Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
2 Feb 2024 · 1 min read

घनाक्षरी गीत…

जीवन हुआ है भारी, लुटतीं खुशियाँ सारी, विरह-विदग्धा नारी, प्रिय को पुकारती।

कहाँ गए तुम नाथ, क्यों छोड़ गए यूँ साथ, झुकाऊँ कहाँ ये माथ, सोच न मन पावे।
रो-रोकर बीते रात, दग्ध मन अकुलात, मदन मंद मुस्कात, चैन न चित्त आवे।
मन में भरे उमंग, सखियाँ प्रिय के संग, नाचत मोड़ के अंग, कंटक बुहारती।
जीवन हुआ है भारी, लुटतीं खुशियाँ सारी, विरह-विदग्धा नारी, प्रिय को पुकारती।

मदन लगाए घात, करे बहुत उत्पात, शुष्क अधर औ गात, विरह झुलसावे।
देख ये दशा विचित्र, सखि छिड़कती इत्र, निरख प्रिय का चित्र, धीर न धर पावे।
प्रफुल्लित दिग्दिगंत,आया है देखो बसंत, आओ न अब तो कंत, राह मैं निहारती।
जीवन हुआ है भारी, लुटतीं खुशियाँ सारी, विरह-विदग्धा नारी, प्रिय को पुकारती।

सम्मुख खड़ा बसंत, आए नहीं घर कंत, करो कृपा भगवंत, राह सुझाओ कोई।
आए न मुँह में बैन, तड़पूँ मैं दिन-रैन, गया कहाँ सुख-चैन, कब से नहीं सोई।
पड़ी मुश्किल में जान, करते प्रान पयान, पाऊँ किस विध त्राण, मन में विचारती।
जीवन हुआ है भारी, लुटतीं खुशियाँ सारी, विरह-विदग्धा नारी, प्रिय को पुकारती।

© सीमा अग्रवाल
मुरादाबाद ( उ.प्र. )

Language: Hindi
1 Like · 90 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from डॉ.सीमा अग्रवाल
View all
You may also like:
अपनी वाणी से :
अपनी वाणी से :
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
मैं चला बन एक राही
मैं चला बन एक राही
AMRESH KUMAR VERMA
💐प्रेम कौतुक-361💐
💐प्रेम कौतुक-361💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
ओढ़े  के  भा  पहिने  के, तनिका ना सहूर बा।
ओढ़े के भा पहिने के, तनिका ना सहूर बा।
संजीव शुक्ल 'सचिन'
मुश्किलों से क्या
मुश्किलों से क्या
Dr fauzia Naseem shad
संदेशा
संदेशा
manisha
* कैसे अपना प्रेम बुहारें *
* कैसे अपना प्रेम बुहारें *
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
ख़ुश-फ़हमी
ख़ुश-फ़हमी
Fuzail Sardhanvi
"भुला ना सके"
Dr. Kishan tandon kranti
👌आज का शेर —
👌आज का शेर —
*Author प्रणय प्रभात*
राधा अष्टमी पर कविता
राधा अष्टमी पर कविता
कार्तिक नितिन शर्मा
प्रेम एकता भाईचारा, अपने लक्ष्य महान हैँ (मुक्तक)
प्रेम एकता भाईचारा, अपने लक्ष्य महान हैँ (मुक्तक)
Ravi Prakash
करनी का फल
करनी का फल
Dr. Pradeep Kumar Sharma
Girvi rakh ke khud ke ashiyano ko
Girvi rakh ke khud ke ashiyano ko
Sakshi Tripathi
देखा है।
देखा है।
Shriyansh Gupta
2275.
2275.
Dr.Khedu Bharti
जीवन से ओझल हुए,
जीवन से ओझल हुए,
sushil sarna
-- प्यार --
-- प्यार --
गायक - लेखक अजीत कुमार तलवार
कालजयी रचनाकार
कालजयी रचनाकार
Shekhar Chandra Mitra
चोट
चोट
आकांक्षा राय
पुरातत्वविद
पुरातत्वविद
Kunal Prashant
आँखें दरिया-सागर-झील नहीं,
आँखें दरिया-सागर-झील नहीं,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
आ गई रंग रंगीली, पंचमी आ गई रंग रंगीली
आ गई रंग रंगीली, पंचमी आ गई रंग रंगीली
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
ऑनलाईन शॉपिंग।
ऑनलाईन शॉपिंग।
लक्ष्मी सिंह
माँ शारदे
माँ शारदे
Bodhisatva kastooriya
एकादशी
एकादशी
Shashi kala vyas
मन को आनंदित करे,
मन को आनंदित करे,
Rashmi Sanjay
कल चाँद की आँखों से तन्हा अश्क़ निकल रहा था
कल चाँद की आँखों से तन्हा अश्क़ निकल रहा था
'अशांत' शेखर
गुरु स्वयं नहि कियो बनि सकैछ ,
गुरु स्वयं नहि कियो बनि सकैछ ,
DrLakshman Jha Parimal
नानी की कहानी होती,
नानी की कहानी होती,
Satish Srijan
Loading...