग्यता पर सवाल क्यो
लड़को की योग्यता पर सवाल क्यो
भरत कुमार सोलंकी
प्रेम की पेंगें बढ़ाती लड़की / मुसाफ़िर बैठा
प्रेम की पेंगें बढ़ाती लड़की / मुसाफ़िर बैठा
Dr MusafiR BaithA
शिक्षा सकेचन है व्यक्तित्व का,पैसा अधिरूप है संरचना का
शिक्षा सकेचन है व्यक्तित्व का,पैसा अधिरूप है संरचना का
पूर्वार्थ
जीनते भी होती है
जीनते भी होती है
SHAMA PARVEEN
जब गेंद बोलती है, धरती हिलती है, मोहम्मद शमी का जादू, बयां क
जब गेंद बोलती है, धरती हिलती है, मोहम्मद शमी का जादू, बयां क
Sahil Ahmad
मुझको अपनी शरण में ले लो हे मनमोहन हे गिरधारी
मुझको अपनी शरण में ले लो हे मनमोहन हे गिरधारी
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
स्वयं से करे प्यार
स्वयं से करे प्यार
Dr fauzia Naseem shad
"राज़" ग़ज़ल
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
तू ही मेरा रहनुमा है
तू ही मेरा रहनुमा है
Monika Arora
ऐ दिल सम्हल जा जरा
ऐ दिल सम्हल जा जरा
Anjana Savi
प्रेम.....
प्रेम.....
हिमांशु Kulshrestha
*छुट्टी गर्मी की हुई, वर्षा का आनंद (कुंडलिया / बाल कविता)*
*छुट्टी गर्मी की हुई, वर्षा का आनंद (कुंडलिया / बाल कविता)*
Ravi Prakash
चाय में इलायची सा है आपकी
चाय में इलायची सा है आपकी
शेखर सिंह
मैं रात भर मैं बीमार थीऔर वो रातभर जागती रही
मैं रात भर मैं बीमार थीऔर वो रातभर जागती रही
Dr Manju Saini
माँ तुम्हारे रूप से
माँ तुम्हारे रूप से
Dr. Rajendra Singh 'Rahi'
सच्चे हमराह और हमसफ़र दोनों मिलकर ही ज़िंदगी के पहियों को सह
सच्चे हमराह और हमसफ़र दोनों मिलकर ही ज़िंदगी के पहियों को सह
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
एक ऐसे कथावाचक जिनके पास पत्नी के अस्थि विसर्जन तक के लिए पै
एक ऐसे कथावाचक जिनके पास पत्नी के अस्थि विसर्जन तक के लिए पै
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
गांव
गांव
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
🍁
🍁
Amulyaa Ratan
Loading...