Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
16 Aug 2022 · 1 min read

घडी़ की टिक-टिक⏱️⏱️

घडी़ की टिक-टिक भी,
हमें बहुत कुछ सिखलाती है,
जीवन की चिक-चिक में,
चलना बतलाती है ।

रुकना ना जिंदगी की दौड़ में कभी,
भटकना मत भौतिक चकाचौंध मैं ।
वक्त के साथ कदम मिलाकर,
चलना सिखलाती है।

आऐंगे जीवन में अवरोध बहुत,
घबराना न मुश्किलों में कभी ।
जीवन में नित नये संघर्ष खडे़ ,
कर विवेक का उपयोग सही ।।

टिक-टिक की तरह ठहर क्षण भर,
नये उत्साह से फिर आगे बढ़ ।
दूर हो जाऐगी व्याधियां सारी,
साहस, संयम से आगे बढ़ ।।

डां. अखिलेश बघेल
दतिया (म.प्र.)

Language: Hindi
2 Likes · 316 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
बात खो गई
बात खो गई
भवानी सिंह धानका 'भूधर'
"कष्ट"
नेताम आर सी
अधखिला फूल निहार रहा है
अधखिला फूल निहार रहा है
VINOD CHAUHAN
अस्मिता
अस्मिता
Shyam Sundar Subramanian
तुम नहीं बदले___
तुम नहीं बदले___
Rajesh vyas
मोदी जी
मोदी जी
Shivkumar Bilagrami
न जल लाते हैं ये बादल(मुक्तक)
न जल लाते हैं ये बादल(मुक्तक)
Ravi Prakash
अजब तमाशा जिन्दगी,
अजब तमाशा जिन्दगी,
sushil sarna
शक्ति का पूंजी मनुष्य की मनुष्यता में है।
शक्ति का पूंजी मनुष्य की मनुष्यता में है।
प्रेमदास वसु सुरेखा
आउट करें, गेट आउट करें
आउट करें, गेट आउट करें
Dr MusafiR BaithA
#ग़ज़ल
#ग़ज़ल
*Author प्रणय प्रभात*
गुरु और गुरू में अंतर
गुरु और गुरू में अंतर
Subhash Singhai
"वक्त-वक्त की बात"
Dr. Kishan tandon kranti
बिंदी
बिंदी
Satish Srijan
#justareminderekabodhbalak
#justareminderekabodhbalak
DR ARUN KUMAR SHASTRI
फलक भी रो रहा है ज़मीं की पुकार से
फलक भी रो रहा है ज़मीं की पुकार से
Mahesh Tiwari 'Ayan'
किसी का खौफ नहीं, मन में..
किसी का खौफ नहीं, मन में..
अरशद रसूल बदायूंनी
💐प्रेम कौतुक-326💐
💐प्रेम कौतुक-326💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
अजीब होता है बुलंदियों का सबब
अजीब होता है बुलंदियों का सबब
कवि दीपक बवेजा
जुदाई
जुदाई
Dr. Seema Varma
"सफलता कुछ करने या कुछ पाने में नहीं बल्कि अपनी सम्भावनाओं क
पूर्वार्थ
जुबां पर मत अंगार रख बरसाने के लिए
जुबां पर मत अंगार रख बरसाने के लिए
Anil Mishra Prahari
माँ तेरा ना होना
माँ तेरा ना होना
shivam kumar mishra
लोग कहते हैं खास ,क्या बुढों में भी जवानी होता है।
लोग कहते हैं खास ,क्या बुढों में भी जवानी होता है।
डॉ विजय कुमार कन्नौजे
आसा.....नहीं जीना गमों के साथ अकेले में
आसा.....नहीं जीना गमों के साथ अकेले में
Deepak Baweja
आँखें
आँखें
लक्ष्मी सिंह
मुझे पढ़ने का शौक आज भी है जनाब,,
मुझे पढ़ने का शौक आज भी है जनाब,,
Seema gupta,Alwar
आइसक्रीम के बहाने
आइसक्रीम के बहाने
Dr. Pradeep Kumar Sharma
প্রতিদিন আমরা নতুন কিছু না কিছু শিখি
প্রতিদিন আমরা নতুন কিছু না কিছু শিখি
Arghyadeep Chakraborty
शायरी 2
शायरी 2
SURYA PRAKASH SHARMA
Loading...