Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
26 Sep 2016 · 1 min read

गज़ल:–मदमस्त हसीना/मंदीप

मदमस्त हसीना/मंदीप

देख तेरे हुसन की लालिमा सारी फिजा मदहोस हो जाये,
चले जब तू ये हसींन कुदरत भी सरमा जाये।

सान,सकल ऐसी हो संगेमरमर की कोई मूर्त्त,
तुम को जो देखे वो कभी भुला न पाये।

जहाँ से भी गुजरें तू मदमस्त हसीना,
वो समा वो पल वही थम जाये ।

देख तेरे होंटो की खूबसूरत हँसी,
उपवन का हर एक फूल खिल जाये।

अगर मिल जा जाओ मोहिनी एक बार,
“मंदीप्”की भी जिंदगी सवर जाये।

मंदीपसाई

222 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
प्यारा भारत देश हमारा
प्यारा भारत देश हमारा
Dr. Pradeep Kumar Sharma
मुस्कराते हुए गुजरी वो शामे।
मुस्कराते हुए गुजरी वो शामे।
कुमार
जाने दिया
जाने दिया
Kunal Prashant
If you do things the same way you've always done them, you'l
If you do things the same way you've always done them, you'l
Vipin Singh
एक कदम सफलता की ओर...
एक कदम सफलता की ओर...
Manoj Kushwaha PS
तुम हकीकत में वहीं हो जैसी तुम्हारी सोच है।
तुम हकीकत में वहीं हो जैसी तुम्हारी सोच है।
Rj Anand Prajapati
"ऐ मेरे बचपन तू सुन"
Dr. Kishan tandon kranti
रात में कर देते हैं वे भी अंधेरा
रात में कर देते हैं वे भी अंधेरा
सिद्धार्थ गोरखपुरी
सच तो तेरा मेरा प्यार हैं।
सच तो तेरा मेरा प्यार हैं।
Neeraj Agarwal
मुझे तेरी जरूरत है
मुझे तेरी जरूरत है
Basant Bhagawan Roy
"सेवानिवृत कर्मचारी या व्यक्ति"
Dr Meenu Poonia
"बरसाने की होली"
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
बड़े होते बच्चे
बड़े होते बच्चे
Manu Vashistha
सड़क
सड़क
SHAMA PARVEEN
■ मजबूरी किस की...?
■ मजबूरी किस की...?
*Author प्रणय प्रभात*
राम आ गए
राम आ गए
ओमप्रकाश भारती *ओम्*
अज्ञेय अज्ञेय क्यों है - शिवकुमार बिलगरामी
अज्ञेय अज्ञेय क्यों है - शिवकुमार बिलगरामी
Shivkumar Bilagrami
कह कर गुजर गई उस रास्ते से,
कह कर गुजर गई उस रास्ते से,
Shakil Alam
ग़ज़ल
ग़ज़ल
ईश्वर दयाल गोस्वामी
चॉकलेट
चॉकलेट
सुरेश अजगल्ले"इंद्र"
“ फेसबुक के दिग्गज ”
“ फेसबुक के दिग्गज ”
DrLakshman Jha Parimal
💐अज्ञात के प्रति-44💐
💐अज्ञात के प्रति-44💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
जब भी बुलाओ बेझिझक है चली आती।
जब भी बुलाओ बेझिझक है चली आती।
Ahtesham Ahmad
शिक्षक की भूमिका
शिक्षक की भूमिका
Rajni kapoor
लम्बा पर सकडा़ सपाट पुल
लम्बा पर सकडा़ सपाट पुल
Seema gupta,Alwar
11कथा राम भगवान की, सुनो लगाकर ध्यान
11कथा राम भगवान की, सुनो लगाकर ध्यान
Dr Archana Gupta
गौर फरमाइए
गौर फरमाइए
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
*गूगल को गुरु मानिए, इसका ज्ञान अथाह (कुंडलिया)*
*गूगल को गुरु मानिए, इसका ज्ञान अथाह (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
लंगोटिया यारी
लंगोटिया यारी
Sandeep Pande
**सिकुड्ता व्यक्तित्त्व**
**सिकुड्ता व्यक्तित्त्व**
DR ARUN KUMAR SHASTRI
Loading...