Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
30 Jun 2016 · 1 min read

गज़ल (बोल)

गज़ल (बोल)

उसे हम बोल क्या बोलें जो दिल को दर्द दे जाये
सुकूं दे चैन दे दिल को , उसी को बोल बोलेंगें

जीवन के सफ़र में जो मुसीबत में भी अपना हो
राज ए दिल मोहब्बत के, उसी से यार खोलेंगें

जब अपनों से और गैरों से मिलते हाथ सबसे हों
किया जिसने भी जैसा है , उसी से यार तोलेंगें

अपना क्या, हम तो बस, पानी की ही माफिक हैं
मिलेगा प्यार से हमसे ,उसी के यार होलेंगें

जितना हो जरुरी ऱब, मुझे उतनी रोशनी देना
अँधेरे में भी डोलेंगें उजालें में भी डोलेंगें

मदन मोहन सक्सेना

184 Views
You may also like:
एक सुबह की किरण
Deepak Baweja
माँ की ममता
gurudeenverma198
मौला मेरे मौला
DR ARUN KUMAR SHASTRI
If We Are Out Of Any Connecting Language.
Manisha Manjari
पुराना है
AJAY PRASAD
इंतजार से बेहतर है कोशिश करना
कवि दीपक बवेजा
✍️कर्म से ही वजूद…
'अशांत' शेखर
कौन आएगा
Dhirendra Panchal
सच्ची दीवाली
rkchaudhary2012
हवाई जहाज
Buddha Prakash
पर्यावरण बचाओ रे
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
विश्व पृथ्वी दिवस
Dr Archana Gupta
हर युग में जय जय कार
जगदीश लववंशी
पिता
विजय कुमार 'विजय'
बचपन बेटी रूप में
लक्ष्मी सिंह
दीये की बाती
सूर्यकांत द्विवेदी
#आर्या को जन्मदिन की बधाई#
rubichetanshukla रुबी चेतन शुक्ला
श्री रामनामी दोहा
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
हाल मत पूछ
Dr fauzia Naseem shad
भीगे अरमाँ भीगी पलकें
VINOD KUMAR CHAUHAN
दस्तूर
Rashmi Sanjay
मुझे लौटा दो वो गुजरा जमाना ...
ओनिका सेतिया 'अनु '
मैं तो सड़क हूँ,...
मनोज कर्ण
रुकना हमारा कर्म नहीं
AMRESH KUMAR VERMA
अंतिमदर्शन
विनोद सिन्हा "सुदामा"
मान जा ओ मां मेरी
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
आतुरता
अंजनीत निज्जर
अंधेरे के सौदागर
Shekhar Chandra Mitra
*आजादी (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
बिना दीवारों दर के बने हमनें मकां देखें हैं।
Taj Mohammad
Loading...