Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
4 Mar 2017 · 1 min read

गज़ल :– जिसनें जाना है दाम फूलों का ।।

गज़ल :– करता मदहोश जाम फूलों का ।
बहर :—–
2122—1212—22

जिस नें जाना है दाम फूलों का ।
बन गया वो गुलाम फूलों का ।

हुस्न है , नूर नौजवानी है ।
करता मदहोश जाम फूलों का ।

जिसके दामन में प्यार हो हरदम ।
उसने पाया मुकाम फूलों का ।

फूल ही फूल हो गुलिश्तां में ।
हर जुबां पर हो नाम फूलों का ।

खिल उठेगी यहाँ गज़ल मेरी ।
लिख रहा हूँ कलाम फूलों का ।

गज़लकार :– अनुज तिवारी “इंदवार “

1 Like · 723 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
"क्रोध"
Dr. Kishan tandon kranti
* जिन्दगी में *
* जिन्दगी में *
surenderpal vaidya
अब नये साल में
अब नये साल में
डॉ. शिव लहरी
Dr अरुण कुमार शास्त्री
Dr अरुण कुमार शास्त्री
DR ARUN KUMAR SHASTRI
अंतिम साँझ .....
अंतिम साँझ .....
sushil sarna
M.A वाले बालक ने जब तलवे तलना सीखा था
M.A वाले बालक ने जब तलवे तलना सीखा था
प्रेमदास वसु सुरेखा
अजन्मी बेटी का प्रश्न!
अजन्मी बेटी का प्रश्न!
Anamika Singh
घर-घर ओमप्रकाश वाल्मीकि (स्मारिका)
घर-घर ओमप्रकाश वाल्मीकि (स्मारिका)
Dr. Narendra Valmiki
शिव अविनाशी, शिव संयासी , शिव ही हैं शमशान निवासी।
शिव अविनाशी, शिव संयासी , शिव ही हैं शमशान निवासी।
Gouri tiwari
राजनीति
राजनीति
Bodhisatva kastooriya
मेरे बस्ती के दीवारों पर
मेरे बस्ती के दीवारों पर
'अशांत' शेखर
पत्नीजी मायके गयी,
पत्नीजी मायके गयी,
Satish Srijan
व्यस्तता जीवन में होता है,
व्यस्तता जीवन में होता है,
Buddha Prakash
जाने कहां गई वो बातें
जाने कहां गई वो बातें
Suryakant Dwivedi
एक शाम ठहर कर देखा
एक शाम ठहर कर देखा
Kunal Prashant
पत्रकार
पत्रकार
Kanchan Khanna
स्त्री न देवी है, न दासी है
स्त्री न देवी है, न दासी है
Manju Singh
राष्ट्र पिता महात्मा गाँधी
राष्ट्र पिता महात्मा गाँधी
लक्ष्मी सिंह
"कष्ट"
नेताम आर सी
*शरीर : आठ दोहे*
*शरीर : आठ दोहे*
Ravi Prakash
अश्रुऔ की धारा बह रही
अश्रुऔ की धारा बह रही
Harminder Kaur
हौंसले को समेट कर मेघ बन
हौंसले को समेट कर मेघ बन
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
12- अब घर आ जा लल्ला
12- अब घर आ जा लल्ला
Ajay Kumar Vimal
3253.*पूर्णिका*
3253.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
शिक्षक दिवस
शिक्षक दिवस
पाण्डेय चिदानन्द "चिद्रूप"
प्रभु राम मेरे सपने मे आये संग मे सीता माँ को लाये
प्रभु राम मेरे सपने मे आये संग मे सीता माँ को लाये
Satyaveer vaishnav
😊 लघुकथा :--
😊 लघुकथा :--
*Author प्रणय प्रभात*
कोरोना और मां की ममता (व्यंग्य)
कोरोना और मां की ममता (व्यंग्य)
Dr. Pradeep Kumar Sharma
ज़िंदगी तज्रुबा वो देती है
ज़िंदगी तज्रुबा वो देती है
Dr fauzia Naseem shad
पतझड़ के मौसम हो तो पेड़ों को संभलना पड़ता है
पतझड़ के मौसम हो तो पेड़ों को संभलना पड़ता है
कवि दीपक बवेजा
Loading...